लाइव टीवी

मेरठ CAA हिंसा: पुलिस पर फायरिंग के आरोप में पिस्टल के साथ अनीस उर्फ खलीफा गिरफ्तार

Advertorial
Updated: January 15, 2020, 1:52 PM IST
मेरठ CAA हिंसा: पुलिस पर फायरिंग के आरोप में पिस्टल के साथ अनीस उर्फ खलीफा गिरफ्तार
मेरठ हिंसा के दौरान ये फोटो काफी वायरल हुई थी.

मेरठ (Meerut) की लिसाड़ी गेट थाना पुलिस ने हिंसा के दौरान कथित तौर पर पुलिस पर गोली चलाने वाला 20 हजार के इनामी अनीस उर्फ खलीफा को गिरफ्तार किया है.

  • Advertorial
  • Last Updated: January 15, 2020, 1:52 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में नागरिक संशोधन कानून (CAA) को लेकर 20 दिसंबर को हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा मामले में पुलिस लगातार गिरफ्तारियां कर रही है. इसी क्रम में लिसाड़ी गेट थाना पुलिस ने हिंसा के दौरान कथित तौर पर पुलिस पर गोली चलाने वाले अनीस उर्फ खलीफा को गिरफ्तार किया है. पता चला है कि 1987 में दंगे के दौरान अनीस के भाई की मौत हुई थी, जिसका बदला लेने के लिए उसने पुलिस पर फायरिंग की थी.

10 जनवरी को हुई थी अनस की गिरफ्तारी

पुलिस के अनुसार मेरठ में 20 दिसंबर 2019 को हुई हिंसात्मक घटनाओं के संदर्भ में पिछली 10 जनवरी को अनस को गिरफ्तार किया गया था, जिसके पास से .32 बोर का कंट्री मेड पिस्टल, दो कारतूस बरामद हुए थे. उसकी निशानदेही पर उसके आवास से .315 बोर के 2 तमंचे, 12 बोर का एक तमंचा 315 बोर के 12 कारतूस और 12 बोर के छह कारतूस बरामद हुए थे. पुलिस के अनुसार फायरिंग करते हुए इसका वीडियो भी वायरल हुआ था. इससे पूछताछ के बाद नदीम नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया. जिसके पास से एक तमंचा और दो कारतूस बरामद हुआ.

थाना लिसाड़ी गेट पर 11 जनवरी को परवेज़ गिरफ्तार किया गया. जिसके पास से एक तमंचा और दो कारतूस मिले, वहीं मोहसिन को एक तमंचे और दो जिंदा कारतूस के साथ गिरफ्तार किया गया. पुलिस के अनुसार 14 जनवरी को अनीस खलीफा नामक व्यक्ति गिरफ्तार किया गया, जिसके पास से 9 एमएम की एक पिस्टल, दो कारतूस और एक तमंचा और 3 कारतूस बरामद किए गए.

Mrt anees
मेरठ पुलिस ने सीएए हिंसा के दौरान फायरिंग करने के आरोप में अनीस को गिरफ्तार किया है.


1987 के दंगे में हुई भाई की हत्या की बदला लेने को चलाई गोलियां: पुलिस

पुलिस के अनुसार ये तीनों 20 दिसंबर की हिंसात्मक घटना में फायरिंग करने में सम्मिलित थे. अनीस खलीफा ने पूछताछ में बताया कि 1987 में मेरठ में हुए दंगे में उसके भाई की हत्या हो गई थी. 20 दिसंबर 2019 को जब इस तरह की गतिविधियों की संभावना थी तो उसने अपने साथियों के साथ तैयारी किया था कि उसको बदला लेना है. इसके आधार पर साथियों को मोटिवेट किया और फायरिंग जैसी घटना को अंजाम दिया था. फायरिंग करने में इसका भी वीडियो वायरल हुआ था. पुलिस के अनुसार फायरिंग करने वाले की पहचान अनस एवं अनीस उर्फ खलीफा के रूप में हुई है. इन के संदर्भ में आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है.इनपुट: निखिल अग्रवाल

ये भी पढ़ें:

अखिलेश यादव ने दी मायावती को जन्मदिन की बधाई, डिंपल के बर्थ डे पर हवन

समूचे UP में आज हल्की बारिश, 16 जनवरी को होगी और तेज, 18 से साफ होगा मौसम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 1:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर