लाइव टीवी

रिपोर्ट: इंटरनेशनल क्रिकेट प्लेयर तैयार करता है मेरठ का ये ख़ास ग्राउंड....

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 6, 2019, 7:37 PM IST
रिपोर्ट: इंटरनेशनल क्रिकेट प्लेयर तैयार करता है मेरठ का ये ख़ास ग्राउंड....
मेरठ के भामाशाह ग्राउंड में 9 दिसंबर से होने हैं रणजी मुकाबले

इंटरनेशनल खिलाड़ी (International player) देने वाला एक ऐसा ग्राउंड जिसने कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भारतीय टीम (Indian team) की झोली में डाले हैं. इस ग्राउंड में आकर खिलाड़ी यहां की मिट्टी माथे पर लगाकर ख़ुद को धन्य समझते हैं. इसे खिलाड़ियों की कर्मस्थली माना जाता है...

  • Share this:
मेरठ. इस जनपद को स्पोर्ट्स सिटी कहा जाता है. यहां के बने हुए बैट विश्व स्तर पर भारत की पहचान रखते हैं. मेरठ को क्रिकेट की नर्सरी भी कहा जाता है. यहां के कई खिलाड़ियों ने विश्व स्तर पर भारतीय तिरंगे को लहराया है. क्रिकेट का ककहरा सीखने वाले खिलाड़ी यहां के ग्राउंड की मिट्टी को अपने माथे पर लगाते हैं. मेरठ के भामाशाह ग्राउंड पर स्पेशल रिपोर्ट. 9 दिसंबर से यहां रणजी मुकाबला होना है.

कई अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर देने वाला ग्राउंड
इस ग्राउंड पर खेलकर प्रवीण कुमार भारतीय टीम के पी के बन गए. इसी ग्राउंड से खेलकर भुवनेश्वर कुमार इंडियन क्रिकेट टीम के भुवी बन गए. इसी ग्राउंड की माटी में पसीना बहाकर कर्ण शर्मा ने मुकाम हासिल किया और ताज़ा उदाहरण प्रियम गर्ग और कार्तिक त्यागी का है. प्रियम गर्ग जहां विश्व कप अंडर 19 क्रिकेट टीम के लिए भारतीय टीम के कप्तान हैं तो वहीं कार्तिक त्यागी इसी टीम का हिस्सा हैं. अब यहां इसी ग्राउंड पर छह वर्षों के बाद रणजी का भी मुकाबला होने जा रहा है. इस ग्राउंड पर होने वाले इस मुकाबले को लेकर खिलाड़ियों की और स्थानीय निवासियों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है.

Meerut, Sports City, nursery of cricket, skill of cricket, Bhamashah Ground of Meerut, Ranji match,
मेरठ के भामाशाह ग्राउंड ने कई इंटरनेशनल प्लेयर दिए हैं.


एमडीसीए के सेक्रेटरी सुरेंद्र चौहान बताते हैं कि इसी ग्राउंड पर एक ज़माने में राहुल द्रविड़ और युवराज सिंह ने भी चौके छक्के लगाए हैं. इस ग्राउंड को आज सजा-धजाकर तैयार कर लिया गया है. इसी ग्राउंड पर मेरठ के प्रवीण कमार, भुवनेश्वर कुमार, कर्ण शर्मा ने प्रैक्टिस की. अब इसी ग्राउंड पर आगामी 9 दिसंबर से 13 दिसंबर तक यूपी और रेलवे के बीच रणजी का मुकाबला होना है. ऐसे में एक बार फिर ये ग्राउंड और विश्व स्तरीय खिलाडियों के जन्म की प्रतीक्षा कर रहा है. भवनेश्वर कुमार और वर्तमान में प्रियम गर्ग और कार्तिक त्यागी के कोच संजय रस्तोगी का कहना है इस ग्राउंड में खिलाड़ियों का पसीना सफलता बनकर सामने आ रहा है.

कुछ और धुरंधर निकलेंगे
संजय कहते हैं इंटरनेशनल खिलाड़ी देने वाला ग्राउंड एक ऐसा ग्राउंड जिसने कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भारतीय टीम की झोली में डाले हैं. इस ग्राउंड में आकर खिलाड़ी यहां की मिट्टी माथे पर लगाकर ख़ुद को धन्य समझते हैं. इस ग्राउंड पर जिस भी  खिलाड़ी ने लगन और निष्ठा के साथ पसीना बहाया उसे उसका फल ज़रुर मिला है. खिलाड़ियों की कर्मस्थली भी माना जाता है ये ग्राउंड.इसी ग्राउंड से ही खेलकर क्रिकटे का एबीसीडी सीखने वाले निर्देश ने मेघायल की टीम की तरफ से खेलते हुए नागालैण्ड की टीम के सारे विकेट एक ही पारी में चटका दिए. इस ख़तरनाक बॉलिंग स्पेल के बाद निर्देश की तुलना क्रिकेट लीजेंड अनिल कुंबले से की जाने लगी. वाकई में ये ग्राउंड सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है. इस ग्राउंड के सफलता की गाथा जारी है. उम्मीद है कि इस रणजी सेशन में भी कुछ और धुरंधर निकलेंगे जो भारतीय टीम के लिए मील का पत्थर साबित होंगे और इस ग्राउंड की गाथा चलती रहेगी.

ये भी पढ़ें- बुलंदशहर: Hyderabad Encounter पर छात्राओं ने आतिशबाजी कर मनाया जश्न !

राज्यसभा में गर्ल्स हॉस्टल की सुरक्षा का मुद्दा उठवाना ऋचा सिंह को पड़ा भारी, AU चीफ प्रॉक्टर ने कमरा खाली करने का दिया नोटिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 7:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर