यूपी पुलिस का कारनामा, 12 साल के बच्चे को हथकड़ी लगा कर कोर्ट में किया पेश

वृन्दावन की बांके बिहारी मंदिर पुलिस ने क्षेत्र से कई युवकों को जेबकटी के आरोप में हिरासत में ले कर जेल भेजा था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 29, 2018, 8:06 PM IST
यूपी पुलिस का कारनामा, 12 साल के बच्चे को हथकड़ी लगा कर कोर्ट में किया पेश
12 साल के बच्चे को लगाई हथकड़ी (प्रतिकात्मक फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: October 29, 2018, 8:06 PM IST
यूपी  के वृन्दावन में पुलिस ने एक 12 साल के बच्चे को  हथकड़ी लगा कर कोर्ट के समक्ष पेश किया. पुलिस की इस लापरवाही ने अब पुलिस को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है और अधिकारी चुप्पी साधे बैठ जांच की बात कह रहे है. फिलहाल इस मामले में अभी तक कोई शिकायत दर्ज नहीं हई है.

दरअसल वृन्दावन की बांके बिहारी मंदिर पुलिस ने क्षेत्र से कई युवकों को जेबकटी के आरोप में  हिरासत में ले कर जेल भेजा था. इन आरोपियों में से एक आरोपी की उम्र करीब 12 वर्ष थी जिसे पुलिस द्वारा न्यायालय के समक्ष हथकड़ी लगाकर पेश करने के लिये ले जाया गया. जबकि कानून न बाल अपराधी को हथकड़ी लगाई जा सकती है और ना ही हवालात में रखा जा सकता है. इन तस्वीरों के सामने आने के बाद अब वृन्दावन पुलिस की किरकिरी होने के साथ ही खुद सवालों के घेरे में आ गयी है.

UP STF और नारकोटिक्स टीम ने बरेली में पकड़ी 4 करोड़ की हेराेइन, दो तस्कर गिरफ्तार

इस घटना से Juvenile justice (care and protection) 2000 संशोधित अधिनियम 2015 का खुला उल्लंघन हुआ है. इस अधिनियम के मुताबिक पुलिस न तो बाल अपराधी को गिरफ्तार करते समय हथकड़ी लगा सकती है और न हवालात में रख सकती है. पुलिस को सम्प्रेक्षण ग्रह भेजकर गिरफ्तारी के 24 घंटे के अन्दर आरोपी को किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष प्रस्तुत कर करना होता है. लेकिन हथकड़ी लगाकर वृन्दावन पुलिस ने आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ा दी है.  इस सबंध में विधिक सेवा प्राधिकरण सदस्य प्रतिभा शर्मा एडवोकेट ने बताया कि बाल अपराधी को हथकड़ी में ले जाना, नियमों के विरुद्ध है. अगर परिजनों की शिकायत मिलेगी तो पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लायी जाएगी.

इमाम के भाई ने भाभी से किया बलात्कार, पति ने भेज दिया तलाक का नोटिस

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...