vidhan sabha election 2017

बच्ची ने लिखी चिट्ठी- 'जज अंकल, दिवाली पर मिले फुलझड़ी जलाने की परमिशन'

ETV UP/Uttarakhand
Updated: October 12, 2017, 10:26 PM IST
बच्ची ने लिखी चिट्ठी- 'जज अंकल, दिवाली पर मिले फुलझड़ी जलाने की परमिशन'
Photo: ETV/NEWS18
ETV UP/Uttarakhand
Updated: October 12, 2017, 10:26 PM IST
दिल्ली सहित एनसीआर क्षेत्र में पटाखों की ब्रिकी पर सुप्रीम कोर्ट की रोक के बाद हापुड़ की मासूम बच्ची ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखकर पटाखे जलाने की इजाजत मांगी है. दिल्ली से सटे यूपी के जनपद हापुड़ के कोतवाली पिलखुआ निवासी आठ वर्षीय बच्ची लुभा पंडित ने फुलझड़ी, अनार, पटाखे आदि छोड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है.

हापुड़ के पिलखुआ निवासी कक्षा तीन की छात्रा आठ वर्षीय लुभा पंडित ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक चिट्ठी लिखकर बच्चों के लिए कुछ छूट देने की एक भावनात्मक प्रार्थना की हैं. पत्र में बच्ची ने लिखा, ‘जज अंकल, दिवाली के पावन अवसर पर अत्यंत हर्षोल्लास से मनाए जाना है. इस त्यौहार पर बच्चों की खुशियों के लिए कुछ फुलझड़ी को छोड़ने के लिए छूट प्रदान करें.’

बच्‍ची ने पत्र में लिखा है कि प्रदूषण तो बहुत सारे वाहन भी सालभर करते है, लेकिन दीपावली तो एक दिन का ही त्‍यौहार है. यह दिन बच्‍चों के लिए खास होता है. इसलिए इस दिन बच्‍चों को कुछ छोटे पटाखे जलाने को लेकर परमिशन होनी चाहिए.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस दीपावली पर दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों (एनसीआर) में 31 अक्टूबर तक पटाखों की बिक्री पर रोक लगा रखी है. कोर्ट ने पिछले साल का अपना आदेश बहाल करते हुए कहा- दिल्ली एनसीआर में हर साल दीवाली के बाद पॉल्यूशन बहुत ज्यादा बढ़ जाता है. धुंध छा जाने से विजिबिलिटी काफी कम हो जाती है. सांस की बीमारी वालों को तकलीफ होती है. बता दें, दिल्ली-एनसीआर में यूपी के सात जिले गाजियाबाद, मेरठ, बागपत, हापुड़, गौतमबुद्ध नगर, मुजफ्फरनगर और बुलंदशहर आते हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर