मेरठ: कार्यसमिति के बैठक में अमित शाह ने दिए 73+ का मंत्र, छाए रहे दलितों के मुद्दे

माना जा रहा है कि एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के बाद सवर्ण मतदाताओं में जो रोष है, उसे लेकर पार्टी गंभीर है. इसलिए दलितों के साथ-साथ सवर्ण वोटों को कैसे साधा जाए इस पर भी चर्चा हुई.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 13, 2018, 9:42 AM IST
मेरठ: कार्यसमिति के बैठक में अमित शाह ने दिए 73+ का मंत्र, छाए रहे दलितों के मुद्दे
बैठक में पहुंचे अमित शाह
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 13, 2018, 9:42 AM IST
पश्चिम उत्तर प्रदेश के मेरठ में बीजेपी की राज्य कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक के अंतिम दिन रविवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के सांसदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं को 73 से अधिक सीटें जीतने का मंत्र दिया. शाह ने कार्यकर्ताओं से वोट प्रतिशत को 51% तक करने का लक्ष्य रखा. वहीं पूरी बैठक के दौरान दलितों का मुद्दा छाया रहा. एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के बाद सवर्णों के विरोध को देखते हुए पार्टी अध्यक्ष ने बैठक के दौरान बीच का रास्ता निकालने की रणनीति पर चर्चा की. माना जा रहा है कि एक्ट में बदलाव के बाद सवर्ण मतदाताओं में जो रोष है, उसे लेकर पार्टी गंभीर है. इसीलिए दलितों के साथ-साथ सवर्ण वोटों को कैसे साधा जाए इस पर भी चर्चा हुई.

यह भी पढ़ें: जो संसद की गरिमा नहीं रख सका वो PM बनने का सपना देख रहा है- राजनाथ सिंह

इससे पहले शनिवार को कार्यसमिति की बैठक में पहुंचे सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को 2019 में मिशन 73+ के लक्ष्य को प्राप्त करने में अपना योगदान देने का आह्वान किया था. इस मौके पर योगी ने उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार के निवेश और सुशासन का जिक्र करते हुए कहा कि बीजेपी की सरकार विकास सबका करेगी, लेकिन तुष्टिकरण किसी का नहीं करेगी.

यह भी पढ़ें: CM योगी का SP-BSP पर निशाना, पूछा-अब तक दलितों को क्यों नहीं मिलते थे घर?

मिशन 2019 की तैयारी के दौरान योगी ने विरोधियों द्वारा बीजेपी पर दलित विरोधी होने के आरोपों पर भी जवाब दिया और कहा कि, 'विरोधी आरोप लगा रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार दलित विरोधी है. मैं पूछता हूं कि इसके पहले दलितों के बैंक अकाउंट क्यों नहीं खुल पाए थे? उनके घरों में रसोई गैस क्यों नहीं पहुंची थी? उनको गैस कनेक्शन क्यों नहीं मिल रहे थे?' योगी ने पूछा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में दलितों और पिछड़ों को आरक्षण का लाभ क्यों नहीं मिल पाया?

ये भी पढ़ें:  

राम मंदिर कभी बीजेपी का चुनावी मुद्दा नहीं रहा: डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय
Loading...

मुजफ्फरनगर दंगों में BJP नेताओं की बढ़ीं मुश्किलें, मुकदमा वापस लेने से DM का इनकार

कासगंज में एक बार फिर 'तिरंगा यात्रा' की तैयारी, अलर्ट पर खुफिया एजेंसियां
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर