कोरोना जांच में बड़ी लापरवाही, गुरुग्राम की प्राइवेट लैब ने मेरठ में 6 स्वस्थ लोगों को बता दिया पॉजिटिव, एक्शन
Chandigarh-City News in Hindi

कोरोना जांच में बड़ी लापरवाही, गुरुग्राम की प्राइवेट लैब ने मेरठ में 6 स्वस्थ लोगों को बता दिया पॉजिटिव, एक्शन
लैब का लाइसेंस निरस्त करने के लिए डीएम मेरठ अऩिल ढींगरा ने शासन को संस्तुति भेजी है.

उत्तर प्रदेश में ये अपने आप में पहला मामला माना जा रहा है. मेरठ (Meerut) में फर्ज़ीवाड़े के शक में मॉडर्न लैब के 8 सैंपल की जांच 24 मई को मेरठ मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबॉयोलॉजी लैब में कराई गई. इनमें से 6 सैंपल निगेटिव मिले, जबकि निजी लैब में ये सभी सैंपल 21 मई को पॉज़िटिव पाए गए थे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मेरठ. एक तरफ पूरे देश में मंगलवार तक कुल कोरोना मामलों की संख्या 145,380 पहुंच गई है. वहीं कोरोना वायरस (Coronavirus India) से मरने वालों का आंकड़ा 4167 तक पहुंच गया है. यूपी में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इन सबके बीच मेरठ (Meerut) से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है. यहां गुरुग्राम, हरियाणा (Gurugram, Haryana) की एक प्राइवेट लैब (Private Lab) पर कोरोना की गलत जांच रिपोर्ट देने का आरोप लगा है. मामले में जिला प्रशासन ने सख्त रुख अख्तियार करते हुए लैब का लाइसेंस निरस्त करने को लेकर शासन को संस्तुति कर दी है. उत्तर प्रदेश में ये अपने आप में पहला मामला माना जा रहा है.

दरअसल, प्राइवेट लैब की जांच में कोरोना पॉज़िटिव  (Corona Positive) पाए गए 8 लोगों की रिपोर्ट दोबारा जब सरकारी लैब में जांची गई तो उनमें से 6 निगेटिव (Negative) पाए गए. इसके बाद स्वास्थ्य महकमे में ह़ड़कम्प मच गया. आनन-फानन में कोरोना वार्ड में भर्ती इन 6 स्वस्थ लोगों को फौरन शिफ्ट किया गया. अब 5 दिन बाद इनकी जांच दोबारा की जाएगी.

गुरुग्राम, हरियाणा स्थित इस निजी लैब का मेऱठ में कलेक्शन सेंटर है. यहां सैंपल कलेक्ट किए जाते हैं और फिर जांच के लिए उन्हें भेजा जाता है. बीते 2 दिनों में इस लैब ने 8 लोगों के सैंपल जांचने के बाद उन्हें कोरोना पॉज़िटिव पाताया था. इन्हीं लोगों की जब दोबारा मेऱठ के मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबॉयोलॉजी लैब में जांच की गई तो वो निगेटिव पाए गए. लोगों की जान के साथ खिलवाड़ करने वाले इस लैब का लाइसेंस निरस्त करने के लिए डीएम मेरठ अऩिल ढींगरा ने शासन को संस्तुति भेजी है.



महिला की रिपोर्ट आई निगेटिव तो हुआ फर्जीवाड़े का शक



बागपत रोड पर मॉर्डन लैब एंड डॉयगनोस्टिक सेंटर नाम के 2 सेंटर हैं. यह गुरुग्राम की कम्पनी है. यहां कोविड-19 की जांच के लिए प्रति मरीज़ 4800 रुपये लिए जाते हैं. अब तक कोविड-19 को लेकर 1253 जांच हो चुकी हैं. इनमें से 24 की रिपोर्ट पॉज़िटिव पाई गई है. कुछ दिन पहले एक महिला के सैंपल की जांच की गई थी तो वो निगेटिव पाई गई, जबकि इसी लैब ने महिला की जांच रिपोर्ट भी पॉज़िटिव बताई थी.

21 मई को पॉजिटिव, 25 को निगेटिव
फर्ज़ीवाड़े के शक में मॉडर्न लैब के अन्य 8 सैंपल की जांच 24 मई को मेरठ मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबॉयोलॉजी लैब में कराई गई. इनमें से 6 सैंपल निगेटिव मिले हैं, जबकि निजी लैब में ये सभी सैंपल 21 मई को पॉज़िटिव पाए गए थे.

प्रशासन ने शुरू की जांच, डीएम ने की लाइसेंस रद्द करने की संस्तुति
साफ है कि सैंपल की जांच में लापरवाही या गड़बड़ी हुई है. इस प्राइवेट लैब के कर्मचारी मेरठ से कलेक्शन करते हैं और गुरुग्राम में इसकी जांच होती है. इस लैब को शासन से सैंपल जांच की अनुमति मिली है. प्रशासन ने इस बड़े खुलासे पर जांच शुरू कर दी है. इस लैब का लाइसेंस निरस्त करने के लिए डीएम मेरठ अऩिल ढींगरा ने शासन को संस्तुति भेजी है.

ये भी पढ़ें:

सीएम योगी की अहम पहल- कामगारों को सस्ती दुकानें, आशियाने, GST में छूट

UP सरकार देगी 1.5 लाख रियल एस्टेट, 10 हजार ड्राइवर सहित इन कामगारों को रोजगार
First published: May 26, 2020, 12:55 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading