लाइव टीवी

UP: इस नए मीटर से बिजली चोरी रोकेगा विभाग

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 11, 2019, 11:47 PM IST
UP: इस नए मीटर से बिजली चोरी रोकेगा विभाग
बिजली चोरी को रोकने के लिए विभाग उपभोक्ताओं के घर प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने का अभियान चला रहा है. प्रीपेड स्मार्ट मीटर, प्रीपेड मोबाइल की तर्ज पर काम करेगा. (प्रतीकात्मक फोटो)

पीवीवीएनएल के एमडी आशुतोष निरंजन (Ashutosh Niranjan) के नेतृत्व में चलाए गए अभियान में 15 करोड़ से ज्यादा की बिजली चोरी पकड़ी गई है. अब बिजली चोरी को रोकने के लिए विभाग उपभोक्ताओं के घर नए मीटर लगाने का अभियान चला रहा है.

  • Share this:
मेरठ. पंद्रह करोड़ रुपए की बिजली चोरी पकड़ी गई. पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (PVVNL) में अब बिजली चोरों की अब खैर नहीं. पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड ने बिजली चोरी (Electricity Theft) पकड़ो अभियान के तहत चौदह जिलों में तकरीबन 15 करोड़ की बिजली चोरी पकड़ी है. पीवीवीएनएल के एमडी आशुतोष निरंजन (Ashutosh Niranjan) के नेतृत्व में चौदह जिलों में बारह हजार से ज्यादा घरों की चेकिंग की गई जिसमें तकरीबन पांच हजार घरों में पन्द्रह करोड़ से ज्यादा की बिजली चोरी पकड़ी गई है. पीवीवीएनएल के एमडी आशुतोष निरंजन ने पूरी योजना बनाकर इस अभियान को चलाया और इसका नतीजा भी सामने आया. बिजली चोरी को रोकने के लिए विभाग सभी उपभोक्ताओं के घर प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगवाने का अभियान चला रहा है.

हापुड़, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, मुरादाबाद, रामपुर, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, सहारनपुर, शामली, अमरोहा, संभल और बागपत में बिजली चोरी पकड़ों अभियान चलाया गया, जिसमें करोड़ों की बिजली चोरी पकड़ी गई. वहीं स्मार्ट मीटर के जरिए भी बिजली चोरी पर लगाम कसी जा रही है.

रोजाना ठीक की जा रही हैं उपभोक्ताओं की शिकायतें
मेरठ में बिजली के स्मार्ट मीटर को लेकर आ रही समस्याओं को लेकर अलग से एक सेल का गठन किया गया है. मेरठ में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के एमडी का कहना है कि बिजली के स्मार्ट मीटर को लेकर किसी उपभोक्ता को कोई भी परेशानी है तो वे इस सेल में अपनी शिकायत नोट करा सकता है और जल्द ही इसका निस्तारण किया जाएगा. इस सेल के गठन के बाद उपभोक्ताओं की शिकायतें रोजाना ठीक की जा रही हैं.

बिल को लेकर हैं ज्यादातर शिकायतें
ज्यादातर शिकायतें बिल को लेकर हैं. एमडी का साफ कहना है कि अगर किसी की समस्या वास्तविक है तो उसका निराकरण किया जाएगा, लेकिन अगर किसी ने मीटर को टैम्पर करने की कोशिश की तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. गौरतलब है कि बीते दिनों वरिष्ठ बीजेपी नेता लक्ष्मीकांत वाजपेई ने स्मार्ट मीटर को लेकर उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को ट्वीट किया था. इस दौरान उन्होंने स्मार्ट मीटर को लेकर आ रही दिक्कतों से उर्जा मंत्री को अवगत कराया था.

सरकारी विभागों के बकायों से परेशान हैं बिजली विभाग
Loading...

बिजली के बकाएदारों और बिजली चोरों से परेशान विभाग अब स्मार्ट तरीके से इस पर लगाम लगाएगा. आने वाले दिनों में प्रीपेड मोबाइल की तर्ज पर अब बिजली के प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे. घर-घर प्रीपेड स्मार्ट मीटर के जरिए बिजली के बिलों का बकाया करने वालों पर शिकंजा कसा जा सकेगा. यही नहीं सरकारी विभागों में इसकी शुरुआत सबसे पहले की जाएगी क्योंकि बिजली विभाग अगर बकायों से सबसे ज्यादा कहीं परेशान है तो वो हैं सरकारी विभाग.

प्रीपेड मोबाइल की तर्ज पर काम करेगा प्रीपेड स्मार्ट मीटर
प्रीपेड स्मार्ट मीटर बिलकुल प्रीपेड मोबाइल की तर्ज पर काम करेगा या फिर डीटूएच की तर्ज पर काम करेगा. यानी जब तक बिजली विभाग के एकाउंट में पैसा रहेगा तब तक बिजली रहेगी नहीं तो आपके घर पर या सरकारी कार्यालयों में अंधेरा छा जाएगा. बिजली विभाग के अधिकारी आम जनता से और सरकारी विभागों के अधिकारियों से अपील कर रहा है कि वे अपने यहां स्मार्ट मीटर लगवाएं. बिजली चोरी और बिजली बकाएदारों से जूझ रहे विभाग के लिए प्रीपेड स्मार्ट मीटर संजीवनी साबित होगा. अधिकारियों का कहना है कि जैसे मोबाइल को व्यक्ति रिचार्ज कराता है वैसे ही प्रीपेड़ बिजली के लिए भी उसे रिचार्ज कराना पड़ेगा. अधिकारियों का कहना है इस नई विधि से प्रीपेड मीटरिंग से बिजली बकायों की समस्या समाप्त हो जाएगी. अधिकारी आजकल प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाए जाने को लेकर मंथन कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें - 

लखनऊ: हिंदू धर्म की रक्षा के लिए लोगों को त्रिशूल दीक्षा देगा विहिप


विधानसभा चुनाव 2019: राष्ट्रवाद और विकास एक-दूसरे के पूरक-भूपेंद्र यादव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 11:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...