Home /News /uttar-pradesh /

धरम सिंह बने अख्तर अली ने कहा- मोदी के इंडिया में मुस्लिमों संग नहीं हो रहा निष्पक्ष व्यवहार

धरम सिंह बने अख्तर अली ने कहा- मोदी के इंडिया में मुस्लिमों संग नहीं हो रहा निष्पक्ष व्यवहार

धर्म परिवर्तन के बाद मीडिया से बातचीत करते अख्तर अली

धर्म परिवर्तन के बाद मीडिया से बातचीत करते अख्तर अली

धर्मपरिवर्तन के बाद धरम सिंह ने कहा, मेरा नाम अख्तर अली था. मैंने अपना धर्म बदल लिया है क्योंकि पुलिस ने हमारे केस की निष्पक्षता से जांच नहीं की.

    परिवार के एक सदस्य की मौत के मामले में पुलिस द्वारा निष्पक्ष जांच नहीं करने और मुस्लिम समाज से समर्थन न मिलने पर बागपत के अख्तर अली ने परिवार के 12 सदस्यों के साथ हिंदू धर्म अपना लिया. अख्तर अली से धरम सिंह बनने के बाद उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार पर भी आरोप लगाया.

    धर्मपरिवर्तन के बाद धरम सिंह ने कहा, "मेरा नाम अख्तर अली था. मैंने अपना धर्म बदल लिया है क्योंकि पुलिस ने हमारे केस की निष्पक्षता से जांच नहीं की. इतना ही नहीं मुस्लिम समुदाय भी हमारे पक्ष में खड़ा नहीं हुआ. मोदी के इंडिया में मुस्लिमों के साथ निष्पक्ष व्यवहार नहीं किया जा रहा है."





    दरअसल, बागपत जिले में एक युवक की हत्या के मामले में पुलिस की कार्यशैली और दबंगों से परेशान मुस्लिम परिवारों ने धर्म परिवर्तन करने की इजाजत मांगी. इसके बाद अब उनमें से 13 लोगों ने मंगलवार को हिन्दू रीति-रिवाज के अनुसार यज्ञ पूजन के बाद अपना नामकरण किया. सिंघावली अहीर क्षेत्र के बदरखा गांव में शिव मंदिर में ये नामकरण कार्यक्रम आयोजित हुआ. इस दौरान युवा हिन्दू वाहिनी के लोग भी मौजूद रहे.

    बता दें मुस्लिम परिवार के 20 लोगों ने सोमवार को एसडीएम बड़ौत को एफिडेविट देकर स्वेच्छा से इस्लाम धर्म को छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने की मांग की थी. इसके बाद से ही हिंदू संगठन के कार्यकर्ता मंगलवार को पीड़ितों के गांव में हवन यज्ञ कर रीति-रिवाज के साथ नामकरण आयोजन में सक्रिय हो गए थे. उधर धर्म परिवर्तन का मामला सामने आने से जिले के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है और बागपत के डीएम ने पूरे मामले को लेकर उच्चस्तरीय जांच बैठा दी है.

    मामला छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा गांव का है. गांव के ही रहने वाले अख्तर अली का बेटा कपड़े का व्यापार करता था. जुलाई माह में उनके बेटे गुलहशन अली का शव उनकी ही दुकान में खूंटी पर लटका हुआ मिला था. परिजनों का आरोप था कि मुस्लिम समाज के ही कुछ दबंगों ने उसकी हत्या करने के बाद शव को खूंटी पर लटका दिया था लेकिन पुलिस ने उनकी एक न सुनी और हत्या को आत्महत्या में दर्ज कर शव को जबरन दफन करवा दिया.

    इसकी शिकायत पीड़ितों ने जिले के आला अधिकारियों से की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई तो पीड़ितों ने धर्म परिवर्तन करने का फैसला लिया.

    न्‍याय के लिए बदला ध्‍ार्म

    बदरखा गांव के अख्तर अली और उनके परिवार का कहना है कि इस्लाम धर्म में रहकर अपने बेटे को न्याय नहीं दिला सकते क्योंकि मुस्लिम धर्म के दबंगों ने ही हमारे बेटे की हत्या की है. अभी भी पूरे परिवार का जीना मुहाल कर रखा है. दबंग आरोपी आए दिन परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. जिसकी दहशत में पीड़ितों ने अपना गांव छोड़ दिया है. इस वजह से उन्होंने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने का फैसला किया है. उन्हें भरोसा है कि हिन्दू धर्म में रहकर ही न्याय मिल सकता है.

    Tags: Meerut news, Narendra modi, Religion, Up news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर