मेरठ में लगेगा BJP का सियासी 'कुंभ', लोकसभा चुनाव में जीत के लिए होगा महामंथन

दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत का मंत्र खोजने के लिए 11 और 12 अगस्त को मेरठ की धरती पर बीजेपी महामंथन करेगी.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 10, 2018, 6:13 PM IST
मेरठ में लगेगा BJP का सियासी 'कुंभ', लोकसभा चुनाव में जीत के लिए होगा महामंथन
मेरठ में बीजेपी कार्यसमिति की बैठक को लेकर तैयारिया जोरों पर है
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 10, 2018, 6:13 PM IST
क्रांति की धरा रही मेरठ में 11 और 12 अगस्त को बीजेपी के दिग्गज नेताओं का जमावड़ा रहेगा. इस सियासी कुंभ में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शिरकत करेंगे. भारतीय जनता पार्टी की कार्यसमिति की बैठक को लेकर हर स्तर पर तैयारी चल रही है. बैठक में प्रदेश सरकार के साथ केंद्र के भी तमाम मंत्री शामिल होंगे. ऐसे में तैयारी की तमाम जिम्मेदारियां संगठन के जिम्मे हैं, जबकि प्रशासन व्यवस्थाओं पर नजर बनाने के साथ सहयोगी की भूमिका में काम करेगा. इसके लिए अधिकारियों की टीम भी गठित की गई है.

दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत का मंत्र खोजने के लिए 11 और 12 अगस्त को मेरठ की धरती पर बीजेपी महामंथन करेगी. कई मायनों में बेहद खास मानी जा रही इस बैठक को और भी खास बनाने के लिए पश्चिमी क्षेत्र के पार्टी पदाधिकारी रात-दिन एक किए हुए हैं. तमाम व्यवस्थाओं को बेहतर से बेहतर बनाने के लिए टीम बनाकर जिम्मेदारी दी गई है.
संगठन का सबसे अधिक ध्यान स्वच्छता पर है. क्योंकि केंद्र और प्रदेश सरकार स्वच्छता को लेकर बड़े स्तर पर अभियान और योजनाएं शुरू किए हुए है, ऐसे में बैठक स्थल से लेकर रास्ते और मुख्य चौराहों, सड़कों पर भी शुक्रवार को अभियान चलाकर साफ-सफाई की गई. मुख्य 12 चौराहों पर रंगोली भी सजाई जाएगी.


बीजेपी 1857 की क्रांति से आने वाली मेरठ की हस्तियों के बारे में अतिथियों को रूबरू कराएगी. उधर, कार्य समिति की बैठक की तमाम बड़ी जिम्मेदारी संगठन ही देख रहा है, प्रशासन के जिम्मे व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के साथ सुरक्षा और ट्रैफिक आदि की जिम्मेदारी होगी. अधिकारी सीधे रूप में किसी भी व्यवस्था में हस्तक्षेप नहीं करेंगे.



यह भी पढ़ें- नोटबंदी में जन्मा 'खजांची' दिखाएगा अखिलेश यादव की साइकिल यात्रा को हरी झंडी

कार्य समिति की बैठक में बड़ी संख्या में अतिथि सड़क मार्ग से आएंगे. उधर, अभी कांवड़ यात्र संपन्न हुई है और सड़क पर बड़ी संख्या में अस्थाई ब्रेकर बने हुए हैं. ऐसे में अतिथियों को होने वाली दिक्कत से बचाने के लिए शहर की मुख्य सड़कें और हाईवे से तत्काल ब्रेकर साफ करने के लिए भी निर्देशित किया गया है. इसके लिए पंचायती राज विभाग, लोक निर्माण विभाग, मेरठ विकास प्राधिकरण, नगर निगम, नगर पालिका और पंचायतों को जिम्मेदारी दी गई है.

मेरठ के इतिहास के बहाने जातीय समीकरणों को साधने की भी तैयारी है. बीजेपी ने जहां कार्यक्रमस्थल का नाम मातादीन वाल्मीकि रख दिया है, वहीं शहरभर में होने वाली सजावट में 1857 की क्रांति की सियासी झलक नजर आएगी. इस बार दिल्ली चलो स्लोगन का लक्ष्य मिशन-2019 को ध्यान में रखकर बनाया गया है.
प्रदेश कार्यसमिति में करीब सात सौ मेहमान मेरठ पहुंचेंगे. बीजेपी पूरी तरह चुनावी मोड में आ गई है. ऐसे में हर होर्डिग एवं बैनर पर सियासी दस्तखत तय हैं. इस दौरान 15000 फ्लैग, एक हजार होर्डिग व तमाम तोरणद्वार लगाए जाएंगे. 1857 की क्रांति में मेरठ से दिल्ली चलो का नारा गूंजा था, जिसका इस्तेमाल बीजेपी अब दिल्ली का सिंहासन हासिल करने के लिए करेगी.

यह भी पढ़ें- मुजफ्फरनगर में चोरी के आरोप में मॉब लिंचिंग, युवक की मौके पर ही मौत
Loading...

इसके साथ ही कोतवाल धन सिंह समेत कई अन्य सेनानियों के फोटो भी लगाए जाएंगे, जिन्होंने इस लड़ाई में शहादत दी. क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्विनी त्यागी का कहना है कि मेरठ ने क्रांति की ज्वाला जलायी. इसकी पूरी झलक कार्यसमिति में नजर आएगी. अंग्रेजों से लोहा लेने नरपत सिंह, कोतवाल बिशन सिंह, धन सिंह कोतवाल, सेनानियों को सूचना देने वाली अंग्रेज महिला मिस डाली, बागपत के बाबा शाहमल एवं परीक्षितगढ़ क्षेत्र में सक्रिय रहे राजा कर्दम सिंह समेत कइयों का जिक्र होगा. क्षेत्रीय प्रवक्ता गजेंद्र शर्मा ने बताया कि चौराहों पर लगी महापुरुषों की मूर्तियों का सौन्दर्यीकरण कराया जा रहा है. इस कार्यक्रम में क्रांति का रंग पूरी तरह झलकेगा.

मुख्यमंत्री योगी के मेरठ आगमन को लेकर अधिकारी और भाजपाई तैयारी में जुटे हैं. उनके ठहरने की व्यवस्था से लेकर खानपान तक विशेष ध्यान है.
सीएम यहां चूल्हे की रोटी खाएंगे और सुबह गाय को चारा भी खिलाएंगे. इसके चलते गाय का इंतजाम भी किया जा रहा है.
11 व 12 अगस्त को शहर में होने जा रही भाजपा प्रदेश कार्य समिति की बैठक पुलिस-प्रशासन के लिए सुरक्षा के लिहाज से बड़ी चुनौती है. मुख्यमंत्री के ठहरने का कार्यक्रम वेद व्यासपुरी स्थित रैपिड एक्शन फोर्स की 108 बटालियन के गेस्ट हाउस में है. सीआरपीएफ के अधिकारी सुरक्षा के साथ अन्य चीजों पर भी ध्यान दे रहे हैं.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ केंद्र और प्रदेश सरकार के तमाम बड़े मंत्री बैठक में शामिल होंगे. इसके अलावा राज्यमंत्री, सांसद, विधायक और पार्टी के पदाधिकारी सहित कुल 670 अतिथि शामिल होंगे. इसके अलावा अतिथियों के साथ आने वाला स्टाफ भी बड़ी संख्या में होगा. इस कारण शहर के तमाम बड़े होटल बुक होने के बाद भी स्थिति विकट हो रही है. संगठन के पदाधिकारियों ने प्रशासन को सूची सौंपकर व्यवस्था बनाने के लिए कहा है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...