लाइव टीवी

Dhanteras 2019: बाजार में पधारे निराले गणेश-लक्ष्मी, नज़रे हटाने को दिल नहीं करेगा...

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 1:36 PM IST
Dhanteras 2019: बाजार में पधारे निराले गणेश-लक्ष्मी, नज़रे हटाने को दिल नहीं करेगा...
धनतेरस पर गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों से सजे बाजार ...

धनतेरस पर बाज़ार गुलज़ार हैं जहां बाज़ार में निराले गणेश-लक्ष्मी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं वहीं चांदी के कलरफुल सिक्के भी लोगों को खूब लुभा रहे हैं. बाजार में गणेश लक्ष्मी की थीम वाले सिक्कों की भारी डिमांड है तो बर्तन की दुकानों पर भी खरीदारों का लगा है तांता....

  • Share this:
मेरठ. धनतेरस के पर्व पर मेरठ के बाज़ार में पधारे निराले गणेश लक्ष्मी. इन गणेश-लक्ष्मी को देखकर आपको भी निगाहें हटाने को दिल नहीं करेगा. शुक्रवार को धनतेरस का त्योहार है ऐसे में बाज़ार की रौनक बस देखते ही बनती है चाहे गरीब हो या अमीर सभी अपने अपने बजट के अनुसार खरीददारी करने में जुटे हैं. मान्यता है धनतेरस के दिन देवताओं के वैद्य धनवंतरि और धन के देवता कुबेर की पूजा होती है. लिहाज़ा इस दिन खरीददारी करना बेहद शुभ माना जाता है.

चांदी के कलरफुल सिक्के बने आकर्षण का केंद्र
हिन्दुस्तान त्योहारों का देश है और हम हर त्योहार को बेहद ही खूबसूरती के साथ मनाते हैं. चाहे गरीब हो या अमीर लेकिन त्योहार के दिन सभी के चेहरों पर मुस्कान रहती है. आज धनतरेस को लेकर बाज़ार की रौनक बस देखते ही बनती है. कोई बर्तन खरीद रहा है कोई साज सज्जा का सामान खरीद रहा है तो कोई निराले गणेश लक्ष्मी लेकर अपने घरों में विराजमान करने को बेताब है. सोने चांदी की दुकानों में ऐसे निराले गणेश लक्ष्मी आए हैं कि आपका नज़रे हटाने को दिल नहीं करेगा. वहीं साज सज्जा के सामान वाला बाज़ार तो बस आप देखते ही रह जाएंगे.

बर्तन की दुकानों पर भी लगने लगा तांता

दुकानदार भी ग्राहक का स्वागत कर रहे हैं. दुकानदारों का कहना है कि उनकी भी धनतेरस और दीपावली ग्राहकों की खरीददारी पर ही निर्भर करती है. मान्यता है कि धनतेरस के दिन खरीददारी करने से तेरह गुना फल की प्राप्ति होती है. इसलिए चाहे गरीब हो या अमीर सभी भगवान धनवंतरि को ख़ुश करने के लिए अपने अपने बजट के हिसाब से खरीददारी अवश्य कर रहा है.

धनतेरस कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को होता है इसलिए इसे धन त्रयोदशी भी कहा जाता है. धनतेरस को कुबेर की पूजा करने के पीछे एक कारण ये भी है कि कुबेर का धन स्थिर माना जाता है. इसीलिए आज के दिन माता लक्ष्मी भगवान कुबेर ओर भगवान धनवंतरि की पूजा कर सुख समृद्धि और शांति की कामना की जाती है.

ये भी पढ़ें- धनतेरस पर काशी में खुलेगी मंदिर की तिजोरी, 4 दिन बंटेगा खजाना
Loading...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 1:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...