लाइव टीवी
Elec-widget

बसपा से निष्कासन के बाद बोले योगेश वर्मा- चापलूस कोआर्डिनेटरों ने मायावती को किया गुमराह

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 26, 2019, 5:44 PM IST
बसपा से निष्कासन के बाद बोले योगेश वर्मा- चापलूस कोआर्डिनेटरों ने मायावती को किया गुमराह
बसपा से निष्कासित किए गए योगेश वर्मा ने मंगलवार को मेरठ में जनसभा की.

मेरठ (Meerut) में जनसभा को संबोधित करते हुए योगेश वर्मा (Yogesh Verma) ने कहा कि ज़िला पंचायत के चुनाव मे बसपा को नज़ारा दिख जाएगा. बसपा एक भी ज़िला पंचायत सदस्य जिता लें तो वो मान जाएगे. योगेश ने दावा किया आने वाले दिनों में और भी सीनियर बसपाई पार्टी छोड़ देंगे.

  • Share this:
मेरठ. बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) से निकाले गए योगेश वर्मा (Yogesh Verma) ने मंगलवार को मेरठ में एक सभा की. इस दौरान योगेश वर्मा बसपा के कोआर्डिनेटर्स (Co-ordinators) और बसपा प्रदेश अध्यक्ष पर जमकर बरसे. उन्होंने कहा कि कई चापलूस कोआर्डिनेटर बसपा को खत्म कर रहे हैं. साथ ही कहा कि ज़िला पंचायत के चुनाव मे बसपा को नज़ारा दिख जाएगा. योगेश वर्मा ने कहा कि बसपा एक भी ज़िला पंचायत सदस्य जिता लें तो वो मान जाएगे. यही नहीं योगेश का दावा है कि आने वाले दिनों में और भी सीनियर बसपाई पार्टी छोड़ देंगे. पूर्व विधायक योगेश वर्मा ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी कांशीराम की नीतियों से अलग हो चुकी है और बसपा के इन्हीं कोआर्डिनेटरों ने मायावती (Mayawati) को गुमराह कर रखा है.

इस दौरान योगेश वर्मा की पत्नी और शहर की मेयर सुनीता वर्मा ने कहा कि उन्हें पार्टी से निकाल दिया है लेकिन वो जनता के बीच रहकर काम करेंगी. मेयर ने दावा किया कि बसपा के सभी पार्षद उनके साथ हैं. मेयर ने कहा कि बसपा में अब कुछ नहीं बचा है और कोआर्डिनेटरों ने बसपा को खत्म कर दिया है.
बता दें मेरठ की मेयर सुनीता वर्मा और उनके पति और पूर्व विधायक योगेश वर्मा को बहुजन समाज पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है. बताया गया कि दोनों पर पार्टी में अनुशासनहीनता के कारण ये कार्रवाई की गई है. दरअसल ये दोनों नेता लोकसभा चुनाव 2019 के बाद पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल पाए गए थे. जिसके बाद ऐसी चर्चाएं थी कि दोनों बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

बीजेपी में जाने की चर्चा के बाद निष्कासन

इसे लेकर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने हिदायत दी थी कि यदि पार्टी के सदस्यों को दूसरे दलों के नजदीकी और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल पाया गया तो उन्हें बाहर कर दिया जाएगा. एक बार फिर से मेयर सुनीता वर्मा और उनके पति योगेश वर्मा के बीजेपी में जाने की चर्चाएं थीं लेकिन मायावती ने इससे पहले उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है. बता दें कि योगेश वर्मा वर्ष 2007 से 2012 तक बीएसपी की ओर से मेरठ की हस्तिनापुर सीट से विधायक रहे हैं. वहीं उनकी पत्नी मेरठ नगर निगम से पार्टी की टिकट पर मेयर चुनी गईं थी.

ये भी पढ़ें:

सीएम योगी बोले- अनुच्छेद 370 वही हटा सकता था, जिसके कलेजे में हिम्मत थी
Loading...

महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस की तरह UP के इस CM को भी देना पड़ा था इस्तीफा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 5:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...