• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • MEERUT GOOD NEWS EVERY CARDHOLDER WILL GET RATION TWICE IN MAY AND JUNE IN MEERUT NODARK

Good News: मेरठ के सभी कार्डधारक मई और जून में दो बार ले सकेंगे राशन, बस एक बार चुकाने होंगे दाम

मेरठ के लोगों को महीने में अब दो बार राशन मिलेगा.

Meerut News: मेरठ के जिला पूर्ति अधिकारी नीरज सिंह (Neeraj Singh) के मुताबिक, जिले के प्रत्येक कार्डधारक को मई और जून में सरकारी राशन की दुकान से दो बार राशन का वितरण किया जायेगा. इस दौरान एक बार उन्‍हें पैसे देनें होंगे और एक बार यह राशन फ्री मिलेगा.

  • Share this:
मेरठ. कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के बीच मेरठवासियों के अच्‍छी खबर सामने आई है. उत्‍तर प्रदेश के मेरठ में मई और जून में प्रत्येक कार्डधारक को दो बार राशन (Ration) मिलेगा. इस बाबत मेरठ के जिला पूर्ति अधिकारी नीरज सिंह (Neeraj Singh) ने बताया कि मई और जून 2021 में प्रत्येक कार्डधारक को सरकारी राशन की दुकान से दो बार राशन का वितरण किया जायेगा. उन्होंने बताया कि प्रथम वितरण राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत प्रति यूनिट तीन किलो गेहूं और दो किलो चावल क्रमश: दो व तीन रुपये प्रति किलो की दर से वितरण किया जायेगा. इसके अलावा दूसरा वितरण प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजनान्तर्गत प्रत्येक कार्डधारक को प्रति यूनिट तीन किलो गेहूं और दो किलो चावल नि:शुल्क किया जायेगा.

मेरठ के जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि प्रथम चरण में पांच से चौदह तक वितरण चलेगा. इस चरण में जनपद मेरठ के सभी कार्ड होल्डर को लाभ मिलेगा. ये खाद्यान्न राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत दिया जा रहा है. उन्होंने बताया कि दूसरे चक्र का वितरण बीस तारीख के बाद शुरू होगा. इन दोनों चक्रों के वितरण के लिए 930 कोटेदार जुटे हुए हैं. नीरज सिंह ने बताया कि राशन के वितरण के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है. राशन कार्ड धारकों को गोल घेरे के दायरे में रहना होगा. केन्द्रों पर साबुन पानी की भी व्यवस्था की गई है.

सामाजिक संगठन भी लोगों की मदद के लिए उतरे
गौरतलब है कि एक तरफ सरकारी व्यवस्था की जा रही है तो दूसरी तरफ कई सामाजिक संगठन लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. इसी कड़ी में कोई भूखों को खाना खिला रहा है तो कोई उन्हें नि:शुल्क राशन दे रहा है. मेरठ में कई संस्थाएं भूखों का पेट भरने का संकल्प ले चुकी हैं. और तो और वर्क फ्रॉम होम करने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स भी इस मिशन में जुटे हुए हैं. यहीं नहीं, कुछ युवाओं ने तो कोविड़ पेशेंट्स को अच्छा भोजन उपलब्ध करवाने की कसम खा रखी है. युवाओं की ये टोली रोजाना भूखों को भोजन कराने के मिशन में निकल पड़ती है. कोई सूखा राशन देकर गरीबों की मदद कर रहा है तो कोई रोजाना सैकड़ों लोगों को नि:शुल्क भोजन वितरित करता है. रिक्शेवाले और ठेलेवालों गरीबों के लिए इस संस्था में कार्य करने वाले लोग मसीहा हैं. मंदिर के पुजारी भी इस मिशन में आगे आए हैं. कुछ मंदिरों की तरफ से रोजाना लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जाता है.