बड़ी खबर: कभी भी UP लाया जा सकता है डॉन मुख्तार अंसारी, प्रयागराज की MP-MLA कोर्ट पहुंचा SC का आदेश

कभी भी UP लाया जा सकता है डॉन मुख्तार अंसारी (File photo)

कभी भी UP लाया जा सकता है डॉन मुख्तार अंसारी (File photo)

उधर, यूपी के बाराबंकी में मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) द्वारा इस्तेमाल की जा रही एंबुलेंस मामले में कार्रवाई शुरू हो गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. पंजाब की रोपड़ जेल में बंद माफिया और बसपा विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को कभी भी यूपी की जेल शिफ्ट किया जा सकता है. शुक्रवार को मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी की बांदा जेल शिफ्ट किये जाने का औपचारिक आदेश प्रयागराज की स्पेशल एमपी- एमएलए कोर्ट पहुंचा है. सुप्रीम कोर्ट का आदेश प्रयागराज (Prayagraj) के जिला जज के पास पहुंच गया है. जिला जज के यहां से आदेश की कॉपी एमपी एमएलए कोर्ट के जज को भेजी गई है.

स्पेशल कोर्ट के जज इस आदेश के आधार पर कभी भी फैसला ले सकते हैं. जज या तो 1-2 दिन में इस पर फैसला ले सकते हैं या फिर मुख्तार के बांदा जेल में पहुंचने का इंतजार कर सकते हैं. स्पेशल जज सरकारी वकील और मुख्तार के वकील से उनकी राय भी ले सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक मुख्तार को प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल में ही रखे जाने की उम्मीद ज्यादा है. हालांकि डीआईजी जेल पीएन पांडे बांदा जेल का निरीक्षण भी कर चुके हैं.

UP: शिया बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी की बढ़ी मुश्किलें, शाहजहांपुर में दर्ज हुई FIR

उधर, यूपी के बाराबंकी में मुख्तार अंसारी द्वारा इस्तेमाल की जा रही एंबुलेंस मामले में कार्रवाई शुरू हो गई है. इस संबंध में बाराबंकी की नगर कोतवाली में धोखाधड़ी समेत दूसरी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. यह मुकदमा बाराबंकी एआरटीओ की तहरीर पर दर्ज किया गया है. दरअसल पुलिस की जांच में रजिस्ट्रेशन डाक्यूमेंट्स और मकान का पता फर्जी पाया गया है. बाराबंकी की नगर कोतवाली में 419, 420, 467, 468 और 471 की धाराओं में केस दर्ज करके पुलिस ने मामले में जांच पड़ताल शुरू कर दी है.
मुख्तार की एंबुलेंस लग्जरी और बुलेटप्रूफ, होगी जांच: मंत्री

एम्बुलेंस को लेकर सियासी घमालान भी छिड़ गया है. सरकार के मंत्री और प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि सपा और कांग्रेस सरकारों ने मुख्तार अंसारी को सपोर्ट किया उसी का परिणाम है कि आज सबसे बड़ा गैंगस्टर बन गया है. वह कैसे निजी एंबुलेंस का इस्तेमाल कर रहा था? यह बड़ा सवाल है. एंबुलेंस एक अस्पताल के नाम पर है. हम पूरे मामले की जांच कराएंगे और कार्रवाई भी करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज