मथुरा: श्रीकृष्ण जन्मभूमि के लिए आंदोलन की तैयारी कर रहे हिंदू आर्मी के 2 दर्जन कार्यकर्ता गिरफ्तार

वहीं से अलग-अलग शहरों से विभिन्न लोगों को सदस्य बनाया गया था. (सांकेतिक फोटो)
वहीं से अलग-अलग शहरों से विभिन्न लोगों को सदस्य बनाया गया था. (सांकेतिक फोटो)

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर (Dr. Gaurav Grover) ने बताया कि पिछले वर्ष लखनऊ में हिन्दू आर्मी नाम के संगठन का गठन किया गया था. इस संगठन की ओर से एक सप्ताह पूर्व सूचना मिली थी कि वे लोग श्रीकृष्ण जन्मभूमि को कथित रूप से मुक्त कराने के लिए आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं

  • भाषा
  • Last Updated: September 22, 2020, 8:34 AM IST
  • Share this:
मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद (Mathura District) में एक बड़ी खबर सामने आई है. मथुरा पुलिस ने हिन्दू आर्मी (Hindu Army) का सदस्य बताने वाले करीब दो दर्जन कार्यकर्ताओं को शांतिभंग करने के प्रयास में गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि ये सभी लोग श्रीकृष्ण जन्मभूमि को कथित रूप से मुक्त कराने के लिए आंदोलन शुरू करने के लिए उत्तर प्रदेश व राजस्थान के विभिन्न नगरों से मथुरा में आए थे. वहीं, इस घटना से पुलिस-प्रशासन के हाथ-पांव फुल गए हैं. स्थानीय थाना पुलिस ने सोमवार को इसके बारे में जानकारी दी.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर ने बताया कि पिछले वर्ष लखनऊ में हिन्दू आर्मी नाम के संगठन का गठन किया गया था. इस संगठन की ओर से एक सप्ताह पूर्व सूचना मिली थी कि वे लोग 21 सितम्बर से मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि को कथित रूप से मुक्त कराने के लिए आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं. इसलिए हम लोगों ने अपने पूरे तंत्र को सक्रिय कर दिया था. साथ ही बीती रात से ही सतर्कता बरतते हुए जो भी सदस्य जिस रास्ते से जिले में प्रवेश करते हुए मिला उसे गिरफ्तार कर लिया गया. उन्होंने बताया कि संगठन के पदाधिकारियों ने इस आंदोलन के लिए किसी भी स्तर पर कोई अनुमति नहीं मांगी थी.

अलग-अलग शहरों से विभिन्न लोगों को सदस्य बनाया गया था
डॉ गौरव ग्रोवर ने कहा कि इसीलिए इनके इरादों की सटीक जानकारी मिलने पर भादंवि की धारा 151 के अंतर्गत शहर की शांतिभंग होने का अंदेशा होने के चलते सोमवार शाम तक कुल 22 लोगों को विधिक कार्रवाई हेतु सिटी मजिस्ट्रेट के सम्मुख भेज दिया गया. जिनमें हिन्दू आर्मी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताया जा रहा मनीष यादव भी शामिल है. एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोग राज्य के लखनऊ, गोरखपुर, आजमगढ़, गोंडा, बस्ती, अयोध्या आदि तथा राजस्थान के जयपुर और कोटा शहर से आए हैं. और उनके मुताबिक, उनके संगठन का गठन एक वर्ष पूर्व लखनऊ में किया गया था. वहीं से अलग-अलग शहरों से विभिन्न लोगों को सदस्य बनाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज