मेरठ: ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल कराने के लिए प्रशासन ने खोले 3 सेंटर, जानिए प्रोसेस

होम आiसोलेटेड मरीज़ों के लिए ये बड़ी व्यवस्था की गई है

होम आiसोलेटेड मरीज़ों के लिए ये बड़ी व्यवस्था की गई है

Meerut News: नगर आयुक्त मनीष बंसलने बताया कि इन सभी केन्द्रों पर कर्मचारी ड्यूटी देंगे. खाली सिलेंडर जमा रिफिलिंग कराकर इनके वितरण की ज़िम्मेदारी नगर निगम को सौंपी गई है. नगर निगम ने लोगों के लिए टेलिमेडिसीन की सुविधा भी शुरू की है.

  • Share this:

मेरठ: मेरठ में अब ऑक्सीजन सिलेंडर को लेकर मरीज़ के तीमारदारों को लंबी कतारों से राहत मिलेगी. मेरठ में अब ऑक्सीजन सिलेंडर्स को फिल कराने के लिए प्रशासन की तरफ से तीन केंद्र खोल दिए गए हैं. तीन केन्द्रों में ज़रूरतमंद लोगों को ज़रुरी कागज़ात दिखाकर सिलेंडर रीफिल करा सकते हैं. मेरठ के जागृति विहार कंकरखेड़ा और दिल्ली रोड पर केन्द्र खोले गए हैं. नगर आयुक्त मनीष बंसलने बताया कि इन सभी केन्द्रों पर कर्मचारी ड्यूटी देंगे. उन्होंने बताया कि होम आइसोलेटेड मरीज़ों के लिए ये बड़ी व्यवस्था की गई है ताकि लोगों को लंबी लंबी कतारों में न लगना पड़े.

ऑक्सीजन के सिलेंडर को लेकर स्वजनों को आधार कार्ड की फोटो कॉपी, डॉक्टर की दवा का पर्चा. ऑक्सीजन की सैचुरेशन लेवल रिपोर्ट और कोरोना टेस्ट रिपोर्ट दिखानी होगी. बंसल ने बताया कि शहर में तीन ऑक्सीजन गैस सिलेंडर संग्रह वितरण केन्द्र खोले गए हैं. जरूरतमंदों को आवेदन के साथ खाली सिलेंडर जमा करना होगा. 24 घंटे बाद उन्हें भरा सिलेंडर दिया जाएगा. यह व्यवस्था आज सुबह से शुरू हो गई है. संग्रह वितरण केन्द्र नवभारत विद्यापीठ इंटर कॉलेज परतापुर दिल्ली रोड, सामुदायिक केन्द्र डिफेंस एन्कलेव कंकरखेड़ा और सामुदायिक केन्द्र जागृति विहार सेक्टर तीन में खोला गया है.

खाली सिलेंडर जमा रिफिलिंग कराकर इनके वितरण की ज़िम्मेदारी नगर निगम को सौंपी गई है. खाली सिलेंडर्स की रिफिलिंग अग्रवाल गैसेज परतापुर और माहेश्वरी गैसेज़ मोहिउद्दीनपुर से की जाएगी. नगर आयुक्त ने बताया कि आवेदक का रैंडम सत्यापन किया जाएगा. जरूरत पड़ने पर वीडियो कॉल करके मरीज़ की वास्तविक स्थिति का सत्यापन भी किया जाएगा. यदि आवेदक फर्ज़ी मिला तो सिलेंडर ज़ब्त करके प्रशासन को कार्रवाई के लिए सूचित किया जाएगा. नगर निगम ने लोगों के लिए टेलिमेडिसीन की सुविधा भी शुरू की है. नगर निगम ने इस बावत हेल्पलाइन नम्बर (08041424157) भी जारी किया है.

बंसल ने बताया कि आईएमए ने चालीस डॉक्टरों का पैनल तैयार किया है. उन्होंने कहा कि जिन लोगों की इस दौरान मृत्यु हुई है उनके परिजनों को मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए भटकना न पड़े इसे लेकर भी व्यवस्था की गई है. नगर आयुक्त ने बताया कि कोरोना कर्फ्यू के दौरान शहर के गली मोहल्लों को लगातार सैनेटाइज़ भी किया जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज