लाइव टीवी

हापुड़ पुलिस की थर्ड डिग्री से मौत केस: CO सहित 4 पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ FIR के आदेश

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 17, 2019, 2:25 PM IST
हापुड़ पुलिस की थर्ड डिग्री से मौत केस: CO सहित 4 पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ FIR के आदेश
हापुड़ में थर्ड डिग्री टॉर्चर से मौत मामले में एसपी ने कार्रवाइ के आदेश दे दिए हैं.

हापुड़ (Hapur) में मृतक प्रदीप के भाई ने पिलखुवा सीओ, इंस्पेक्टर, चौकी प्रभारी सहित 4 पुलिसकर्मियों के खिलाफ़ थर्ड डिग्री टॉर्चर का आरोप लगाया है. आरोप है कि प्रदीप को उसके 12 साल के बेटे के सामने यातनाएं दी गईं.

  • Share this:
हापुड़. उत्तर प्रदेश के हापुड़ (Hapur) जिले के पिलखुवा में सोमवार को पुलिस की हिरासत (Police Custody) में एक युवक की मौत के मामले में पुलिस अधीक्षक (SP) ने बड़ा एक्शन लिया है. मामले में पिलखुवा सीओ, इंस्पेक्टर, चौकी प्रभारी सहित 4 पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफआईआर के आदेश हो गए हैं. हापुड़ एसपी ने मृतक प्रदीप के भाई की तहरीर मिलने पर एफआईआर के आदेश दिए हैं. मृतक प्रदीप के भाई ने पिलखुवा सीओ, इंस्पेक्टर, चौकी प्रभारी सहित 4 पुलिसकर्मियों के खिलाफ़ थर्ड डिग्री टॉर्चर का आरोप लगाया है. आरोप है कि प्रदीप को उसके 12 साल के बेटे के सामने यातनाएं दी गईं.

NHRC ने जारी किया नोटिस
उधर मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्य सचिव (Chief Secretary) और डीजीपी (DGP) को नोटिस (Notice) भेजकर जवाब तलब किया है.
बता दें 14 अक्टूबर को पुलिस हिरासत में थर्ड डिग्री देने से लाखन गांव निवासी प्रदीप तोमर (30) की मौत हो गई थी. प्रदीप को पुलिस ने 30 अगस्त को लाखन गांव के जंगल में मिली महिला की जली लाश के सिलसिले में हिरासत में लिया था. मामला सामने आने के बाद एसपी डॉ यशवीर सिंह ने पिलखुआ इंस्पेक्टर समेत 4 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया. गुरुवार को एसपी ने सभी आरोपी पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर के आदेश भी दिए हैं. हापुड़ एसपी ने मृतक प्रदीप के भाई की तहरीर मिलने पर यह आदेश दिया.

12 साल के बेटे के सामने दी गई थी थर्ड डिग्री
बता दें हत्या के आरोप में प्रदीप को उठाकर लाई पुलिस ने उसे 12 वर्षीय बेटे राहुल के सामने ही थर्ड डिग्री दी थी. उसे करीब 4 से 5 घंटे तक पुलिस बर्बरतापूर्वक पीटा था. जिसके बाद प्रदीप की हालत बिगड़ गई थी. उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई. प्रदीप के बेटे ने बताया था कि किस तरह से उसके पिता को पुलिस ने थर्ड डिग्री दी थी. मृतक के बेटे और घटना के चश्‍मदीद राहुल ने बताया कि उसके पापा को कई पुलिसकर्मीयों ने फट्टो और डंडो पर तेल लगाकर मारा था. पुलिसकर्मीयों ने शराब पीकर उनकी जमकर पिटाई की थी.

प्रदीप का नहीं था आपराधिक रिकॉर्ड
Loading...

हालांकि प्रदीप का कोई आपराधिक भी नहीं था. महज शक के आधार पर प्रदीप की जमकर पिटाई की गई. जिस महिला के मर्डर के मामले में प्रदीप को पूछताछ करने के लिए बुलाया गया था, उसकी एफआईआर में भी प्रदीप का नाम नहीं था. फिर भी पुलिस ने प्रदीप को इतना टार्चर किया कि उसकी मौत हो गई.

गुप्तांगों में चुभोई थी सुईयां
प्रदीप के शव का एक वीडियों भी सामने आया था, जिसमें पुलिस बर्बरता उसके शरीर पर साफ दिखाई दे रही थी. पुलिस ने प्रदीप को टार्चर करते समय उसके गुप्‍तांगों में सुईंया तक चुभोई थी. पोस्‍टर्माटम रिपोर्ट में भी बर्बरता की बात सामने आई थी.

इनपुट: विपिन गिरि

ये भी पढ़ें:

हापुड़: थर्ड डिग्री से मौत मामला में मुख्य सचिव और DGP को NHRC का नोटिस

वीर सावरकर न होते तो 1857 की क्रांति भी इतिहास न बनती: अमित शाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 2:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...