लाइव टीवी

अनूठी पहल: मथुरा के गिरिराज मंदिर में चढ़ने वाला दूध अब अनाथों और शहीदों के परिवार को जाएगा
Mathura News in Hindi

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: March 4, 2019, 12:31 PM IST

मंदिर में रोजाना करीब 10 से 12 हजार लीटर दूध चढ़ाया जाता है. महीने में एक दिन आने वाली पूर्णमासी और दूसरे तीज-त्योहरों पर ये मात्रा दोगुनी हो जाती है. अभी तक ये दूध नालियों में बह जाता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2019, 12:31 PM IST
  • Share this:
मथुरा के गिरिराज जी मंदिर में एक अनूठी पहल शुरु की गई है. अब मंदिर में चढ़ने वाला दूध खराब नहीं जाएगा. दूध और दूध की कीमत के रुपये अनाथ आश्रम और शहीद जवानों के परिवार की सहायता के लिए दिए जाएंगे. मंदिर में रोजाना करीब 10 से 12 हजार लीटर दूध चढ़ाया जाता है. महीने में एक दिन आने वाली पूर्णमासी और दूसरे तीज-त्योहरों पर ये मात्रा दोगुनी हो जाती है. अभी तक ये दूध नालियों में बह जाता था.

मथुरा में धर्म-कर्म से जुड़े अमित गोस्वामी ने बताया, “ गिरिराज जी की मान्यता से जुड़े यहां चार मंदिरों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं. आस्था के चलते इन मंदिरों पर दूध चढ़ाया जाता है. ये चार मंदिर हैं जतिपुरा, दानघाटी, मानसी गंगा और मुखबिंद हैं.”

जतिपुरा मंदिर के सेवायत ओमप्रकाश बताते हैं, “हमारे यहां मंदिर में सबसे ज्यादा गुजराती लोग आते हैं. अगर समान्य दिनों की बात करें तो रोजाना करीब 5 हजार लीटर दूध मंदिर पर चढ़ जाता है. जो देश के दूसरे हिस्सों में बैठे हैं उनका भी किसी का 11 लीटर तो किसी का 31 और 51 से 101 लीटर तक दूध रोजाना चढ़ाया जाता है.”

लेकिन अभी तक ये दूध मंदिर में चढ़ने के बाद नालियों में बह जाता था या मंदिर में ही बने कुंड में जमा होकर खराब हो जाता था. लेकिन खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के अधिकारी वीके राठी ने मंदिर प्रशासन और मथुरा के जागुरुक लोगों के सहयोग से एक अनूठी पहल शुरु कराई है.



वीके राठी ने बताया, अभी तक होता ये था कि मंदिर में चढ़ने वाला दूध नालियों में बह जाता था. "अगर कहीं किसी कुंड में ये दूध जमा किया जाता था तो ये खराब होने के बाद संक्रमण फैलाता था. और खासतौर से बरसात के दिनों में तो इससे संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा हो जाता था. अभी ये पहल गिरिराज जी के मंदिर से शुरु की गई है. धीरे-धीरे इससे दूसरे मंदिरों को भी जोड़ा जाएगा."

ये भी पढ़ें- 

नजीब की बीमार मां बोलीं- पाक ने अभिनंदन को छोड़ दिया, ABVP मेरे बेटे को कब छोड़ेगी

54 बीटेक-एमटेक, 24 एमबीए, बीबीए-बीसीए डिग्री वाले युवक दिल्ली पुलिस में बने सिपाही

पहल के तहत मंदिर में एक डेस्क बनाई गई है. उदाहरण के तौर पर आप मंदिर में 11 लीटर दूध चढ़ाने आए हैं तो अपनी स्वेच्छा से आप दूध का संकल्प लेकर प्रतीकात्मक रूप से एक या सवा लीटर दूध मंदिर में चढ़ाकर बाकी का दूध डेस्क पर दे सकते हैं या उतने दूध के पैसे डेस्क पर दे सकते हैं. साथ ही ये भी बता सकते हैं कि आप दूध या दूध की कीमत किसे देना चाहते हैं.

जैसे अनाथ आश्रम में, कुष्ठ आश्रम, वृद्ध आश्रम में या फिर शहीद जवानों की मदद के लिए. मानसी गंगा मुकुट मुखारविंद मंदिर पर हो चुकी है. और लोगों को जागरुक करने के लिए सेवायत राजकुमार शर्मा, संतोष उपाध्याय, गणेश पहलवान श्रद्धालुओं को दूध का संकल्प दिला रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 

'पाकिस्तान में सिर्फ अभिनंदन ही नहीं ये एयर फोर्स अफसर भी हैं, लेकिन पाक कर रहा इनकार'

Air strike: 3 विमान भरते हैं उड़ानएक गिराता है बम, 2 ऐसे करते हैं दुश्मन से रक्षा

एयर स्ट्राइक: ये हैं वो चार खास पॉइंट जिस पर टिकी होती एयर स्ट्राइक

एयर स्ट्राइक: इसलिए कारगिल के बाद एयर स्ट्राइक में मिराज एयरक्राफ्ट का हुआ इस्तेमाल 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मथुरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 4, 2019, 10:42 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर