Home /News /uttar-pradesh /

Mant Assembly Seat: यह श्‍याम सुंदर शर्मा का किला है, जिसमें अब तक कोई लहर नहीं घुस पाई

Mant Assembly Seat: यह श्‍याम सुंदर शर्मा का किला है, जिसमें अब तक कोई लहर नहीं घुस पाई

UP Chunav 2022: तीन दशक से एक ही नेता का इस सीट पर रहा है कब्जा.

UP Chunav 2022: तीन दशक से एक ही नेता का इस सीट पर रहा है कब्जा.

Mant Assembly Seat Election: श्‍याम सुंदर शर्मा 1989 से लगातार मांट विधानसभा सीट से विधायक हैं. वह एकमात्र चुनाव 2012 में रालोद के जयंत चौधरी से हारे थे. जयंत के सीट छोड़ने के बाद हुए उपचुनाव में वह फिर से जीतकर विधानसभा पहुंच गए थे. हालांकि 2017 के चुनाव में रालोद के योगेश नौहवार ने उन्‍हें कांटे की टक्‍कर दी थी.

अधिक पढ़ें ...

मथुरा. जाटों के दबदबे वाली मांट विधानसभा सीट पर तीन दशक से एक ही व्‍यक्‍ति का कब्‍जा है. उनका नाम है पंडित श्‍याम सुंदर शर्मा. 1989 में कांग्रेस के टिकट पर अपना पहला चुनाव लड़ने वाले श्‍याम सुंदर शर्मा को सिर्फ एक बार 2012 में तत्‍कालीन मथुरा सांसद रालोद के जयंत चौधरी ने हराया था. हालांकि बाद में जयंत ने सीट छोड़ दी.

इसके बाद हुए उपचुनाव में फिर से श्‍याम सुंदर जीतने में सफल रहे थे. खास बात यह रही कि जबसे श्‍याम सुंदर शर्मा चुनावी मैदान में उतरे हैं, कोई भी लहर इस सीट को पार नहीं कर पाई. चाहे वह वीपी सिंह की लहर हो, राम मंदिर हो या फिर मोदी लहर. मांट अकेली सीट है, जहां पर भाजपा अभी तक खाता नहीं खोल पाई है.

श्‍याम सुंदर शर्मा ने 1989, 91 और 93 का चुनाव कांग्रेस के टिकट पर लड़ा था. 1996 में वह नारायण दत्‍त तिवारी की तिवारी कांग्रेस से जीते. इसके बाद 2002 और 2007 का चुनाव लोकतांत्रिक कांग्रेस से जीते. 2012 का उपचुनाव तृणमूल कांग्रेस के तौर पर जीता. 2017 में बसपा का दामन थाम लिया.

इस बार रालोद के योगेश नौहवार से शर्माजी को कड़ी टक्‍कर मिली और मात्र 432 वोटों से जीतने में कामयाब हो पाए. श्‍याम सुंदर शर्मा को 65862 और योगेश को 65430 वोट मिले थे. 3.16 लाख मतदाताओं वाली मांट विधानसभा में जाट वोटरों का दबदबा है. यहां करीब एक लाख जाट वोटर हैं.  ब्राह्मण 40 हजार, ठाकुर 45 हजार और बघेल वोटर 30 हजार हैं.

Tags: Mathura news, UP Election 2022, UP news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर