Corona Vaccine: मेरठ के हक पर दिल्ली वालों का दावा, जानिए वैक्सीनेशन स्लॉट बुकिंग की अनोखी कहानी

ऑनलाइन स्लॉट बुक कराकर दिल्ली वाले मेरठ में लगवा रहे टीका

ऑनलाइन स्लॉट बुक कराकर दिल्ली वाले मेरठ में लगवा रहे टीका

Meerut Corona Vaccination Drive: हक मेरठ का और दावा दिल्ली वालों का. वैक्सीनेशन की कुछ यही कहानी आजकल मेरठ में देखने को मिल रही है. यहां आजकल 18 से 44 साल के बीच की उम्र के लोगों में टीकाकरण के लिए मारामारी है.

  • Share this:

मेरठ. मेरठ (Meerut) में टीकाकरण (Vaccination) पर भी पड़ोसियों की नज़र लग गई है. तीसरी लहर के पहले ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य है, लेकिन इसमें मेरठ ज़िला पिछड़ता जा रहा है. इसका मुख्य कारण है ऑनलाइन स्लॉट बुक (Online Slot Booking) करना. आलम ये है कि दिल्ली जैसे राज्य के रहने वाले लोग धड़ाधड़ ऑनलाइन स्लॉट बुक कर रहे हैं और मेरठ पहुंचकर टीकाकरण करवा रहे हैं. वैक्सीनेशन के इस दिल्ली कनेक्शन से मेऱठ में स्वास्थ्य विभाग परेशान है.

हक मेरठ का और दावा दिल्ली वालों का. वैक्सीनेशन की कुछ यही कहानी आजकल मेरठ में देखने को मिल रही है. यहां आजकल 18 से 44 साल के बीच की उम्र के लोगों में टीकाकरण के लिए मारामारी है. लेकिन इससे पहले कि मेरठ वाले ऑनलाइन स्लॉट बुक करा पाएं, दिल्ली वाले और अन्य राज्यों के लोग धड़ाधड़ बुकिंग करा देते हैं. जिससे मेरठ वाले ख़ुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं. दिल्ली, हरियाणा आदि दूसरे प्रदेशों से भी लोग स्लॉट बुक कर टीकाकरण के लिए मेरठ आ रहे हैं. और जब आधार कार्ड उत्तर प्रदेश का नहीं होने पर टोका जाता है है तो वह हंगामा करते हैं.  इससे स्वास्थ्य विभाग हलकान व परेशान है. मेरठ के जि़लाधिकारी के बालाजी का कहना है कि इस बावत लगातार निगरानी रखी जा रही है और शासनादेश के अऩुरुप ही टीकाकरण करवाया जाएगा.

सीएमओ ने कही ये बात

इस बाबत जब मेरठ के सीएमओ डॉक्टर अखिलेश मोहन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि दिल्ली हरियाणा के लोग कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ लगवाने के लिए आ रहे हैं. सीएमओ ने कहा कि मेरठ को जो कोवैक्सीन की डोज़ मिली है वो मेरठ के लोगों के  लिए मिली है और उन्हीं को प्राथमिकता दी जाएगी. डॉक्टर अखिलेश मोहन ने बताया कि आधार कार्ड देखकर लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है और अगर आधार कार्ड में पता दिल्ली का निकलेगा तो उन्हें मना किया जाएगा. वहीं  जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. प्रवीण गौतम का कहना है कि 18 से 44 साल वर्ग में उन लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है, जो या तो उत्तर प्रदेश का निवासी है या फिर मेरठ में नौकरी कर रहा है. ऐसी स्थिति में आवेदक को प्रूफ देना ही होगा.
शासन तक पहुंचाएंगे बात

ज़िला प्रतिरक्षण अधिकारी का कहना है कि बेहद हाईटेक तरीके से दिल्ली वाले ऑनलाइन स्लॉट बुक करा रहे हैं जिसमें मेरठ वाले पीछे रह जा रहे हैं. उनका कहना है कि कई बार दिल्ली वाले अभद्रता पर भी उतारु हो जाते हैं. ज़िला प्रतिरक्षण अधिकारी का कहना है कि यही कारण है कि रिपोर्टिंग में पिछड़ रहे हैं. इसलिए मेरठ में वैक्सीनेशन का प्रतिशत भी घट रहा है. जि़ला प्रतिरक्षण अधिकारी का कहना है कि वो शासन तक ये बात पहुंचाएंगे ताकि इस समस्या का निदान निकाला जा सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज