अपना शहर चुनें

States

मथुरा: मंदिर में नमाज पढ़ने के मामले ने पकड़ा तूल, साधु-संतों के आक्रोश के बाद मुकदमा दर्ज

मथुरा के मंदिर में नमाज पढ़ने के मामले ने पकड़ा तूल
मथुरा के मंदिर में नमाज पढ़ने के मामले ने पकड़ा तूल

Mathura News: इस मामले में एक पहलू यह भी निकल कर आया है कि जिस फेसबुक आईडी से यह फोटो वायरल की गई थी, वह मथुरा के मां टोल पर पकड़े गए चार पीएफआई संदिग्धों के अधिवक्ता की है.

  • Share this:
मथुरा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा (Mathura) जनपद के थाना बरसाना क्षेत्र अंतर्गत आनंद गांव के आनंद भवन स्थित मंदिर में दिल्ली निवासी फैजल व उसके मित्र चांद के द्वारा नमाज़ पढ़े जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है. अब इस मामले में मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस (Police) ने आरोपी युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. साथ ही एसएसपी ने इस पूरे प्रकरण की जांच खुफिया विभाग को भी सौंपी है. मंदिर में नमाज पढ़ने और उसकी फोटो वीडियो वायरल करने के पीछे आखिर क्या मंशा थी अब इसकी भी जांच की जा रही है.

पीएफआई संदिग्धों के अधिवक्ता ने की तस्वीर वायरल

इस मामले में एक पहलू यह भी निकल कर आया है कि जिस फेसबुक आईडी से यह फोटो वायरल की गई थी, वह मथुरा के मां टोल पर पकड़े गए चार पीएफआई संदिग्धों के अधिवक्ता की है. उधर मंदिर में नमाज पढ़ने का मामला वायरल होने के बाद हिंदूवादी संगठनों व साधु-संतों में भारी आक्रोश है और उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लेने के लिए प्रशासन से अनुरोध किया है. काशी विद्युत परिषद के पश्चिम क्षेत्र के प्रभारी काली नागिन महाराज ने पुलिस अधिकारियों एवं जिला प्रशासन से अनुरोध किया है कि इन लोगों ने दो तरफा गलत काम किया है. पहला उन्होंने मंदिर में नमाज़ पढ़ा और दूसरा उन्होंने इसकी फोटो भी खिंची. मंदिर में नमाज पढ़ा जाना कदापि अनुचित है . उन्होंने इस मामले में सख्त कार्रवाई की मांग करते हुए सच्चाई सामने लाने की बात कही है.

ये है मामला



गौरतलब है कि मंदिर में नमाज पढ़े जाने की यह तस्वीर थाना बरसाना स्थित नंदगांव के नंद महल मंदिर की है. मंदिर में नमाज पढ़े जाने की इन तस्वीरों के बारे में मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी ने बताया कि 29 अक्टूबर को 4 युवक नंदगांव मंदिर जरूर आये थे, जिसमें से एक युवक ने टोपी लगा रखी थी. टोपी लगाए युवक को मंदिर में देख हम भी हैरान हुए थे. टोपी में मंदिर में आने पर फैजल ने पुजारी से कहा कि क्या कृष्ण आपके ही है. कृष्ण हम सबके है. इसके बाद फैजल ने पुजारी वहां खड़े लोगों को रामायण की कई चौपाई भी सुनाई थी. जानकारी पर दिल्ली निवासी युवको ने बताया कि वह साइकिल से ब्रज चौरासी कोस यात्रा करने आये है. दर्शन व बातचीत के उपरांत मंदिर के पुजारी ने प्रसाद दी और उसके बाद चरों युवक दर्शन कर मंदिर परिसर में घूमते हुए आगे चले गए. अब जानकारी लोगों के फोन व सोशल मीडिया से हो रही है कि उन युवकों ने मंदिर के किसी कोने में नमाज पढ़ी. सेवायत कान्हा ने बताया कि जानकारी होने पर यह भी बात सामने आई है कि वहां खड़े लोगों ने नमाज पढ़ने के लिए मना किया था. बताया जा रहा है कि फैजल खान के अलावा चांद व गांधीवादी कार्यकर्ता नीलेश गुप्ता व आलोक रत्न भी मौजूद थे. लेकिन अब तस्वीरों के वायरल होने से हिंदूवादी लोगों में आक्रोश है. वहीं कौमी एकता मंच के मधुबन दत्त चतुर्वेदी ने इसे भाईचारे की मिसाल बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज