लाइव टीवी

गुर्जर नेता की महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी, हनुमान जी को बताया ‘गुर्जर’

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 14, 2019, 12:19 PM IST

उत्तर प्रदेश के मेरठ में गुर्जर अधिकार रैली में महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी की गई और हनुमान जी को 'गुर्जर' बताया गया.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश के मेरठ में रविवार को गुर्जर अधिकार रैली का आयोजन किया गया. इस दौरान मुखिया गुर्जर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी करते उन्हें अंग्रेजों के पिट्ठू बताया. मुखिया गुर्जर ने कहा कि महात्मा गांधी चाहते तो सरदार पटेल प्रधानमंत्री बनते और भगतसिंह को फांसी नहीं होती. मुखिया गुर्जर के बिगड़े बोल यही नहीं रुके. उन्होंने हनुमान जी की जाति बताते हुए उन्हें गुर्जर बिरादरी का बताया.

पथिक सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुखिया गुर्जर ने अधिकार रैली में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी अंग्रेजों के पिट्ठू थे और अंग्रेजों की गुलामी करते थे. वहीं दूसरी तरफ देश में चल रहे हनुमान जी की जाति को लेकर भी मुखिया गुर्जर ने बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि हनुमान जी गदा से दुश्मनों का वध किया करते थे. इस लिहाज से उनकी जाति गुर्जर थी. इतना ही नहीं उन्होंने गायत्री माता को गुजरी बताया. साथ ही उन्होंने देश में गुर्जरों की भागीदारी के लिए सरकार से उत्तर प्रदेश में पांच सीटों पर चुनाव लड़ने की मांग की.

बता दें कि इस गुर्जर अधिकार रैली में जम्मू कश्मीर, दिल्ली, राजस्थान आदि राज्यों से गुर्जर समाज के लोग पहुचे थे. इस दौरान मुखिया गुर्जर ने भारतीय सेना में गुर्जर रेजीमेंट की स्थपना, मुरादाबाद पुलिस ट्रेनिंग सेंटर का नाम कोतवाल धन सिंह गुर्जर के नाम पर करने और समाज को अति पिछड़े वर्ग के तहत पांच प्रतिशत आरक्षण देने की सरकार से मांग की.

ये भी पढ़ें- 'देश में कोई सुनने वाला नहीं, तो विदेश में जाकर भारत को बदनाम कर रहे हैं राहुल गांधी'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2019, 11:02 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर