तस्‍वीरों में: कान्हा की नगरी में मुसलमान ने बनाया हिंदुओं के लिए मंदिर
Mathura News in Hindi

तस्‍वीरों में: कान्हा की नगरी में मुसलमान ने बनाया हिंदुओं के लिए मंदिर
सारी दुनिया को प्रेम का संदेश देने वाली कान्हा की नगरी मथुरा में सांप्रदायिक सौहार्द्र की अनूठी मिसाल देखने को मिली है। यहां एक मुस्लिम ग्राम प्रधान ने हिन्दुओं के लिए मंदिर का निर्माण करा सांप्रदायिक सौहार्द्र में भाईचारे का रंग भर दिया।

सारी दुनिया को प्रेम का संदेश देने वाली कान्हा की नगरी मथुरा में सांप्रदायिक सौहार्द्र की अनूठी मिसाल देखने को मिली है। यहां एक मुस्लिम ग्राम प्रधान ने हिन्दुओं के लिए मंदिर का निर्माण करा सांप्रदायिक सौहार्द्र में भाईचारे का रंग भर दिया।

  • Share this:
सारी दुनिया को प्रेम का संदेश देने वाली कान्हा की नगरी मथुरा में सांप्रदायिक सौहार्द्र की अनूठी मिसाल देखने को मिली है। यहां एक मुस्लिम ग्राम प्रधान ने हिन्दुओं के लिए मंदिर का निर्माण करा सांप्रदायिक सौहार्द्र में भाईचारे का रंग भर दिया।

इस अनूठी मिसाल को देख देखने वाले जहां आश्चर्यचकित थे, वहीं सुनने वाले ये सहज यकीन नहीं कर पा रहे थे कि अजमल के मंदिर में शिव और हनुमान विराजे हैं।





दरअसल, मथुरा से 55 किमी दूर छाता कोतवाली के गांव सहार की आबादी करीब साढ़े छह हजार है। इस गांव के प्रधान हैं अजमल अली शेख। आजादी के बाद से यहां के लोगों को धार्मिक कार्यों के लिए चार-पांच किलोमीटर दूर जाना होता था।
स्थानीय ग्रामीणों की इस दर्द को समझते हुए अजमल अली शेख ने अपनी जेब से करीब पांच लाख रुपए खर्च कर सहार कस्बे में मंदिर का निर्माण किया। अजमल के इस प्रयास से सहार कस्बे में भाई चारे का ऐसा गुलाल उड़ा कि दोनों समुदाय के लोग सराबोर हो गए।

गांव में हिन्दू-मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग रहते हैं, लेकिन आजादी के बाद भी इस गांव में कोई भी मंदिर नहीं था। आठ महीने पहले अजमल ने मंदिर की नींव रखी और प्रण किया कि वो इस मंदिर का निर्माण खुद कराएंगे।



जब मंदिर बनकर तैयार हो गया उन्‍होंने मंदिर का निर्माण कर वैदिक रीति-रिवाज से हवन और आहुति दी। इसके बाद दोनों समुदाय के लोगों ने मंदिर में पूजा-अर्चना की। अजमल अली के इस प्रयास के बाद गांव में दोनों समुदाय के लोगों में उल्लास है।

अजमल अली शेख का मानना है कि आज के इस दौर में जब धर्म के नाम पर लोग छोटी-छोटी बातों पर लोग एक-दूसरे से भिड़ जाते हैं, वहीं उनके इस अनूठी मिसाल से धार्मिक भावना का मान-सम्मान ने ब्रज भूमि को गौरवान्वित किया है।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading