Mau news

मऊ

अपना जिला चुनें

Mau News: बांदा जेल में बंद गैंगस्टर मुख़्तार अंसारी के बैरक में लगेगा TV, कोर्ट ने दिया आदेश

Mau News: डॉन मुख्तार अंसारी के बैरक में लगेगा टीवी  (फाइल फोटो)

Mau News: डॉन मुख्तार अंसारी के बैरक में लगेगा टीवी (फाइल फोटो)

Mau News: अधिवक्ता दरोगा सिंह की दलील थी कि मुख्तार अंसारी न्यायिक अभिरक्षा में बांदा जेल में बंद है. जेल में बंद कैदियों की श्रेणी का निर्धारण करते हुए उन्हें टीवी समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करवाई जाए. कोर्ट ने इसे मानते हुए बांद जेल के अधीक्षक को टीवी लगाने का निर्देश दिया है.

SHARE THIS:

मऊ. गैंगस्टर एक्ट में बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी (Don Mukhtar Ansari) द्वारा बैरक में टीवी लगाने की मांग मान ली गई है. बुधवार को चार प्रार्थनापत्रों पर मऊ (Mau) के विशेष न्यायाधीश (गैंगस्टर एक्ट) राम अवतार प्रसाद के न्यायालय में सुनवाई हुई. इस दौरान विशेष न्यायाधीश ने प्रार्थनापत्र पर मुख्तार अंसारी के अधिवक्ता दरोगा सिंह और विशेष लोक अभियोजक की दलीलों को सुना. सुनने के बाद विशेष न्यायाधीश ने बांदा के जेल अधीक्षक को मुख्तार अंसारी के बैरक मे टीवी लगवाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया.

दरअसल, मुख़्तार के वकील दरोगा सिंह ने चार प्रार्थनापत्रों के माध्यम से जेल में टीवी और अन्य सुविधा मुहैया करवाने की गुहार लगाई थी. अधिवक्ता दरोगा सिंह की दलील थी कि मुख्तार अंसारी न्यायिक अभिरक्षा में बांदा जेल में बंद है. जेल में बंद कैदियों की श्रेणी का निर्धारण करते हुए उन्हें टीवी समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करवाई जाए. अधिवक्ता ने दलील दी कि जेल मैनुअल के अनुसार जेल में निरुद्ध बंदियों की श्रेणी का निर्धारण करते समय विचार किए जाने के लिए जिन आधारों को मानदंड बनाया जाता है, उसके अनुसार मुख्तार अंसारी पूर्ण रूप से उच्च श्रेणी के बंदी की सुविधा प्राप्त करने के हकदार हैं. उन्‍होंने दलील दी कि मुख्तार अंसारी विचाराधीन कैदी है. साथ ही सीनियर सिटीजन और ग्रेजुएट होने के साथ ही आयकर दाता भी है. इतना ही नहीं वह पिछले 25 वर्षों से विधायक है और लाखों लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं.

दिया यह आदेश
मुख़्तार के अधिवक्ता की दलील सुनने के बाद विशेष न्यायाधीश ने आदेश दिया कि मुख़्तार को भोजन और तख़्त के साथ ही उच्च श्रेणी की सुविधा उपलब्ध कराई जाए. साथ ही मेडिकल बोर्ड का गठन किया जाए और स्वास्थ्य की जांच कराई जाए. जेल के बैरक मे टीवी उपलब्ध कराने के मामले में जेल अधीक्षक बांदा को आदेश दिया कि जेल मैनुअल एवं समुचित शासनादेश मे विहित प्रावधानों मे यदि टीवी अनुमन्य हो तो मुख्तार अंसारी के बैरक में टीवी लगवाना सुनिश्चित करें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Banda News: डॉन मुख्तार अंसारी की अचानक तबीयत बिगड़ी, गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज में कराया गया भर्ती

Banda News: डॉन मुख्तार अंसारी की बिगड़ी तबीयत (File photo)

Mukhtar Ansari News: बांदा जेल अधीक्षक प्रभा कांत पांडेय का कहना है कि फिलहाल मीटिंग चल रही है. इसलिए इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं बताया जा सकता है.

SHARE THIS:

बांदा. पूर्वांचल के माफिया डॉन मऊ से बीएसपी के विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की बांदा जेल (Banda Jail) में मंगलवार को अचानक तबीयत बिगड़ गई. सूचना मिलने पर जेल प्रशासन ने जेल और जिला अस्पताल के डॉक्टरों की सलह पर मुख्तार अंसारी को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है. जहां कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मुख्तार का इलाज किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि उसकी हालत गंभीर है. इससे पहले बांदा जेल में बंद बहुबली विधायक मुख्तार अंसारी कोरोना पॉजिटिव हो गए थे. मुख्तार के एंटीजन कोविड टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी.

इस बीच मंगलवार को अचानक मुख्तार की तबीयत बिगड़ने से जेल प्रशासन के हाथ-पांव फूलने लगे. मुख्तार की सेहत और इलाज को लेकर अफसर मीटिंग कर रहे हैं. हालांकि, जेल प्रशासन ने इस बारे में अभी कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है. बांदा जेल अधीक्षक प्रभा कांत पांडेय का कहना है कि फिलहाल मीटिंग चल रही है. इसलिए इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं बताया जा सकता है.

यह भी पढ़ें- Aligarh News: परपोते ने भारत सरकार से की मांग, बोले- राजा महेंद्र प्रताप सिंह को मिले भारत रत्न

बाराबंकी में वर्चुअल पेशी के दौरान मुख्तार अंसारी ने आरोप लगाते हुए कहा कि उसकी हत्या के लिए पांच करोड़ की सुपारी दी गई है. मुख्तार के मुताबिक उसे सूचना मिली है कि किसी को मेरी हत्या करने के लिए कहा गया है. साथ ही यह भी कहा गया है कि जो मेरी हत्या कर देगा, उसके घर पांच करोड़ रुपये पहुंच जाएगा. इसके अलावा उसके सारे मुकदमे भी खत्म कर दिए जाएंगे. कोर्ट में वर्चुअल सुनवाई के संबंध में मुख्तार के वकील रणधीर सिंह सुमन ने ये जानकारी दी है.

UP Politics: जानिए कब से है माफिया मुख्तार अंसारी और BSP का रिश्ता, ऐसे बहनजी के आर्शीवाद से शुरू हुआ था सफर

UP Politics: जानिए कब से है माफिया मुख्तार अंसारी और BSP का रिश्ता (File photo)

Mukhtar Ansari News: साल 2017 में मुख्तार ने अपनी पार्टी का बीएसपी (BSP) में विलय कर दिया और पांचवीं बार विधायक का चुनाव लड़ा. हाथी का साथ मिलने से वह लगातार पांचवीं बार और जेल में रहते हुए तीसरा चुनाव जीतने में कामयाब रहा.

SHARE THIS:

लखनऊ. आगामी यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) में मायावती ने जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Don Mukhtar Ansari) का टिकट काट दिया है. वैसे यह कोई पहली बार नहीं होगा, जब माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को बीएसपी (BSP) से बाहर का रास्ता दिखाया है. मुख्तार ने अपने सियासी करियर की शुरुआत बीएसपी से ही की थी. 1996 में वह हाथी की सवारी कर वह पहली बार विधानसभा पहुंचा था. हालांकि कुछ दिनों बाद ही मायावती ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया था. 2002 और 2007 का चुनाव वह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीता.

2009 के लोकसभा चुनाव से पहले उसने दोबारा हाथी की सवारी की. उस चुनाव में बीएसपी ने उसने वाराणसी सीट से बीजेपी नेता डॉ मुरली मनोहर जोशी के खिलाफ उम्मीदवार बनाया था. लोकसभा के इस चुनाव में मुख्तार को हार का सामना करना पड़ा और थोड़े दिन बाद ही उसे फिर से बाहर कर दिया गया. साल 2012 में अंसारी ब्रदर्स ने अपनी अलग पार्टी कौमी एकता दल बनाई. मुख्तार अंसारी 2012 में अपनी घर की पार्टी से चुनाव लड़कर लगातार चौथी बार विधायक बना. साल 2017 में मुख्तार ने अपनी पार्टी का बीएसपी में विलय कर दिया और पांचवीं बार विधायक का चुनाव लड़ा. हाथी का साथ मिलने से वह लगातार पांचवीं बार और जेल में रहते हुए तीसरा चुनाव जीतने में कामयाब रहा.

यह भी पढ़ें- UP Poll-Tricks: मुख्तार कबूल करेंगे AIMIM की पेशकश? देखें, लाभ-नुकसान का गणित

दरअसल मुख्तार का टिकट काटने और उससे दूरी बनाए जाने के बीएसपी सुप्रीमों मायावती के फैसले के पीछे उसका लम्बा-चौड़ा क्रिमिनल रिकॉर्ड और 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव से पहले उसके जेल से बाहर आने के सभी रास्ते बंद होना तो है ही, साथ ही पार्टी को यह भी लगता है कि पिछले तकरीबन सोलह सालों से लगातार जेल में रहने की वजह से मऊ सीट पर मुख्तार का दबदबा अब पहले जैसा रहा भी नहीं. मुख्तार अंसारी पिछ्ला तीन चुनाव सिर्फ 8 हजार या इससे भी कम वोटों से ही जीतने में कामयाब रहा है. योगी सरकार ने माफियाओं-बाहुबलियों और दूसरे अपराधियों के खिलाफ जिस तरह का अभियान चलाया है और इन ऑपरेशनों के चलते सूबे में संगठित अपराधों पर जैसा अंकुश लगा है, उसी के नतीजे के तौर पर ही मायावती अब मुख्तार से तौबा कर लिया है.

लखनऊ के MP-MLA कोर्ट में पेश नहीं हुआ माफिया डॉन मुख्तार अंसारी, कोर्ट ने जताई नाराजगी

लखनऊ के MP/MLA कोर्ट में पेश नहीं हुआ माफिया डॉन मुख्तार अंसारी (File photo)

Mukhtar Ansari News: इस मामले की एफआईआर 3 अप्रैल 2000 को लखनऊ के जेलर एसएन द्विवेदी ने आलमबाग थाने में दर्ज कराई थी. जबकि एमपी-एमएलए (MP-MLA Court) कोर्ट ने 29 सितंबर को मुख्तार अंसारी को पेश करने का आदेश दिया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. 3 अप्रैल 2000 को राजधानी लखनऊ के आलमबाग थाने में दर्ज लखनऊ जेल के तत्कालीन जेलर, डिप्टी जेलर पर हमले ,जेल में पथराव, धमकाने के मामले में पूर्वांचल के माफिया डाॅन मुख्तार अंसारी (Mafia Dan Mukhtar Ansari) को शुक्रवार को भी एमपी-एमएलए (MP-MLA Court) की विशेष अदालत में पेश होना था,लेकिन वो पेश नहीं हुआ. इस पर कोर्ट ने नाराजगी जताई. इसके साथ एमपी- एमएलए कोर्ट ने अंसारी की व्यक्तिगत पेशी के लिए बांदा जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक, एडीजी जेल, लखनऊ के पुलिस कमिश्नर, डीएम, डीजीपी, एसीएस होम, मुख्य सचिव को पत्र भेजने का आदेश दिया. कोर्ट ने 29 सितंबर को मुख्तार अंसारी को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है.

दरअसल 20 साल से लंबित मामले में मुख्तार अंसारी के पेश न होने से कोर्ट ने नाराज़गी जताते हुए कहा कि कई आदेशों के बाद भी मुख्तार अंसारी को कोर्ट में पेश नहीं किया जा रहा है, कोई रिपोर्ट भी नहीं भेजी जा रही. जबकि इस मामले में अब मुख्तार अंसारी पर आरोप तय होने हैं. पिछली सुनवाई पर मुख्तार की पत्रावली अलग करके अन्य अभियुक्तों कल्लू पंडित, लालजी यादव, आलम, युसूफ चिश्ती के खिलाफ आरोप आरोप तय कर दिए गए हैं, अब साक्ष्य की कार्यवाही शुरू होनी है.

यह भी पढ़ें- UP: यूपी जल निगम भर्ती मामले में सपा MP आजम खान को झटका, जमानत अर्जी खारिज

मामले की ऐसी स्थिति में आने के बाद भी मुख्तार अंसारी के बाबत कोई भी रिपोर्ट नहीं आ रही है. कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि इस मामले में अभियोजन पक्ष कोई रुचि नहीं ले रहा है जिसकी वजह से कार्रवाई आगे नहीं बढ़ पा रही है. अब इस मामले की अगली सुनवाई 29 सितंबर को होगी. इस मामले की एफआईआर 3 अप्रैल 2000 को लखनऊ के जेलर एसएन द्विवेदी ने आलमबाग थाने में दर्ज कराई थी. एफआईआर में मुख्तार अंसारी, युसूफ चिश्ती, आलम, कल्लू पंडित और लालजी यादव समेत कई लोगों को नामजद किया गया था.

UP Election 2022: बसपा सुप्रीमो मायावती ने माफिया मुख्तार अंसारी को पार्टी से किया बेदखल

UP News: बसपा सुप्रीमो मायावती ने माफिया मुख्तार अंसारी को पार्टी से किया बेदखल (File photo)

UP BSP News: मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की.

SHARE THIS:

लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Chief Mayawati) ने यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अंसारी बंधुओं पर बड़ा फैसला लिया हैं. बसपा सुप्रीमो ने बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को पार्टी से हटाते हुए उनकी जगह आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष श्री भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है. शुक्रवार को मायावती ने ट्वीट कर कहा, बीएसपी का अगामी यूपी विधानसभा आमचुनाव में प्रयास होगा कि किसी भी बाहुबली व माफिया आदि को पार्टी से चुनाव न लड़ाया जाए. इसके मद्देनजर ही आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से अब मुख्तार अंसारी का नहीं बल्कि यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष श्री भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है.

उन्होंने आगे कहा, जनता की कसौटी व उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने के प्रयासों के तहत ही लिए गए. इस निर्णय के फलस्वरूप पार्टी प्रभारियों से अपील है कि वे पार्टी उम्मीदवारों का चयन करते समय इस बात का खास ध्यान रखें ताकि सरकार बनने पर ऐसे तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने में कोई भी दिक्कत न हो.

मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की. ’सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’ जैसी तथा बीएसपी जो कहती है वह करके भी दिखाती है यही पार्टी की सही पहचान भी है.

सपा का दामन थाम सकता है मुख्तार अंसारी का परिवार
खबरों की माने तो चुनावों से पहले मुख्तार अंसारी और उनका परिवार भी समाजवादी पार्टी का दामन थाम सकता है. इसके साथ ही साथ मुख्तार अंसारी के तीसरे भाई अफजाल अंसारी समाजवादी पार्टी के टिकट पर ही इस बार का चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि अफजाल अंसारी अभी बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर पूर्वांचल की गाज़ीपुर सीट से सांसद है. वैसे यह कोई पहली बार नहीं होगा, जब मुख्तार अंसारी को बीएसपी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा. मुख्तार ने अपने सियासी करियर की शुरुआत बीएसपी से ही की थी. 1996 में वह हाथी की सवारी कर वह पहली बार विधानसभा पहुंचा था. हालांकि कुछ दिनों बाद ही मायावती ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया था.

UP Accident : मऊ में शौच करने गए तीन मासूम पानी भरे गड्ढे में डूब गए, तीनों की मौत

इस हादसे के बाद कोपागंज कस्बे के लोगों की भीड़ जुट गई.

Death of innocent children : यह हादसा मऊ के कोबागंज कस्बे में हुआ. हादसे की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों बच्चों के शव बाहर निकाले और पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. इनमें से दो बच्चे अपने ननिहाल आए हुए थे.

SHARE THIS:

मऊ. मऊ में पानी से भरे गड्ढे में डूबने से 3 बच्चों की मौत हो गई. यह हादसा यहां के कोबागंज कस्बे में हुआ. बताया जाता है कि इनमें से दो बच्चे अपने ननिहाल आए हुए थे. हादसे की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों बच्चों के शव बाहर निकाले और पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. उधर, इस हादसे से पूरे कोपागंज कस्बा के लोगों की भीड़ जुट गई. यह दर्दनाक मंजर देख हर किसी का दिल दहल गया.

पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा

कोपागंज थानाध्यक्ष अजय तिवारी ने बताया कि यह हादसा शुक्रवार की सुबह तकरीबन 7 बजे यूसुफपुर गांव के बाहर एक ईंट भट्ठे के पास हुआ. यहां पानी भरे गड्ढे में 3 बच्चों के शव मिलने की सूचना गांव के लोगों से मिली. मारे गए बच्चों की पहचान चकरा के रहनेवाले अनिल के बेटे अरुण (4), यूसुफपुर कोपागंज के रहनेवाले रामाशीष के बेटे शुभम (6) और बलिया जिले के करनी गांव के रहनेवाले आदित्य के बेटे हंस उर्फ अनीश (3) के रूप में हुई.

इसे भी पढ़ें : 1 लाख का इनामी बदमाश हरीश पासवान बलिया में ढेर, 30 मामलों में था वांछित

सुबह शौच के लिए निकले थे तीनों

बताया जा रहा है कि तीनों बच्चे सुबह शौच के लिए एकसाथ गांव के बाहर आए थे. पानी भरे गड्ढे में तीनों की डूबने से मौत हो गई. सुबह का समय और गांव के बाहर की घटना होने के चलते बच्चों की आवाज कोई सुन नहीं सका और यह हादसा हो गया. तीनों शवों को निकाल कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजने की कवायद की जा रही है. यूसुफपुर गांव में एक साथ तीन बच्चों की मौत से मातम पसर गया. इतना ही नही कोपागंज कस्बे में इस हादसे को लेकर मातम पसरा रहा.

इसे भी पढ़ें : राजनीति का अखाड़ा बनी अयोध्या, 7 सितंबर को रुदौली में ओवैसी की सभा

अनीश और अरुण आए थे अपने ननिहाल

बताया जा रहा कि घटना में मृत बालक अनीश अपने मां पिता का इकलौता पुत्र था. 22 दिन पहले ही अनीश अपने मां के साथ नाना की तबीयत खराब होने पर ननिहाल में आया था. इसके अलावा चकरा के अरुण भी अपने नाना के यहां 22 दिन पहले ही अपने माता-पिता के साथ आया था. परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

MP अतुल राय पर Rape का आरोप लगाने वाली लड़की की इलाज के दौरान मौत, जानिए पूरा मामला

UP: बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की की मौत हो गई है.

Varanasi News: बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली युवती ने अपने दोस्त के साथ दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के गेट के बाहर खुद को आग लगा ली थी. दोस्त की पहले ही मौत हो गई थी. अब पीड़िता की मौत के बाद पीछे कई सवाल छूट गए हैं.

SHARE THIS:

वाराणसी. उत्तर प्रदेश की मऊ लोकसभा सीट (Mau Loksabha Seat) से बसपा सांसद अतुल राय (BSP MP Atul Rai) पर दुष्कर्म (Rape) सहित अन्य आरोप लगाने वाली युवती की इलाज के दौरान मौत हो गई. युवती ने अपने दोस्त सत्यम प्रकाश राय के साथ दिल्ली सुप्रीम कोर्ट (SC) के गेट के बाहर खुद को आग लगा ली थी. सत्यम की इलाज के दौरान पहले ही मौत हो गई थी. पीड़िता की मौत के बाद पीछे कई सवाल छूट गए हैं.

आत्मदाह से ऐन पहले फेसबुक लाइव करते हुए लड़की और उसके दोस्त ने यूपी के कई पुलिस अफसरों समेत कुछ अन्य लोगों पर परेशान करने और दबाव बनाने का आरोप लगाया था. अगर पिछले एक साल में सिलसिलेवार घटनाओं को देखें तो पूरा मामला बेहद उलझा हुआ नजर आता है.

पीड़ित लड़की यूपी के बलिया जिले की रहने वाली थी और वाराणसी के उदय प्रताप कालेज की छात्रा थी. वीडियो के जरिए लड़की और उसके दोस्त सत्यम राय ने तत्कालीन वाराणसी एसएसपी रहे अमित पाठक, तत्कालीन सीओ भेलुपुर अमरेश सिंह बघेल, दरोगा संजय राय समेत अन्य पर भी सांसद को बचाने और उसे परेशान करने का आरोप लगाया था.

एसएसपी हटाए गए, इंस्पेक्टर सस्पेंड

इस मामले में वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक को गाजियाबाद से हटाकर लखनऊ तबादला कर दिया गया. वहीं वाराणसी के कैंट थाना प्रभारी निरीक्षक और विवेचक पर कार्यवाही की गई है. प्रभारी निरीक्षक को लाइन हाजिर कर दिया गया है, जबकि विवेचक को सस्पेंड कर दिया गया है.

घटना से पहले 2 अगस्त को जारी हुआ था गैर जमानती वारंट

आत्मदाह की घटना से पहले दो अगस्त को मृतक लड़की के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ था. युवती पर आरोप था कि उसने दो अलग-अलग मुकदमों में अपनी उम्र अलग-अलग दर्ज कराई है. इस मामले में कैंट थाने की पुलिस को युवती की तलाश थी, जबकि दूसरी ओर गैर जमानती वारंट जारी होने से कुछ दिन पहले सांसद अतुल राय की बहन, पिता और वकील ने प्रेस कांफ्रेंस करके पुलिस पर ही सवाल खड़े किए थे.

MP पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने आत्मदाह की कोशिश से पहले किया था FB Live

परिवार वालों का कहना था कि लड़की और उसके दोस्त के षड्यंत्र का पर्दाफाश करने से जुड़े सारे ऑडियो रिकार्डिंग समेत अन्य साक्ष्य पुलिस को दिए गए लेकिन फिर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है. तब बहन ने न्याय न मिलने के कारण अपनी भाभी दवारा आत्महत्या की चेतावनी दी थी. परिवारवालों और वकील ने मऊ सदर विधायक मुख्तार अंसारी पर भी चुनाव की रंजिश के चलते षड्यंत्र का आरोप लगाया था. उससे पहले परिवारवालों ने सीएम योगी से गुहार लगाते हुए मुख्तार अंसारी से अतुल राय की जान को खतरा बताया था.

कब-कब क्या हुआ?

बीते लोकसभा चुनाव से ऐन पहले एक मई 2019 को युवती ने लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज कराया था.

22 जून 2019 को सांसद अतुल राय ने वाराणसी की कोर्ट में सरेंडर कर दिया.

इस मामले में अतुल राय प्रयागराज जिले के केंद्रीय कारागार नैनी में बंद हैं.

युवती और उसके दोस्त ने फेसबुक लाइव के जरिए आरोप लगाया कि सभी मिलकर उसे ही चरित्रहीन साबित और सांसद अतुल राय को बचाने की कोशिश में लगे हैं.

मऊ में घर के बाहर सो रहे व्यापारी को बदमाशों ने सिर में मारी गोली, इलाज के दौरान मौत

Mau News: पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

Mau Crime News: मिली जानकारी के अनुसार किराना व खाद व्यवसायी सूर्यनाथ गुप्ता सोमवार की रात खाना खाकर अपने घर के बाहर बरामदे में चारपाई पर मच्छरदानी लगाकर सोए हुए थे. रात 12 बजकर 10 मिनट पर अज्ञात बदमाश उनके सिर के पिछले हिस्से में गोली मारकर फरार हो गए.

SHARE THIS:

मऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मऊ (Mau) जिले के चिरैयाकोट-खरिहानी मार्ग पर दरियापट्टी निवासी सूर्यनाथ गुप्ता ( 65 वर्ष) की सोमवार रात 12:10 पर अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी. इस वारदात से सनसनी फैल गई. मिली जानकारी के अनुसार किराना व खाद व्यवसायी सूर्यनाथ गुप्ता सोमव रात खाना खाकर अपने घर के बाहर बरामदे में चारपाई पर मच्छरदानी लगाकर सोए हुए थे. अज्ञात बदमाशों ने उनके सिर के पिछले हिस्से में गोली मारी और फरार हो गए. वारदात के समय परिजन घर में सोए हुए थे.

गोली की आवाज सुनकर परिजन जब तक आए तब तक बदमाश फरार हो चुके थे. आनन-फानन में परिजन एक चिकित्सक के पास उन्हें लेकर गए . उसके बाद परिजन उन्हें लाईफ लाईन अस्पताल आजमगढ़ ले गए . वहां से रेफर होने के बाद वेदांता अस्पताल गये और ढाई बजे चिकित्सकों ने सूर्यनाथ गुप्ता को मृत घोषित कर दिया और बताया कि गोली सिर में फंसी हुई है. घटना के 20 मिनट बाद सूचना मिलते पर थानाध्यक्ष अविनाश कुमार सिंह और डायल 112 की पुलिस मौके पर पहुंची. मऊ पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी भी डाग स्क्वायड के साथ मौके पर पहुंच गए . पर कोई सुराग हाथ नहीं लगा.

शक के आधार पर एक व्यक्ति हिरासत में
वारदात का कोई कारण पता नहीं चल रहा है. इस वारदात से व्यापारियों में जबरदस्त आक्रोश है. पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि मृतक के परिजनों से बातचीत में पता चला कि पड़ोसी से जमीनी विवाद भी चल रहा था. उसी के आधार पर एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है और दूसरे बिंदु पर भी पुलिस जांच कर रही है. व्यापार मंडल के अध्यक्ष शिवचंद साहू तथा वरिष्ठ महामंत्री अब्दुल सत्तार कुरैशी ने बताया कि इस घटना के विरोध में मंगलवार को बाजार बंद रहेगा.

Army Bharti 2021: यूपी के 12 जिलों में होने वाली सेना की भर्ती रैलियां स्थगित, नई तिथि की घोषणा जल्द

Army Rally 2021: वाराणसी में प्रस्तावित सेना भर्ती रैली को कोरोना मामलों के कारण स्थगित कर दिया गया है.

Army Rally 2021: भारतीय सेना की ओर से वाराणसी में प्रस्तावित सेना भर्ती रैली को कोरोना मामलों के कारण स्थगित कर दिया गया है. जल्द ही भर्ती रैली की नई तिथि घोषित की जाएगी.

SHARE THIS:

Army Rally 2021. यूपी में 12 जिलों के लिए होने वाली भर्ती रैली को कोरोना मामलों के कारण भारतीय सेना ने स्थगित कर दिया है. इन जिलों के लिए भर्ती रैली 6 सितंबर 2021 से 30 सितंबर 2021 तक वाराणसी के रणबांकुरे मैदान में प्रस्तावित थी. जल्द ही सेना की ओर से इन जिलों के लिए भर्ती रैली का नया शेड्यूल जारी किया जाएगा.

न्‍यूज 18 से बातचीत में सेना भर्ती केंद्र के निदेशक कर्नल सिद्धार्थ बसु ने बताया कि कोविड को देखते हुए वाराणसी में होने वाली भर्ती रैली को फिलहाल स्‍थगित कर दिया गया है. भर्ती रैली की नई तिथियों की घोषणा जल्द ही की जाएगी.

Army Rally 2021: इन जिलों के लिए होने वाली थी भर्ती रैली
पूर्वांचल यूपी के 12 जनपदों के लिए वाराणसी में होने वाली भर्ती रैली प्रस्तावित थी. इनमें वाराणसी, गोरखपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, गाजीपुर, संत रविदास नगर, सोनभद्र, मिर्जापुर, चंदौली, जौनपुरी

Army Rally 2021: 21 अगस्त तक कर सकते हैं आवेदन
रैली में शामिल होने के लिए इन जिलों के अभ्यर्थी सेना की आधिकारिक वेबसाइट www.joinindianarmy.nic.in के जरिए 21 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते हैं. आवेदन की प्रक्रिया 8 जुलाई 2021 से जारी है. वाराणसी में होने वाली भर्ती रैली स्थगित होने के बाद अब बरेली और मेरठ में होने वाली सेना भर्ती रैली पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं. माह के अंतिम सप्‍ताह तक इस बाबत स्थितियां साफ हो पाएंगी.

Army Rally 2021: इन पदों पर होगी भर्तियां
इस भर्ती रैली के जरिए सिपाही नर्सिंग असिस्टेंट, सिपाही क्लर्क, सिपाही ट्रेडमैन, सिपाही सामान्य ड्यूटी, सिपाही टेक्निकल और सिपाही ट्रेडमैन के पदो पर भर्तियां की जाएगी. भर्ती रैली से संबंधित अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी जारी नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

Army Rally 2021: शैक्षणिक योग्यता
सोल्जर ट्रेडमैन के लिए अभ्यर्थी का किसी भी बोर्ड से 8वीं पास होना अनिवार्य है. वहीं सिपाही सामान्य ड्यूटी पद के लिए 10वीं पास अधिकतम शैक्षणिक योग्यता निर्धारित की गई है. सिपाही टेक्निकल पद के लिए अभ्यर्थी को साइंस स्ट्रीम में 12वीं पास होना चाहिए. सिपाही नर्सिंग असिस्टेंट पद के लिए अभ्यर्थियों को भौतिक, रसायन, बायो या बॉटनी जूलॉजी से 12वीं पास होना चाहिए.

यह भी पढ़ें –
Sarkari Naukri: लखनऊ विश्वविद्यालय में प्रोफेसर समेत कई पदों पर आवेदन की अंतिम तिथि आज
Army Bharti: इंडियन आर्मी में तकनीकी स्नातक कोर्स के लिए आवेदन शुरू, जानें डिटेल

Army Rally 2021: महत्वपूर्ण तिथियां
आवेदन शुरू होने की तिथि – 8 जुलाई 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 21 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – www.joinindianarmy.nic.in

Army Bharti 2021: UP के इन 12 जिलों के लिए सेना में आईं भर्ती, आवेदन के लिए बचे सिर्फ 4 दिन

भारतीय सेना में भविष्‍य तलाश रहे जिन नौजवानों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है, वे 21 अगस्‍त तक आवेदन कर सकते हैं.

Indian Army Recruitment Rally 2021: भारतीय सेना के 7 पदों के लिए प्रस्‍तावित भर्ती प्रक्रिया 6 सितंबर से वाराणसी के रणबांकुरे स्‍टेडियम में शुरू होने जा रही है. यह भर्ती प्रक्रिया 30 सितंबर तक जारी रहेगी.

SHARE THIS:

नई दिल्‍ली. उत्‍तर प्रदेश के 12 जिलों मे रहने वाले नौजवानों के लिए भारतीय सेना भर्ती अभियान शुरू करने जा रही है. सेना के विभिन्‍न पदों के लिए उत्‍तर प्रदेश के जिन 12 जिलों से भर्ती होनी हैं, उनमें आजमगढ़, बलिया, चंदौली, देवरिया, गोरखपुर, गाजीपुर, जौनपुर, मऊ, मिर्जापुर, संत रविदास नगर, सोनभद्र और वाराणसी शामिल हैं. भारतीय सेना ने इस भर्ती अभियान के लिए 8 जुलाई को नोटिफिकेशन जारी किया था. करीब सात पदों के लिए जारी भर्ती अभियान के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 21 अगस्‍त है. भारतीय सेना में भविष्‍य तलाश रहे जिन नौजवानों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है, वे सेना की आधिकारिक वेबसाइट joinindianarmy.nic.in के जरिए 21 अगस्‍त तक आवेदन कर सकते हैं.

इन पदों के लिए होनी है भर्ती रैली:
सैनिक (सामान्य ड्यूटी),
सैनिक (तकनीकी),
सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक),
सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा),
सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी),
सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र)

शैक्षणिक योग्यता

  • सैनिक (सामान्य ड्यूटी) :
    (i) कुल 45% अंकों के साथ कक्षा 10वीं या मैट्रिक पास, प्रत्‍येक विषय में न्‍यूनतम 33% अंक.
    (ii) ग्रेडिंग सिस्टम बोर्ड से पास अ‍भ्‍यर्थियों के लिए सभी विषयों में ‘डी’ ग्रेड और एग्रीगिएट में ‘सी-2’ ग्रेड.

सैनिक (तकनीकी) :
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक):
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा):
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी):
(i) कला, विज्ञान या वाणिज्‍य स्‍ट्रीम से 10 + 2/ इंटरमीडिएट परीक्षा पास की हो.
(ii) सभी विषयों में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में कुल 60% अंक हों.
(iv) 12 वीं की कक्षा में अंग्रेजी, गणित और अकाउंट्स/बुक कीपिंग की पढ़ाई की हो.

सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र):
(i) 33% अंकों के साथ 10 वीं कक्षा पास हों.

आयु सीमा
सैनिक (सामान्य ड्यूटी) पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्‍यर्थियों जन्‍म 1 अक्‍टूबर 2000 से 1 अप्रैल 2004 के बीच का होना चाहिए. वहीं, सैनिक (तकनीकी), सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक), सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा), सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी) और सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र) पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्‍यर्थियों जन्‍म 1 अक्‍टूबर 1998 से 1 अप्रैल 2004 के बीच का होना चाहिए.

चयन प्रक्रिया
रैली के दौरान अभ्यर्थियों का शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण, शारीरिक मापन और चिकित्सा परीक्षण किया जाएगा. इन सभी मापदंडों में खरे उतरने वाले अभ्यर्थियों का चुनाव सामान्य प्रवेश परीक्षा के लिए किया जाएगा.

यह भी पढ़ें –
SSC GD Constable Recruitment 2021 : एसएससी ने जीडी कांस्टेबल भर्ती को लेकर जारी किया ये अहम नोटिस
RSMSSB Recruitment 2021: राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड  ने निकाली 12वीं पास के लिए बंपर नौकरियां, जानें डिटेल

MP पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने आत्मदाह की कोशिश से पहले किया था FB Live

UP: बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की और उसके दोस्त में दिल्ली में आत्मदाह का प्रयास किया है

Varanasi News: बसपा सांसद अतुल राय पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली लड़की और उसके दोस्त ने दिल्ली में आत्मदाह की कोशिश से पहले फेसबुक लाइव किया था. उसने वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी सहित कई लोगों पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

SHARE THIS:

वाराणसी. उत्तर प्रदेश की मऊ (Mau) लोकसभा सीट से बसपा सांसद अतुल राय (BSP MP Atul Rai) के खिलाफ चल रहे रेप केस (Rape Case) में उस वक्त नया मोड़ आ गया, जब रेप का आरोप लगाने वाली लड़की और उसके दोस्त ने दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के बाहर आत्मदाह की कोशिश की. पीड़ित लड़की यूपी के बलिया (Ballia) जिले की रहने वाली है और वाराणसी (Varanasi) के उदय प्रताप कालेज की छात्रा है.

हालांकि वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बचा लिया और फिलहाल दोनों अस्पताल में भर्ती हैं. पता चला है कि युवती और उसके दोस्त सत्यम प्रकाश राय ने आत्मदाह से पहले फेसबुक लाइव किया था. जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो के जरिए लड़की और उसके दोस्त सत्यम राय ने तत्कालीन वाराणसी एसएसपी रहे अमित पाठक, तत्कालीन सीओ भेलुपुर अमरेश सिंह बघेल, दरोगा संजय राय समेत एक न्यायाधीश पर भी सांसद को बचाने और उसे परेशान करने का आरोप लगाया है.

इस घटना से पहले 2 अगस्त को वाराणसी की सीजेएम कोर्ट ने लड़की के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था. युवती पर आरोप लगाया गया है कि उसने दो अलग-अलग मुकदमों में अपनी उम्र अलग-अलग दर्ज कराई है. इस मामले में कैंट थाने की पुलिस को युवती की तलाश थी, जबकि दूसरी ओर गैर जमानती वारंट जारी होने से कुछ दिन पहले सांसद अतुल राय की बहन, पिता और वकील ने प्रेस कांफ्रेंस करके पुलिस पर ही सवाल खड़े किए थे.

सुप्रीम कोर्ट के बाहर महिला व पुरुष ने लगाई खुद को आग, आत्मदाह का किया प्रयास, RML में भर्ती

यह भी दावा किया जा रहा है कि लड़की और उसके दोस्त के षड्यंत्र का पर्दाफाश करने से जुड़े सारे ऑडियो रिकार्डिंग समेत अन्य साक्ष्य पुलिस को दिए गए लेकिन फिर भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही है. तब बहन ने न्याय न मिलने के कारण अपनी भाभी दवारा आत्महत्या की चेतावनी दी थी. परिवार वालों और वकील ने मऊ सदर विधायक मुख्तार अंसारी पर भी चुनाव की रंजिश के चलते षड्यंत्र का आरोप लगाया था. उससे पहले परिवार वालों ने सीएम योगी से गुहार लगाते हुए मुख्तार अंसारी से अतुल राय की जान को खतरा बताया था.

जानिए कब-कब, क्या हुआ?

बीते लोकसभा चुनाव से ऐन पहले एक मई 2019 को युवती ने लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज कराया था.

22 जून 2019 को सांसद अतुल राय ने वाराणसी की कोर्ट में सरेंडर कर दिया. इस मामले में अतुल राय प्रयागराज जिले के केंद्रीय कारागार नैनी में बंद हैं.

युवती और उसके दोस्त ने फेसबुक लाइव के जरिए आरोप लगाया है कि सभी मिलकर उसे ही चरित्रहीन साबित और सांसद अतुल राय को बचाने की कोशिश में लगे हैं.

Mau News: अनियंत्रित कार खाई में गिरी, भीषण हादसे में पांच की मौत, दो घायल

मऊ सड़क हादसे में पांच की मौत

Mau Road Accident: बताया जा रहा है कि दीपिका मोदनवाल का मधुबन में ही मायका है और वे अपने परिवार के साथ छत्तीसगढ़ से सीधे मायके जा रही थीं कि उसी दौरान देर रात कार अनियंत्रित हो गई और खाई में गिर गई, जिसमें कार में सवार सात लोगों में से एक महिला सहित 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई.

SHARE THIS:

मऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मऊ (Mau) जनपद के दोहरीघाट थाना क्षेत्र के सोनबरसा गांव के पास शनिवार देर रात उस वक्त हड़कंप मच गए जब छत्तीसगढ़ से आ रहे एक परिवार की कार अनियंत्रित होकर कार खाई में गिर गई. इस सड़क हादसे (Road Accident) में कार सवार सात लोगों में से पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो अन्य लोग घायल हो गए. हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपचार करा कर घर भेज दिया.

बताया जा रहा है कि दीपिका मोदनवाल का मधुबन में ही मायका है और वे अपने परिवार के साथ छत्तीसगढ़ से सीधे मायके जा रही थीं कि उसी दौरान देर रात कार अनियंत्रित हो गई और खाई में गिर गई जिसमें कार में सवार सात लोगों में से एक महिला सहित 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई. मृतकों में 5 वर्षीय मयंक, 9 वर्षीय तानिया, 38 वर्षीय ममता, ढाई साल की बच्ची, और 7 वर्षीय दिव्यांश शामिल हैं. महेश मोदनवाल और दीपिका मोदनवाल घायल हैं. पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और जांच में जुट गई है.

सीएम योगी ने जताया दुख
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद मऊ में दोहरी घाट में हुई एक सड़क दुर्घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. मुख्यमंत्री ने इस हादसे में घायल लोगों का समुचित उपचार कराने तथा प्रभावित लोगों को हर संभव मदद और राहत प्रदान करने के निर्देश दिए हैं.

पूर्वांचल के सियासी रण का शंखनाद, BJP को रोकने के लिए सपा दे रही इस फैक्टर पर जोर

पूर्वांचल के राजनीतिक रण में सपा ने अपने समीकरण बिठाने शुरू कर दिये हैं.

UP assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश में अभी चुनाव होने में लगभग 6 माह का समय शेष है, लेकिन राजनीतिक दलों ने सियासत की शतरंज पर अपनी चालें चलानी शुरू कर दी हैं.

SHARE THIS:

मऊ. उत्तर प्रदेश में जातीय समीकरण पर राजनीतिक दल फोकस कर रहे हैं. साथ ही राजनीतिक गुणा गणित बैठाई जा रही है कि कौन सी जातियां सत्ता पक्ष से नाराज हैं और कौन किस पाले में जा सकती है. इसकी शुरुआत किसी एक पार्टी ने नहीं बल्कि कांग्रेस, बसपा के साथ सपा ने भी शुरू कर दी है. पहली नजर प्रदेश में ब्राह्मण समीकरण को ही प्राथमिकता दी जा रही है. सपा ने पूर्वांचल के मऊ, बलिया, गाजीपुर में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन के बहाने ब्राम्हणों की योगी से नाराजगी को हवा देकर उन्हें अपने पाले में करने का शंखनाद भी कर दिया है. छोटे दलों के नेतृत्व को भी कोई दल नजर अंदाज नहीं करना चाहता है.

उत्तर प्रदेश की राजनीति में जातीय समीकरण एक प्रमुख आधार है इससे कोई इनकार नहीं कर सकता है. पिछले दो दशक से अधिक समय से सपा, बसपा ही नहीं भाजपा भी सामाजिक न्याय को आधार मानकर प्रमुख जातियों को रिझाकर अपनी सरकार बनाते आ रहे हैं. यह अलग बात है कि सरकार बनने के बाद यह मुद्दा खत्म हो जाता है. समाजवादी पार्टी जातीय समीकरण के साथ अपने रचनात्मक जनहित से जुड़े कार्यों को भी महत्व देती रही है, लेकिन 2017 के चुनाव में मात खाने के बाद वह भी कोई चूक नहीं मोल लेना चाहती है. समाजवादी पार्टी ने ब्राम्हणों को एक जुट कर प्रदेश में प्रबुद्ध सम्मेलन के बहाने उनकी नब्ज को टटोलना शुरू कर दिया है.

ब्राह्मणों की नाराजगी को भुनाना चाहती हैं सपा

उसका मानना है कि प्रदेश में अगर ब्राम्हणों की योगी सरकार से नाराजगी को भुना लिया गया तो अन्य जातियों का भी आकर्षण पार्टी के तरफ बढ़ेगा. इसी को दृष्टि रखते हुए मऊ जनपद में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन किया गया जो आगामी विधान सभा चुनाव की रणनीति का आगाज है. इसमें विधिवत ब्राम्हण समाज की भीड़ भी सत्ता पक्ष को सोचने पर विवश कर रही है और वह उनकी नाराजगी का कारण भी ढूंढ़ने में लगे हैं. इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डे ने तो मंच से योगी सरकार पर ब्राम्हणों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया. कहाकि पिछले 4 सालों में 40 से अधिक ऐसे प्रकरण हैं, जिनमें ब्राम्हणों को बदनाम करने, उन्हें कुचलने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. इसका हिसाब किताब 2022 में ब्राम्हण समाज करेगा और समाजवादी पार्टी की सरकार बनाकर बीजेपी के अहंकार को तोड़ेगा.

मऊ: मुख्तार अंसारी गैंग के सहयोगी 42 व्यक्तियों के 45 शस्त्र लाइसेंस निलंबित, हड़कंप

मुख्तार अंसारी पर उत्तर प्रदेश सरकार लगातार कार्रवाई कर रही है. (फाइल फोटो)

Mau News: पुलिस विभाग ने कुछ महीने पहले मऊ में शस्त्र धारकों के कारतूस का सत्यापन और जांच करवाई थी. जांच के दौरान मुख्तार अंसारी के करीबी गैंग के सदस्य से जुड़े 42 लोगों का 45 शस्त्र निरस्त करने की सिफारिश की गई थी.

SHARE THIS:

मऊ. माफिया मुख्तार अंसारी (Mafia Mukhtar Ansari) के आईएस-191 गैंग के सहयोगी 42 व्यक्तियों के 45 शस्त्र लाइसेंस (45 Arm License) निलंबित कर दिए गए हैं. पुलिस अधीक्षक सुशील घुले के नेतृत्व में हुई इस कार्रवाई में लाइसेंस निलंबन के बाद शस्त्र थाने में जमा कराए जाने की कार्रवाई चल रही है. जिले के दक्षिण टोला थाना क्षेत्र, सराय लखंसी थाना क्षेत्र, एवं कोतवाली थाना क्षेत्र के शस्त्र धारकों पर यह कार्रवाई हुई है.

योगी सरकार में माफियाओं पर हो रही लगातार कार्रवाई के क्रम में कुछ महीने पहले जनपद में शस्त्र धारकों का कारतूस के सत्यापन एवं जांच पुलिस विभाग द्वारा कराया गया था. जांच के दौरान मुख्तार अंसारी के करीबी गैंग के सदस्य से जुड़े 42 लोगों का 45 शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की सिफारिश पुलिस अधीक्षक ने जिलाधिकारी से की थी.

जिले के दक्षिण टोला थाना क्षेत्र के 33 शस्त्र लाइसेंस, थाना कोतवाली के 9 शस्त्र लाइसेंस और थाना सराय लखंसी के 3 शस्त्र लाइसेंस शामिल हैं. शासनादेश एवं शस्त्र लाइसेंस के नियम व शर्तों के उल्लंघन के श्रेणी में यह कार्रवाई की गई है.

पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया जिले में अभियान चलाया गया, जिसमें कारतूसों के सत्यापन के दौरान बड़ी खामियां मिलीं. जांच के बाद जिलाधिकारी को 42 लोगों के शस्त्र के निलंबन की सिफारिश की गई थी, जिसे जिलाधिकारी ने निरस्त कर दिया. निरस्तीकरण के बाद लगभग 70% लोगों ने अपना शस्त्र संबंधित थानों में जमा करने में जुट गए हैं. इस कार्रवाई से जिले के शस्त्र धारकों में अफरा-तफरी का माहौल है. लोग अपने कारतूसों के मिलान में जुट गए हैं.

Ghazipur News: मुख्तार अंसारी को लगा झटका, पत्नी आफशां अंसारी का शस्त्र लाइसेंस निलंबित

Ghazipur News: डॉन मुख्तार अंसारी को लगा झटका(फाइल फोटो)

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि एंटी माफिया अभियान के तहत लगातार की जा रही कार्रवाई में गाजीपुर पुलिस प्रशासन ने मुख्तार अंसारी की पत्नी आफशां अंसारी के शस्त्र लाइसेंस को निलंबित कर दिया है.

SHARE THIS:
गाजीपुर. यूपी के बांदा जेल में बंद माफिया विधायक मुख्तार अंसारी (Mafia MLA Mukhtar Ansari) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. इसी के तहत मंगलवार को गाजीपुर (Ghazipur) के जिलाधिकारी ने मुख्तार अंसारी की पत्नी आफशां अंसारी (Afshan Ansari) का शस्त्र लाइसेंस निलंबित कर दिया है. इससे पहले गाजीपुर पुलिस ने जेल में बंद मुख्तार अंसारी की पत्नी की लग्जरी ऑडी कार को कुर्क कर लिया था.

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि एंटी माफिया अभियान के तहत लगातार की जा रही कार्रवाई में गाजीपुर पुलिस प्रशासन ने आईएस गैंग 191 के लीडर मुख्तार अंसारी की पत्नी आफशां  अंसारी के शस्त्र लाइसेंस को निलंबित कर दिया है. एसपी ओपी सिंह ने बताया कि पुलिस की एक टीम असलहे को जमा कराने के लिए लखनऊ रवाना हो गई है. अब तक गाजीपुर में पुलिस प्रशासन ने एंटी माफिया अभियान के तहत 82 शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर असलहों को सम्बंधित थानों में जमा कराया है. जबकि जिले में 85 शस्त्र लाइसेंस निलंबित किये जा चुके हैं.

बुलेटप्रूफ एम्बुलेंस को लेकर खुलासा
इससे पहले उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी बृजलाल ने मुख्तार अंसारी की लग्‍जरी बुलेटप्रूफ एम्बुलेंस को लेकर बड़ा खुलासा किया था. बृजलाल ने कहा कि यह मामूली एम्बुलेंस नहीं, बल्कि मुख़्तार का चलता फिरता क़िला है. इस गाड़ी में सेटेलाइट फोन के अलावा हथियार और गुर्गे भी रहते हैं. मुख्तार इनका इस्तेमाल करता है. बता दें कि मऊ विधानसभा क्षेत्र से पांच बार का विधायक और माफिया डॉन मुख्तार अंसारी इस वक्त बांदा जेल में बंद है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे बीते छह अप्रैल में पंजाब के रोपड़ जेल से भारी सुरक्षा इंतजामों के बीच सड़क मार्ग से यहां लाया गया था. (रिपोर्ट- मनीष मिश्रा)

UP News: मऊ में हादसा, भारी बारिश में कच्चा मकान ढहने से 2 की मौत, 4 की हालत गंभीर

UP: मऊ में बारिश में मकान ढहने से दो लागों की मौत हो गई, जबकि 4 लोग गंभीर रूप से घायल हैं.

House Collapsed Due To Rain: उत्तर प्रदेश के मऊ जिले (Mau District) के एक गांव में मंगलवार की रात बारिश के बाद एक कच्चा मकान ढह गया. इसमें 9 वर्षीय बच्ची और उसकी नानी की मौत हो गई है. वहीं परिवार के चार सदस्य गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं.

SHARE THIS:
मऊ. उत्तर प्रदेश में मऊ (Mau) जिले के एक गांव में मंगलवार की रात बारिश के बाद एक कच्चा मकान ढह गया. इस हादसे में घर में सो रही 9 वर्षीय बच्ची और वृद्धा (75) की मलबे में दबने से मौत हो गई. वहीं दो वर्षीय मासूम सहित 4 लोग घायल हो गए हैं. सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों (Dead Bodies) को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए भेज दिया. साथ ही चारों घायलों को अस्पताल भिजवाया. जहां चारों की हालात गंभीर बनी हुई है.

चिकित्सकों ने बालिका श्रद्धा और नानी टुवरी देवी को मृत घोषित कर दिया है. वहीं चारों घायलों की हालात नाजुक बताई जा रही है. इस मामले में मुहम्मदाबाद गोहना कोतवाल नीरज पाठक ने बताया कि हादसे में बच्ची और वृद्धा की मौत की पुष्टि की, जबकि चार अन्य का घायल होना बताया.

आधी रात को सोते वक्त ढह गया पूरा मकान
जानकारी के अनुसार, मुहम्मदाबाद गोहना कोतवाली क्षेत्र के ढंढचवर गांव निवासी बबलू चौहान (36) मंगलवार की देर रात परिवार के साथ भोजन करने के बाद अपने कच्चे मकान में सो रहा था. रात में हुई बारिश के बाद देर रात करीब एक बजे पूरा घर ढह गया.

परिवार के सभी सदस्य मलबे में दब गए
हॉल में सो रही टुवरी देवी (75) और पास में सो रही नातिन श्रद्धा (9) और एक कमरे में सो रहे बबलू चौहान, उसकी पत्नी पुष्पा (30), बड़ी बेटी आराध्या (12) और बेटा नित्यम (2) मलबे में दब गए. घायलों की चीख-पुकार सुनकर गांव के लोग घटनास्थल पर पहुंचे और मलबा हटाने के बाद सभी घायलों को निकालकर कस्बा के एक निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे. अस्पताल में श्रद्धा और टुबरी देवी को मृत घोषित कर दिया गया.

UP: बसपा MP अतुल राय ने मुख्तार अंसारी से बताया जान को खतरा, परिजनों ने सीएम योगी से लगाई गुहार

बसपा MP अतुल राय ने मुख्तार अंसारी से बताया जान को खतरा (File photo)

अतुल राय (Atul Rai)के पिता भरत राय ने कहा कि राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में उनके बेटे को फंसाया गया है. जबकि बहन नम्रता राय ने सवाल उठाया कि चुनाव के महज 19 दिन पहले मामला दर्ज कराकर कार्यवाही होना साफ षडयंत्र की ओर इशारा करता है.

SHARE THIS:
वाराणसी. यूपी के मऊ की घोसी सीट से बसपा सांसद अतुल राय (BSP MP Atul Rai) के परिजनों और वकील ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (MLA Mukhtar Ansari) से अतुल राय की जान को खतरा बताया है. उन्होंने सीएम योगी समेत आला अफसरों से जेल में और पेशी के दौरान पर्याप्त सुरक्षा दिलाए जाने की मांग की है. मीडिया के सामने घोसी सांसद के वकील अनुज यादव ने एक मीडिया चैनल पर प्रसारित प्रयागराज के एसपी इंटेलीजेंस की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि सुरक्षा देना जरूरी है. उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में अंदेशा जताया जा चुका है कि अतुल राय की जान को मुख्तार से खतरा है. उन्होंने इस बात का भी दावा किया है कि इसी रिपोर्ट के आधार पर मुख्तार अंसारी को नैनी जेल के बजाय बांदा जेल में शिफ्ट किया गया है.

इसके साथ ही उन्होंने फिर अतुल राय की केस में पुर्नविवेचना की मांग दोहराई. वकील ने कहा कि घोसी के सांसद को जिस मुकदमे में फंसाकर जेल भेजा गया है, उसके संबंध में सारे तथ्य और रिकार्डिंग पुलिस को सौंपी गई. सीओ और एसपी सिटी की जांच रिपोर्ट में भी सारे तथ्य और रिकार्डिंग सही पाई गई तो आखिर क्यों लंका एसओ और पुलिस अधिकारियों दवारा कोर्ट में पुर्नविवेचना का प्रार्थना पत्र नहीं दिया गया है. जबकि चार मुकदमों की जांच में घिरे लड़की और उसके पुरुष मित्र की न ही गिरफ्तारी हुई और न ही कोई दूसरी कानूनी कार्यवाही.

UP News: कांवड़ यात्रा पर यूपी सरकार के जवाब से सुप्रीम कोर्ट संतुष्‍ट, मामला निस्‍तारित

वहीं अतुल राय के पिता भरत राय ने कहा कि राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में उनके बेटे को फंसाया गया है. जबकि बहन नम्रता राय ने सवाल उठाया कि चुनाव के महज 19 दिन पहले मामला दर्ज कराकर कार्यवाही होना साफ षडयंत्र की ओर इशारा करता है. बता दें कि अतुल राय के भाई और वकील अनुज ने पहले भी ये कहा है कि विधायक मुख्तार अंसारी घोसी सीट से अपने बेटे को चुनाव लड़ना चाहते थे, इसलिए अतुल राय को फंसाने का षडयंत्र रचा गया. बहन नम्रता राय ने कहा कि अगर दोबारा इस मामले की निष्पक्ष जांच नहीं की गई तो पूरा परिवार आत्मदाह करने के लिए तैयार है.

ब्लॉक प्रमुख चुनाव: लखनऊ में मारे गए गैंगस्टर अजीत सिंह की पत्नी रानू को BJP ने बनाया प्रत्याशी

Mau: बीजेपी ने लखनऊ में मारे गए गैंगस्टर अजीत सिंह की पत्नी रानू सिंह (बाएं से दूसरी) को ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी बनाया है.

Mau News: इसी साल 6 जनवरी को लखनऊ में गैंगस्टर और पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या हो गई थी. उसके बाद से पूर्वांचल के माफियाओं में मोहम्मदाबाद के ब्लॉक प्रमुख पद पर निगाहें टिकी हुई हैं.

SHARE THIS:
मऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में मारे गए गैंगस्टर पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह (Gangster Ajit Singh) की पत्नी रानू सिंह बीजेपी में शामिल हो गई हैं. उन्हें बीजेपी ने मऊ (Mau) के मोहम्मदाबाद ब्लॉक से प्रमुख पद की प्रत्याशी घोषित कर दिया है. इसके साथ ही बीजेपी ने सभी 9 ब्लॉक प्रमुख पद के नाम का ऐलान कर दिया है.

बीजेपी ने जो प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की है, उसमें पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की पत्नी रानू सिंह को मोहम्मदाबाद से अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया है. अजीत सिंह के हत्या के बाद से ही यह कयास लगाया जा रहा था. जिला अध्यक्ष ने कुल 9 ब्लॉकों के प्रमुख पद के प्रत्याशियों का घोषणा पार्टी कार्यालय में किया.



बता दें इसी साल 6 जनवरी को लखनऊ में गैंगवार के दौरान पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या हो गई थी. इसी मामले में पूर्व सांसद धनंजय सिंह भगोड़ा करार दिए जा चुके हैं. वहीं अजीत सिंह की हत्या के बाद से पूर्वांचल के माफियाओं में आने वाले ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव पर निगाहें सब की बनी हुई थी. अजीत सिंह के धुर विरोधियों की निगाहें मोहम्मदाबाद के ब्लाक प्रमुख पद पर बनी हुई थी कि अचानक अजीत सिंह की पत्नी ने भाजपा में शामिल होकर सबको चौंका दिया.

दरअसल रानू सिंह 2010 से 2016 तक मोहम्मदाबाद से ही ब्लाक प्रमुख थीं. 2016 में पिछड़ी महिला जाति की सीट होने के कारण उन्होंने अपने काम करने वाली दाई को प्रमुख बना दिया. इस बार के चुनाव में अपने गांव देवसीपुर से निर्विरोध बीडीसी सदस्य चुनी गई हैं. रानू सिंह ने बताया कि बीजेपी की नीतियों से प्रभावित होकर हमने पार्टी ज्वाइन किया है. राजनीति में 2010 से ब्लाक प्रमुख के रूप में काम की हूं. मेरे पति मुझे विरासत में बहुत कुछ देकर गए हैं, जिसमें मेरे दोनों बेटे हैं. जनता के कामों को बखूबी निभाने का मुझे अनुभव है.

UP: बांदा जेल में बंद बाहुबली MLA मुख्तार अंसारी के खिलाफ अब ED ने दर्ज किया मनी लांड्रिंग का केस

बांदा जेल में बंद बाहुबली MLA मुख्तार अंसारी पर ED ने कसा शिकंजा (File Photo)

UP News: मुख्तार अंसारी (MLA Mukhtar Ansari) बसपा (BSP) से विधायक हैं और उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमों के साथ ही जमीन की हेराफेरी, अवैध कब्जे और गबन के गंभीर मामले दर्ज हैं.

SHARE THIS:
प्रयागराज. बांदा जेल (Banda Jail) में बंद पूर्वांचल के माफिया डॉन मुख्तार अंसारी (MLA Mukhtar Ansari) की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी (ED) ने भी मुख्तार अंसारी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. मुख्तार के खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज किया गया है. ईडी की प्रयागराज यूनिट ने मऊ और लखनऊ जिले में पूर्व में दर्ज तीन मुकदमों को आधार बनाते हुए यह बड़ी कार्रवाई की है. ईडी की नजर मुख्तार की अवैध रूप से अर्जित संपत्ति पर है. मुकदमा दर्ज करने के बाद ईडी ने इस मामले में जांच पड़ताल शुरू कर दी है.

गौरतलब है कि हाल में ही पंजाब के रोपड़ जेल से माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को बांदा जेल में शिफ्ट किया गया है. मुख्तार अंसारी बसपा से विधायक हैं और उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमों के साथ ही जमीनों की हेराफेरी, अवैध कब्जे, गबन के गंभीर मामले दर्ज हैं. इसी कड़ी में मुख्तार अंसारी के खिलाफ मऊ में धोखाधड़ी कर विधायक निधि निकालने और अन्य आरोपों में एक एफआईआर दर्ज कराई गई है. इससे पहले वर्ष 2020 में धोखाधड़ी करते हुए जाली दस्तावेज तैयार करके सरकारी जमीन पर कब्जा करने का भी मुकदमा दर्ज किया गया था.

रायबरेली पुलिस का बड़ा खुलासा, चाचा को फंसाने शायर मुनव्वर राना के बेटे ने खुद पर चलवाई थी गोली

लखनऊ में भी इसी तरह धोखाधड़ी कर संपत्ति अर्जित करने के मामले में मुख्तार अंसारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है. इन्हीं मुकदमों को आधार बनाते हुए अब ईडी ने जांच शुरू कर दी है. ईडी की जांच के दायरे में मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसां अंसारी, बेटा अब्बास के अलावा साले व कई अन्य करीबी आ सकते हैं. मुख्तार अंसारी पर आरोप है कि उसने अपनी अवैध रूप से कमाई का बड़ा हिस्सा परिवार वालों के साथ ही रिश्तेदारों और करीबियों के नाम पर अलग-अलग जगहों पर निवेश किया है.

अवैध रूप से अर्जित संपत्ति का ब्यौरा
सूत्रों का कहना है कि जांच के दौरान उसकी अवैध रूप से अर्जित संपत्ति का ब्यौरा जुटाया जाएगा. इस बात का पता लगाया जाएगा कि अवैध साम्राज्य बनाने में धन कहां से आया है. जांच के बाद मुख्तार अंसारी की सभी अवैध संपत्तियों को अटैच करने की कार्रवाई की जाएगी. इससे पहले बाहुबली अतीक अहमद और विजय मिश्रा के खिलाफ भी ईडी ने केस दर्ज किया था.

UP News: दुष्कर्म के आरोपी BSP सांसद अतुल राय को हाईकोर्ट से बड़ा झटका, जमानत अर्जी खारिज

बसपा सांसद अतुल राय की जमानत अर्जी हाईकोर्ट ने खारिज कर दी है.  (File Photo)

Allahabad High Court News: अतुल राय घोसी से बसपा के सांसद हैं. उनके खिलाफ वाराणसी के लंका थाने में एक युवती ने मुकदमा दर्ज कराया है. अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म, धोखाधड़ी समेत कई गंभीर धाराओं में ये मुकदमा दर्ज कराया गया है.

SHARE THIS:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से बड़ी खबर आ रही है. यहां दुष्कर्म के आरोपी (Rape Accused) बसपा सांसद अतुल राय (BSP MP Atl Rai) को हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट ने अतुल राय की जमानत अर्जी खारिज कर दी है. बता दें अतुल राय घोसी से बसपा के सांसद हैं. अतुल राय के खिलाफ वाराणसी के लंका थाने में एक युवती ने मुकदमा दर्ज कराया है. अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म, धोखाधड़ी समेत कई गंभीर धाराओं में ये मुकदमा दर्ज कराया गया है.

एफआईआर के मुताबिक, अतुल राय युवती को लंका स्थित एक अपार्टमेंट के फ्लैट में झांसा देकर ले गए और उनका यौन शोषण किया. युवती ने उन पर यह आरोप भी लगाया है कि बसपा नेता ने दुष्कर्म की घटना के बाद उस पर मुंह बंद रखने का दबाव बनाते रहे.

आरोप के बाद जीता था चुनाव

बता दें कि रेप का आरोप लगने के बाद भी लोकसभा चुनाव में बीएसपी के अतुल राय ने बीजेपी के हरिनारायण राजभर को 1,22,018 हजार मतों से हराया. इस सीट पर कुल 11,37,931 मत पड़े और अतुल कुमार को 5,72,258 मत मिले, जबकि भाजपा उम्मीदवार हरिनारायण राजभर को 4,50,240 मत प्राप्‍त हुआ. वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार हरिनारायण राजभर जीत दर्ज करने में सफल रहे थे.



बाहुबली उमाकांत यादव के बेटे को लगा झटका

वहीं बाहुबली उमाकांत यादव के बेटे रविकांत यादव को भी हाईकोर्ट से झटका लगा है. हाईकोर्ट ने गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे की विवेचना ट्रांसफर करने से इंकार कर दिया है. कोर्ट ने पुलिस को निष्पक्ष विवेचना का निर्देश दिया है. अर्जी में दूसरे थाने में विवेचना ट्रांसफर करने की मांग की थी. बता दें उमाकांत यादव के बेटे रविकांत यादव व अन्य के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज है. याचिका में आरोप लगाया गया है कि जिस थाना पुलिस के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गई है, वही विवेचना भी कर रही है. कोर्ट ने कहा कि आरोपी पुलिस जांच नहीं कर रही बल्कि दूसरी पुलिस विवेचना कर रही है. रविकांत यादव की याचिका कोर्ट ने निस्तारित कर दी. जस्टिस एमएन भंडारी और जस्टिस अजय त्यागी की खंडपीठ ने ये आदेश दिया है.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज