मथुरा: शिक्षक भर्ती घोटाले में राजवीर गिरफ्तार

पकड़े गए आरोपी राजवीर से लैपटॉप, यूपीएस मॉनिटर, सीपीयू, इको स्पोर्ट्स कार, अभ्यर्थियों की लिस्ट, दो डायरी और मोबाइल बरामद किए गए हैं. राजवीर ने बताया कि 1.15 करोड़ रुपए भर्ती कराने के लिए लिए गए थे.


Updated: July 25, 2018, 4:31 PM IST

Updated: July 25, 2018, 4:31 PM IST
मथुरा में हुए शिक्षक भर्ती घोटाले के एक और आरोपी राजवीर को एसटीएफ की टीम ने मंगलवार देर रात कर लिया. पकड़े गए आरोपी से कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं. मामला फर्जी दस्तावेज तैयार कराकर शिक्षकों की तैनाती कराने का है. 108 फर्जी शिक्षक मथुरा जनपद में चिन्हित किए गए हैं. मुकदमा दर्ज करके एसटीएफ की टीम आरोपी से पूछताछ कर रही है.

पकड़े गए आरोपी राजवीर से लैपटॉप, यूपीएस मॉनिटर, सीपीयू, इको स्पोर्ट्स कार, अभ्यर्थियों की लिस्ट, दो डायरी और मोबाइल बरामद किए गए हैं. राजवीर ने बताया कि 1.15 करोड़ रुपए भर्ती कराने के लिए लिए गए थे. मथुरा में 2015 में हुए शिक्षक भर्ती घोटाले में 156 शिक्षकों की तैनाती की जानी थी. बीएसए कार्यालय में तैनात लिपिक महेश बाबू ने बड़ा गेम खेल कर फर्जी शिक्षकों के दस्तावेज तैयार कराएं और जनपद में दर्जनों की संख्या में शिक्षकों की तैनाती कराई.

प्रदेश की एसटीएफ टीम मामले की जांच कर रही है. मथुरा जनपद में 108 फर्जी शिक्षकों को चिन्हित करके मुकदमा कराया जा चुका है. एसटीएफ की टीम ने बुधवार देर रात कई इलाकों में छापामार कार्रवाई की है जिसमें राजवीर को रुक्मणी बिहार सेवासदन के पास से गिरफ्तार किया गया.

ये भी पढ़ें - 

आज ही यूपी के 1.70 लाख शिक्षामित्रों की गई थी नौकरी, साल भर में 700 की गई जान

अयोध्या में लगेगी 153 मीटर ऊंची भगवान श्रीराम की प्रतिमा, CM योगी जल्द करेंगे शिलान्यास

यूपी के इस जिले में लगती है भूतों की अदालत, फांसी तक की दी जाती है सजा

एसटीएफ की टीम ने 19 जून को पहली कार्रवाई में मास्टरमाइंड महेश शर्मा और फर्जी शिक्षक पुष्पेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया. उसके बाद पुलिस 9 शिक्षकों को पकड़ कर जेल भेज चुकी है. मामले में अधिकारियों की संलिप्तता है.

बीएसए संजीव कुमार को भी तत्काल निलंबित कर दिया गया है. मामले की जांच लखनऊ एसटीएफ टीम कर रही है. मथुरा के विकासखंड राया में 17, बलदेव में 12, छाता में 26, नंदगांव में 16, मांट, नौहझील, फरह में 4, गोवर्धन में दो और मथुरा ब्लॉक में दो फर्जी शिक्षक तैनात किए गए थे. एटीएफ की टीम एक-एक करके मामले की परतें खोलने में जुटी हुई है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर