लाइव टीवी

मऊ: टूटी हुई पटरी से गुजर गई कई ट्रेनें, अधिकारियों को थी इसकी भनक

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 17, 2017, 9:07 PM IST

मऊ जिले के पलिगढ़ रेलवे स्टेशन के पास का है, जहां पर रेलवे ट्रैक करीब चार इंच तक टूट गया. इसकी सूचना अधिकारियों के मिलने के बाद भी टूटे रेलवे ट्रैक से ही कई ट्रेनों को आवागमन होता रहा.

  • Share this:
मऊ जनपद मे रेलवे प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई है. आए दिन होने वाले रेल हादसों से भी रेल ​प्रशासन सबक नहीं लेता दिख रहा है. जिसका उदाहरण मऊ जनपद के पलिगढ़ रेलवे स्टेशन के पास देखने को मिला, जहां रेलवे की पटरी करीब चार इंच तक चटक गई थी. रेलवे ट्रैक चटकने की सूचना मिलने के बाद भी टूटे रेलवे ट्रैक से ही कई ट्रेनों को आवागमन होता रहा.

मामला मऊ जिले के पलिगढ़ रेलवे स्टेशन के पास का है, जहां पर रेलवे ट्रैक करीब चार इंच तक टूट गया. टूटे हुए रेलवे ट्रैक पर पेट्रोलिंग करने वाले दस्ते की नजर पड़ी तो इसकी सूचना तत्काल पेट्रोलिंग पार्टी ने रेलवे के बड़े अधिकारियों को दी. रेलवे के बड़े अधिकारियों को सूचना मिलने के बाद भी रेलवे विभाग ने इसी टूटे हुए ट्रैक से कई ट्रेनों को पास करा दिया. टूटे हुए रेलवे ट्रैक से गुजरने वाली ट्रेनों में बलिया शाहगंज पैसेंजर ट्रेन, उत्सर्ग एक्सप्रेस, तमसा पैसेंजर है. साथ ही शाहजगंज से बलिया पैसेंजर भी जा रही है.

स्थानीय ग्रामीण अनिल राय ने कहा कि यह रेलवे की बड़ी लापरवाही है कि टूटे हुए ट्रैक से कई ट्रेनों को गुजारा जा रहा है. टूटे हुए रेलवे ट्रैक की जानकारी पेट्रोलिंग करने वालों ने देखने के बाद दी. लेकिन इसके बाद भी उसी टूटे हुए ट्रैक के ऊपर से कई ट्रेनों को चलाया गया. वहीं ग्रामीण नरेंद्र तिवारी कहते हैं कि रेलवे ट्रैक को टूटने को रेल अधिकारी कोई हादसा नहीं मानते है.

रेलवे ट्रैक के टूटने के संदर्भ में रेलवे के इंजीनियर ने कहा कि ट्रेन के ट्रैक पर ​वेल्डिंग था, जो टूट गया था. जिस पर तीन ट्रेने जा चुकी है. चौथी ट्रेन आ रही है. किसी भी ट्रेन को रोका नही गया है. 30 किमी प्रतिघन्टा की रफ्तार से ट्रेनों को पास कराया जा रहा है. ट्रैक के टूटने के संदर्भ में कहा कि वहां प्लेटें बधी हुई हैं. जिस पर प्रोटेक्टर लगा हुआ था. कोई दिक्कत की बात नहीं थी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2017, 7:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर