Assembly Banner 2021

मेरठ में Sports University को लेकर कवायद शुरू, जानिए कहां चिन्हित की गई जमीन?

मेरठ में खेल विश्वविद्यालय की जमीन का निरीक्षण करते डीएम.

मेरठ में खेल विश्वविद्यालय की जमीन का निरीक्षण करते डीएम.

Meerut News: उत्तर प्रदेश सरकार के ऐलान के बाद मेरठ में खेल यूनिवर्सिटी को लेकर कवायद तेज हो गई है. जिला प्रशासन ने यूनिवर्सिटी के लिए चिन्हित जमीन का निरीक्षण कर लिया है, अब शासन स्तर पर चर्चा होनी है.

  • Share this:
मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में खेल विश्वविद्यालय (Sports University) की घोषणा के बाद अब ज़मीनी स्तर पर भी कार्य दिखना शुरू हो गया है. इसी कड़ी में मेरठ के ज़िलाधिकारी के बालाजी ने खेल विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित भूमि का निरीक्षण किया है. ये भूमि सलावा नाम के स्थान पर चिन्हित की गई है. ज़िलाधिकारी ने कहा कि खेल विश्वविद्यालय बन जाने से युवाओं को बेहतर अवसर मिलेंगे और उनका भविष्य संवरेगा. खेल विश्वविद्यालय का ज़िक्र यूपी के बजट में भी किया गया है. यूपी बजट में स्पोर्ट्स सेंटर की घोषणा से खेल कारोबारी कल इतने खुश हुए थे कि उन्होंने नगाड़ा बजाकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद दिया.

मेरठ से चालीस किलोमीटर दूर तहसील सरधना के ग्राम सलावा में बनने वाले खेल विश्वविद्यालय के संबंध में जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ग्राम सलावा का निरीक्षण किया. उन्होंने कहा कि खेल विश्वविद्यालय बन जाने से मेरठ और आसपास के क्षेत्रों के युवाओं को उच्च स्तर की सुविधाएं अपनी खेल प्रतिभा को निखारने के लिए मिलेंगी, जो कि उनके भविष्य निर्माण में सहायक होगी. उन्होंने कहा कि खेल विश्वविद्यालय अत्याधुनिक सुविधाओ से सुसज्जित होगा.

शासन को भेजा गया प्रस्ताव
खेल विश्वविद्यालय के लिए सिंचाई विभाग की 36.9813 हेक्टेयर भूमि का प्रस्ताव बनाकर शासन को प्रेषित कर दिया गया है. प्रदेश सरकार के बजट आवंटन में भी खेल विश्वविद्यालय के लिए करोड़ों रुपए का अग्रिम प्रावधान किया गया है. जिलाधिकारी ने बताया कि मुख्य सचिव यूपी खेल विश्वविद्यालय के संबंध में लखनऊ में आयोजित एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता करेंगे. इस अवसर पर उप जिलाधिकारी सरधना अमित कुमार भारतीय, अधिशाषी अभियंता लोकनिर्माण विभाग सीपी सिंह और एक और अधिकारी आशुतोष सारस्वत के अलावा कई अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज