Home /News /uttar-pradesh /

heat breaks 10 year record meteorologists advice to farmers to save crops nodelsp

West UP में गर्मी ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड, जानिए Normal Temperature से कितना ज्यादा आगे चल रहा पारा

वेस्ट यूपी के कई ज़िलों में इस बार मार्च के महीने में ही गर्मी ने 10 साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं.  (सांकेतिक फोटो)

वेस्ट यूपी के कई ज़िलों में इस बार मार्च के महीने में ही गर्मी ने 10 साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. (सांकेतिक फोटो)

Record temperature in UP: वेस्ट यूपी के कई ज़िलों में इस बार मार्च के महीने में ही गर्मी ने 10 साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. भारतीय कृषि प्रणाली अऩुसंधान संस्थान के प्रिंसिपल वैज्ञानिक डॉक्टर एन सुभाष का कहना है कि इस बार मार्च के महीने में ही यहां तापमान अड़तीस डिग्री तक पहुंच गया है. बढ़ती गर्मी से गन्ना और गेहूं की फसल को नुकसान के अंदेशे को देखते हुए किसानों को खास सलाह दी गई है.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. वेस्ट यूपी (West UP) के विभिन्न ज़िलों में इस बार मार्च के महीने में गर्मी ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है. मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि दस साल के इतिहास में मार्च के महीने में इतनी गर्मी नहीं पड़ी थी. भारतीय कृषि प्रणाली अऩुसंधान संस्थान के प्रिंसिपल वैज्ञानिक डॉक्टर एन सुभाष का कहना है कि इस बार मार्च के महीने में ही यहां तापमान अड़तीस डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है. वो कहते हैं कि पिछले दस साल में इतनी गर्मी कभी नहीं पड़ी. डॉक्टर एन सुभाष का कहना है कि ये गर्मी नॉर्मल टेंप्रेचर से पांच डिग्री ज़्यादा है.

आईआईएफएसआर के वैज्ञानिक डॉक्टर एन सुभाष का कहना है कि इस बार लोग लू के थपेड़ों के लिए भी तैयार रहें. उन्होंने बताया कि अप्रैल के अंतिम सप्ताह में लू चलने लगेगी. हीट वेव जल्दी आने की आशंका है. किसानों को सलाह देते हुए डॉक्टर सुभाष कहते हैं कि ऐसे मौसम में मिट्टी में आद्रता की कमी हो जाती है. लिहाज़ा स्वाइल में मल्चिंग करनी पड़ेगी.

टेक्निकल वर्ड MULCHING को समझाते हुए हुए वो कहते हैं कि पिछले CROP का वेस्ट मटेरियल अगर मि्टटी में मिला दिया जाएगा तो फसल में रोज़ पानी देने की आवश्यकता नहीं रहेगी. मिट्टी में नमी बनी रहेगी. ख़ासतौर से गन्ने की फसल को लेकर डॉक्टर सुभाष का कहना है कि फील्ड में पानी को रोकना चाहिए. वे कहते हैं कि सब्ज़ी की खेती में पानी को रोकना पडे़गा इसलिए रोज़ पानी दें और मल्चिंग तकनीक का सहारा लें.

गर्मी से गेहूं पर पड़ेगा असर
उन्होंने बताया कि मार्च के महीने में भीषण गर्मी से गेंहू की फसल पर भी असर पड़ेगा. गेंहू की पैदावार कम हो सकती है. डॉक्टर सुभाष का कहना है कि गेंहू भीषण गर्मी की वजह से जल्दी पक जाएगा. जिससे गेंहू की पैदावार भी कम हो सकती है.

मार्च में ये हाल तो मई जून में क्या होगा
इधर भीषण गर्मी को देखते हुए वही लोग आजकल दोपहर में घर से निकल रहे हैं, जिन्हें बहुत जरूरी काम है. लोग चेहरा ढककर मार्च की गर्मी को मात दे रहे हैं या फिर गन्ने का जूस पीकर तापमान का मुकाबला कर रहे हैं. लोग गन्ने का जूस पीते हुए भी यही कह रहे हैं कि मार्च की गर्मी ने तो रिकॉर्ड तोड़ दिया है. सूर्य देवता से प्रार्थना करते हुए लोग कहते हैं कि प्रभु जब अभी ये हाल है तो मई जून में क्या होगा.

Tags: Heat Wave, Lucknow news, UP news, Weather Alert

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर