मथुरा: न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में कार्यरत स्टेनोग्राफर ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

उन्होंने बताया कि परिजनों को घटना की जानकारी दे दी गई है.(सांकेतिक फोटो)
उन्होंने बताया कि परिजनों को घटना की जानकारी दे दी गई है.(सांकेतिक फोटो)

स्टेनोग्राफर (Stenographer) ने रविवार की देर शाम छत के पंखे से लटक कर आत्महत्या (Suicide) कर ली. पड़ोसियों ने पता लगने पर पुलिस को इसकी जानकारी दी थी.

  • Share this:
मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में अपर न्यायिक मजिस्ट्रेट (Judicial Magistrate) की अदालत में कार्यरत स्टेनोग्राफर (Stenographer) ने रविवार की देर शाम छत के पंखे से लटक कर आत्महत्या (Suicide) कर ली. पुलिस ने इसकी जानकारी दी. पुलिस ने बताया कि पड़ोसियों ने पता लगने पर पुलिस को इसकी जानकारी दी. पुलिस ने शव को पोस्टमर्टम के ​लिये भेज दिया है.

सदर थाना प्रभारी सत्यपाल सिंह ने बताया कि रविवार की देर शाम घटना का पता चला. उन्होंने बताया कि मरने वाले की पहचान शिव कुमार के रूप में हुयी है. उन्होंने बताया कि कुमार ने आत्मघाती कदम क्यों उठाया है, इसके बारे में पता नहीं चल सका. उन्होंने बताया कि मूल रूप से कौशाम्बी के रहने वाले कुमार ने एक साल पहले ही बतौर स्टेनोग्राफर नौकरी शुरू की थी. वह सिविल लाइंस में ही मकान नंबर 10 में किराए पर रह रहे थे. उन्होंने बताया कि परिजनों को घटना की जानकारी दे दी गई है.

बता दें कि पिछले साल बिजनौर जिले में हमलावरों ने अदालत में घुसकर पेशी पर लाये गये एक आरोपी की ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर हत्या कर दी थी. मर्डर आरोपी को गोली मारने के मामले में 18 पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गए थे. इस वारदात में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गये थे. इस दौरान दूसरा अभियुक्त भीड़ का फायदा उठाकर भाग गया था. इस बीच इस घटना को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राज्य सरकार को घेरा था. पुलिस अधीक्षक (नगर) लक्ष्मी निवास मिश्र ने बताया था कि मंगलवार को दिल्ली की तिहाड़ जेल से दोहरे हत्याकांड के एक मामले के मुख्य अभियुक्त शाहनवाज और उसके साथी जब्बार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट योगेश कुमार की अदालत में पेशी पर लाया गया था. उन्होंने बताया कि इसी दौरान तीन हमलावर न्यायालय के अंदर घुस गये और ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर शाहनवाज की हत्या कर दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज