Assembly Banner 2021

Mathura News: श्रीकृष्ण विराजमान मामले की सुनवाई अब 22 अप्रैल को करेगा मथुरा कोर्ट

श्रीकृष्ण विराजमान की याचिका पर अब 22 अप्रैल को होगी सुनवाई. (फाइल फोटो)

श्रीकृष्ण विराजमान की याचिका पर अब 22 अप्रैल को होगी सुनवाई. (फाइल फोटो)

मथुरा की अदालत में श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि जहां अभी शाही ईदगाह मस्जिद है, उस पौराणिक स्थल पर वह कारागार है, जहां भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था. याचिका के जरिये 13.37 एकड़ जमीन पर स्वामित्व दिलाने की मांग की गई है.

  • Share this:
मथुरा. देश के अन्य राज्यों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी कोरोना वायरस का संक्रमण फिर से तेजी से फैलने लगा है. इसका असर आम लोगों के काम-काज, सरकारी दफ्तरों के साथ-साथ अदालतों पर भी साफ दिखाई दे रहा है. कोरोना की वजह से ही आज मथुरा की अदालत में श्रीकृष्ण विराजमान की याचिका की सुनवाई के लिए नई तारीख दी गई. मथुरा कोर्ट ने आगामी 22 अप्रैल को सुनवाई की नई तारीख दी है. बिना सुने अगली तारीख मिल जाने के वजह से याचिकाकर्ता विष्णु जैन मायूस दिखाई दिए.

आपको बता दें कि मथुरा कोर्ट में श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से याचिका दाखिल की गई है, जिसमें कहा गया है कि जिस जगह मुगल बादशाह औरंगजेब के शासनकाल में शाही ईदगाह मस्जिद बनाई गई, वह पौराणिक स्थल है. इसी स्थान पर वह ऐतिहासिक कारागार है, जहां भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. याचिकाकर्ता ने यह दलील भी दी है कि इस स्थान को पहले केशव देवजी का टीला के नाम से जाना जाता था. याचिका में श्रीकृष्ण जन्मभूमि की 13.37 एकड़ जमीन पर स्वामित्व दिलाने की भी मांग की गई है.

गौरतलब है कि श्रीकृष्ण विराजमान और शाही ईदगाह के बीच विवाद को लेकर सबसे पहली याचिका श्रीकृष्ण विराजमान द्वारा दायर की गई थी. सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत ने इस याचिका को पहले खारिज कर दिया था. लेकिन जिला जज की अदालत में अपील के बाद मामले की सुनवाई के आदेश दिए गए. श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से दायर याचिका में मंदिर और मस्जिद के बीच हुए समझौते को गलत बताया गया है. इसी विवाद की सुनवाई अब मथुरा कोर्ट 22 अप्रैल को करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज