• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • अमरोहा लोकसभा सीट: ...तो मुस्लिम वोट के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने लिया नाम वापस!

अमरोहा लोकसभा सीट: ...तो मुस्लिम वोट के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने लिया नाम वापस!

Loksabha election 2019: कहा जा रहा है कि अमरोहा सीट पर मुस्लिम वोटों के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने चुनाव लड़ने से इनकार किया है.

Loksabha election 2019: कहा जा रहा है कि अमरोहा सीट पर मुस्लिम वोटों के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने चुनाव लड़ने से इनकार किया है.

Loksabha election 2019: कहा जा रहा है कि अमरोहा सीट पर मुस्लिम वोटों के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने चुनाव लड़ने से इनकार किया है.

  • Share this:
अमरोहा से कांग्रेस प्रत्याशी राशिद अल्वी ने लोकसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है. उन्होंने पार्टी हाई कमान को निजी कारणों का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने में असमर्थतता जताई है. जिसके बाद पार्टी ने राशिद अल्वी की जगह सचिन चौधरी को कांग्रेस प्रत्याशी बनाया है.

गौरतलब है कि अमरोहा लोकसभा सीट पर दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को चुनाव होने हैं. नामांकन की आखिरी तारीख 26 मार्च यानी मंगलवार है. सचिन चौधरी अब इस सीट से नामांकन करेंगे.

कहा जा रहा है कि अमरोहा सीट पर मुस्लिम वोटों के बंटवारे को रोकने के लिए राशिद अल्वी ने चुनाव लड़ने से इनकार किया है. दरअसल, गठबंधन की तरफ से बसपा ने कुंवर दानिश अली को मैदान में उतारा है. कांग्रेस की तरफ से राशिद अल्वी मैदान में थे. ऐसे में दो मुस्लिम उम्मीदवार के मैदान में होने से वोटों का बंटवारा होता और इसका फायदा बीजेपी को हो सकता था. यही वजह है कि राशिद अल्वी ने चुनाव न लड़ने का फैसला लिया. इस सीट पर बीजेपी ने अपने मौजूदा सांसद कंवर सिंह तंवर को फिर से मैदान में उतारा है.

दरअसल, अमरोहा सीट पर मुस्लिम मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं. अमरोहा लोकसभा क्षेत्र में करीब 16 लाख वोटर हैं, इनमें से 829446 वोटर पुरुष और 714796 महिला वोटर हैं. 2014 में यहां करीब 71 फीसदी मतदान हुआ था. जबकि 7779 वोट NOTA को गए थे. इस सीट पर दलित, सैनी और जाट वोटर अधिक मात्रा में हैं, जबकि मुस्लिम वोटरों की संख्या भी 20 फीसदी से ऊपर है.

बता दें राशिद अल्वी अमरोहा से बसपा के सांसद रह चुके हैं. वे पहली बार 1999 में बसपा के टिकट पर संसद पहुंचे थे. इसके बाद उन्होंने बसपा छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन कर लिया. 2004  कांग्रेस ने उन्हें राज्य सभा भेजा. वह 2013 तक कांग्रेस के प्रवक्ता भी रहे. आज वे कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में से एक हैं.

यह भी पढ़ें: 

शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम लखनऊ से हो सकती हैं सपा प्रत्याशी, राजनाथ के खिलाफ लड़ेंगी चुनाव!

लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में पहले चरण के लिए इन दिग्गजों के बीच होगा चुनावी दंगल

लोकसभा चुनाव: UP में कांग्रेस के 'अच्छे दिन' लाने के लिए 'ब्राह्मण' ही क्यों हैं प्रियंका की पसंद

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन