मऊ: प्रसव पीड़ा में तड़प रही महिला को अस्पताल से निकाला तो मौके परे पहुंचे BJP MLA, और फिर

अस्पताल के बाहर प्रसव पीड़ा से तडपता देख भड़के बीजेपी विधायक विजय राजभर
अस्पताल के बाहर प्रसव पीड़ा से तडपता देख भड़के बीजेपी विधायक विजय राजभर

बता दें मुकेश कुमार अपनी गर्भवती भाभी को प्रसव पीड़ा होने जिला महिला अस्पताल पहुंचा था. लेकिन महिला अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मीयों द्वारा आजमगढ ले जाने की सलाह देते हुए उसे बाहर निकाल दिया.

  • Share this:
मऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मऊ (Mau) जिले में गर्भवती महिला (Pregnant Ladu) को अस्पताल से बाहर निकाले जाने पर घोसी विधानसभा के बीजेपी विधायक विजय राजभर (BJP MLA Vijay rajbhar) स्वास्थ्य कर्मियों पर भड़क उठे. अस्पताल के डॉक्टर, नर्स और अन्य कर्मियों को फटकार लगाते हुए महिला को अस्पताल में भर्ती कराया. इसके बाद जिलाधिकारी और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों संग बैठक कर लॉकडाउन के समय किसी भी प्रकार की लापरवाही पर कार्यवाई करने का निर्देश दिया.

अस्पताल ने आजमगढ़ ले जाने को कहा

इसके बाद जिलाधिकारी ने भी अस्पताल का निरीक्षण कर कई स्वास्थ्य कर्मियों को फटकार लगाया, साथ ही मरीजों का हर हाल में इलाज करने का निर्देश दिया. बता दें मुकेश कुमार अपनी गर्भवती भाभी को प्रसव पीड़ा होने जिला महिला अस्पताल पहुंचा था. लेकिन महिला अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मीयों द्वारा आजमगढ ले जाने की सलाह देते हुए उसे बाहर निकाल दिया गया. जिसके बाद मुकेश ने घोसी विधानसभा के बीजेपी विधायक विजय राजभर को पूरे मामले की जानकारी दी. जानकारी मिलते ही विधायक अस्पताल पहुचें. साथ ही महिला को अस्पताल के बाहर जमीन पर प्रसव पीड़ा से तड़पता देख आग बबूला हो गए.



हॉस्पिटल स्टाफ को लगाई फटकार
विधायक द्वारा मामला संज्ञान में लाए जाने पर जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी भी महिला अस्पताल पहुच गये. इसके बाद दोनों ने वहां मौजूद स्टाफ को जमकर फटकार लगाई. साथ ही जांच कर कार्रवाई का निर्देश भी दिया. विधायक विजय राजभर ने बताया कि बीजेपी सरकार में स्वास्थ्य सेवाओं के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नही किया जायेगा. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी सरकारी की मंसा पर पानी फेरने का काम कर रहे हैं. इनके खिलाफ कड़ी कार्य़वाई की जायेगी.

उधर जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि महिला के साथ लापरवाही की गयी है. फिलहाल जच्चा-बच्चा सुरक्षित हैं. बच्चें को बेहतर इलाज के लिए फातिमा अस्पताल में रेफर किया गया है. जो भी लापरवाही करने वाले हैं उनके खिलाफ कार्य़वाई की जायेगी.

ये भी पढ़ें:

Covid-19: गांवों में ऐसे रह रहे हैं दिल्ली-एनसीआर और मुंबई से गए श्रमिक

Lockdown: साइकिल पर नहीं मिली लिफ्ट तो कर दी हवाई फायरिंग, मचा हड़कंप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज