लाइव टीवी

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने 23 फ़रवरी को बुलाया भारत बंद, वेस्ट यूपी में अलर्ट
Meerut News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 23, 2020, 10:24 AM IST
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने 23 फ़रवरी को बुलाया भारत बंद, वेस्ट यूपी में अलर्ट
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर (फाइल फोटो)

यह बंद सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के खिलाफ है जिसमें कहा गया था कि राज्य सरकारी नौकरियों और पदोन्नति में कोटा देने के लिए बाध्य नहीं हैं.

  • Share this:
मेरठ. प्रमोशन में कोटा (Reservation in Quota), सीएए (CAA) और दलितों के खिलाफ हो रहे अत्याचार को देखते हुए भीम आर्मी (Bhim Army) चीफ चंद्रशेखर (Chandrashekhar) ने रविवार को भारत बंद (Bharat Bandh) का आह्वान किया है. भारत बंद के आह्वान को देखते हुए पश्चिम में उत्तर प्रदेश में पुलिस प्रशासन अलर्ट पर है. हालांकि अभी तक बंद का असर देखने को नहीं मिला है.

उधर चंद्रशेखर ने ट्वीट कर शांतिपूर्ण माहौल में बंद के सफल बनाने की अपील की है. चंद्रशेखर ने लिखा है, " मेरी पूरे बहुजन समाज से अपील है कि नाइंसाफी के खिलाफ आवाज उठाना हमारा मौलिक अधिकार है इसलिए शांतिपूर्ण ढंग से भारत बंद करवाएं। किसी भी अप्रिय घटना से बचें। भाजपा के लोग आपको उकसाने की कोशिश करेंगे किसी भी प्रकार के उकसावे में न आएं"

इससे पहले 12 फ़रवरी को चंद्रशेखर ने ट्वीट कर 23 फ़रवरी को भारत बंद का आह्वान किया था. साथ अन्य विपक्षी दलों से भी सहयोग की अपील की थी. उन्होंने लिखा था, "सभी साथी 23 फरवरी को भारत बंद की तैयारी करें. हम 16 फरवरी को मंडी हाउस से पार्लियामेंट तक मार्च निकालकर सरकार को बता देंगे कि आरक्षण से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ बर्दाश्त नही की जाएगी. मैं सभी राजनीतिक पार्टियों से अपील करता हूं कि 23 फरवरी के भारत बंद में सहयोग करें."



मेरठ जोन में अलर्ट



मेरठ जोन के एडीजी प्रशांत कुमार का कहना है कि हम स्थिति पर पैनी निगाह बनाए हुए हैं। खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों के इनपुट को एक-दूसरे से साझा किया जा रहा है। फिलहाल मिले इनपुट के अनुसार भारत बंद का पश्चिमी यूपी में कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा। दो अप्रैल को हुई हिंसा के तहत सावधानी बरती जा रही हैं। कुमार ने कहा, 'दो साल पहले दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान सोशल मीडिया की वजह से हुई घटनाओं को ध्यान में रखते हुए, हम निश्चित रूप से हाई अलर्ट पर हैं और हमारी नजर संभावित उपद्रवियों पर है। सोशल मीडिया पर खासतौर से नजर रखी जा रही है।'

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बंद

यह बंद सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के खिलाफ है जिसमें कहा गया था कि राज्य सरकारी नौकरियों और पदोन्नति में कोटा देने के लिए बाध्य नहीं हैं. इसके अलावा नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और दलितों की पिटाई को लेकर भी बंद बुलाया गया है.

ये भी पढ़ें:

डॉ. कफील खान के मामा की गोली मारकर हत्या, सामने आया यह विवाद

 

बसपा में 'परिवारवाद' के सहारे कहीं मायावती वारिस तो नहीं तलाश रहीं?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 10:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading