मेरठ में BSP को 9 जिला पंचायत सीटों पर बढ़त, DU से एमटेक करने वाले अश्वनी ने भी जीता चुनाव

बसपा समर्थित एमटेक पास प्रत्याशी अश्वनी ने भी वार्ड दस से जीत हासिल की है.

बसपा समर्थित एमटेक पास प्रत्याशी अश्वनी ने भी वार्ड दस से जीत हासिल की है.

UP Panchayat Chunav Result: बसपा कुल 33 में से 9 जिला पंचायत सीट पर काबिज होते हुए दिख रही है. बसपा उम्मीदवारों की जीत से मेरठ में बसपा नेताओं के चेहरों पर अरसे बाद मुस्कान लौटी है. वहीं सपा 7 सीटों पर बढ़त बनाकर दूसरे नंबर पर है. भाजपा ने 6 सीटों पर बढ़त बना रखी है.

  • Share this:
मेरठ. जिला पंचायत सदस्य ( District Panchayat Member ) के चुनाव में बसपा (BSP) ने कामयाबी का नया इतिहास लिखा है. यहां बसपा कुल तैंतीस में से नौ जिला पंचायत सीट पर काबिज होते हुए दिख रही है. बसपा उम्मीदवारों की जीत से मेरठ में बसपा नेताओं के चेहरों पर अरसे बाद मुस्कान लौटी है. वहीं सपा सात सीटों पर बढ़त बनाकर दूसरे नंबर पर है. भाजपा ने छह सीटों पर बढ़त बना रखी है. रालोद भी छह सीट जीतते हुए नजर आ रही है. पांच अन्य सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशी जीत की ओर बढ़ रहे हैं.

बसपा समर्थित एमटेक पास प्रत्याशी अश्वनी ने भी वार्ड दस से जीत हासिल की है. दिल्ली यूनिवर्सिटी से एमटेक करने वाले अश्वनी का कहना है कि वो गांवों में शिक्षा के क्षेत्र में विशेष कार्य करना चाहते हैं. अश्वनी का कहना है कि एमटेक कम्प्यूटर साइंस करने के बाद वो गांव की राजनीति में उतरे हैं. अश्वनी का कहना है कि वो गांव के ही पढ़े लिखे हैं. मेरठ से ही एमसीए किया उसके बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी से एमटेक किया. जॉब करने के बाद उन्होंने सॉफ्टवेयर का बिजनेस शुरु किया. पहली बार राजनीति में प्रवेश करने वाले अश्वनी का कहना है कि वो शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करना चाहते हैं.

Youtube Video


अश्वनी का कहना है कि एक शख्स अगर शिक्षित होकर कामयाब होता है तो वो सौ बीघे जमीन के बराबर होता है. इस युवा नेता का कहना है कि उनकी जीत का श्रेय भी टेक्नोलॉजी को जाता है. उन्होंने बताया कि चुनाव में पोस्टर या बैनर बनवाकर प्रचार नहीं किया बल्कि सोशल मीडिया पर ग्रुप बनाकर ही प्रचार किया. अश्वनी ने कहा कि बसपा सुप्रीमो ने भी कहा था कि अपनी स्किल के जरिए चुनाव जीते. अश्वनी ने शिक्षा को इन चुनावों में सबसे बड़ा मुद्दा बनाया.
जीत पर झूमे बसपा प्रत्याशी और समर्थक

बसपा समर्थित जीते हुए अन्य प्रत्याशियों की भी ख़ुशी का ठिकाना नहीं है. वार्ड नम्बर बाईस से चुनाव जीते गोपाल का कहना है कि वो गांव में लाइब्रेरी खोलकर जनता की सेवा करेंगे. गोपाल की एजुकेशन मात्र हाईस्कूल है लेकिन वो बताते हैं कि उनके दो भाई अधिकारी हैं. गोपाल का कहना है कि वो भी शिक्षा के क्षेत्र में गांव को विकसित करना चाहते हैं. वार्ड सत्रह से जीतने वाले बसपा समर्थित उम्मीदवार अतुल पुनिया का कहना है कि अब आने वाले विधानसभा चुनाव में जीत के लिए पूरी टीम जुटेगी. अतुल पुनिया का कहना है कि उनकी टक्कर सपा और रालोद के प्रत्याशियों से थी. भाजपा का प्रत्याशी उनके वार्ड में चौथे नम्बर पर रहा. ऐसे ही वार्ड छह से चुनाव जीती सलोनी का कहना है कि वो भी शिक्षा के क्षेत्र में गांव को विकास की राह पर ले जाना चाहती है. वो ख़ुद इंटर पास हैं. लेकिन गांव को शिक्षित करना उनका लक्ष्य रहेगा.

पहली बार जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीतने वाले सलोनी का कहना है कि शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र वो कार्य करना चाहती हैं. इस जीत के बाद मेरठ बसपा के जिलाध्यक्ष मोहित का कहना है कि उनकी पार्टी इस जिले में नम्बर वन की पार्टी है. बसपा के जिलाध्यक्ष का कहना है कि नौ सीट पर उनके प्रत्याशी जीते हैं. और बाकी पांच जीते हुए प्रत्याशियों को उन्होंने टिकट नहीं दिया था, लेकिन उनकी पार्टी का झंडा लगाकर ही प्रत्याशी जीते हैं. मेरठ बसपा के जिलाध्यक्ष का कहना है कि उनका मुकाबला सपा और रालोद से था. उन्होंने कहा कि आने वाले विधानसभा चुनाव में मायावती यूपी की मुख्यमंत्री बनेंगीं. वहीं बसपा मेरठ मंडल के सेक्टर प्रभारी  सतपाल पीपला का कहना है कि बसपा ने इन चुनावों में अच्छा रिजल्ट दिया है. वो कहते हैं कि लड़ाई 2022 की है. और ये तो सेमीफाइनल था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज