CM योगी का SP-BSP पर निशाना, पूछा-अब तक दलितों को क्यों नहीं मिलते थे घर?

हम पीएम मोदी के नेतृत्व में सबका साथ सबका विकास के तहत काम कर रहें हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी में अपराध पर लगाम लगाने में योगी जी सफल रहे हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 11, 2018, 7:52 PM IST
CM योगी का SP-BSP पर निशाना, पूछा-अब तक दलितों को क्यों नहीं मिलते थे घर?
सीएम योगी ने पूछा SP_BSP से सवाल (फोटो- ANI)
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 11, 2018, 7:52 PM IST
मेरठ में बीजेपी की दो दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति की बैठक शुरू हो चुकी है. इस बैठक का उद्घाटन गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किया. इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार विकास के पथ पर अग्रसर है.

मुख्यमंत्री ने कहा, "हम पीएम मोदी के नेतृत्व में सबका साथ सबका विकास के तहत काम कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी में अपराध पर लगाम लगाने में योगी जी सफल रहे हैं."

इसके बाद मंच पर कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचे सीएम योगी ने कहा कि ''जो लोग कहते हैं कि बीजेपी की सरकार दलित विरोधी है उनसे मैं यह पूछना चाहता हूं कि अगर बीजेपी की सरकार दलित विरोधी है तो अब तक दलित को आवास क्यों नहीं मिलते थे? उन्हें अब तक विकास योजना का लाभ क्यूं नहीं मिला''


Loading...

इस मौके पर सीएम योगी यूपी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर महेंद्रनाथ पांडेय समेत बीजेपी के कई नेता मंच पर मौजूद रहे. यूपी में फिर जीत के विश्वास और संकल्प के साथ बीजेपी के 68 सांसद, 324 विधायक, 92 जिला और महानगर अध्यक्ष और संगठन के पदाधिकारी यानी करीब एक हजार लोग दो दिनों तक सियासी पाठ पढ़ेंगे. राम मंदिर कभी बीजेपी का चुनावी मुद्दा नहीं रहा: डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय

दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत का मंत्र खोजने के लिए 11 और 12 अगस्त को मेरठ में बीजेपी महामंथन कर रही है. इस बैठक को असरदार बनाने के लिए पश्चिमी क्षेत्र के पार्टी पदाधिकारी रात-दिन एक किए हुए हैं. तमाम व्यवस्थाओं को सटीक बनाने के लिए टीमें बनाकर जिम्मेदारी बांटी गई है. इस कार्यसमिति में पूरी तरह 2019 विजय को लेकर ही फोकस रहेगा. बीजेपी की कोशिश होगी कि वेस्ट यूपी की भूमि से 2014 और 2017 की तरह कामयाबी की हैट्रिक लगाई जाए. मेरठ: RSS नेता ने किया आंबेडकर मूर्ति का माल्यार्पण, दलित वकीलों ने किया शुद्धिकरण
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर