Home /News /uttar-pradesh /

मेरठ में नन्ही आंखों का सपना ओलंपिक कुश्ती में पदक हो अपना

मेरठ में नन्ही आंखों का सपना ओलंपिक कुश्ती में पदक हो अपना

युवाओं

युवाओं को कुश्ती सिखाते कुश्ती कोच

अब युवाओं का तेजी से रुझान बढ़ने लगा है.चाहे कोई भी खेल हो सभी में युवा भागीदारी कर देश का नाम रोशन करना चाहते हैं.कुछ इसी तरह के सपनों को संजोए है. नन्ही नन्ही आंखें जो ओलंपिक में प्रतिभाग कर विश्व में भारत का नाम रोशन करना चाहती हैं

अधिक पढ़ें ...

    मेरठ:- खेलों की बात की जाए तो अब युवाओं का तेजी से रुझान बढ़ने लगा है.चाहे कोई भी खेल हो सभी में युवा भागीदारी कर देश का नाम रोशन करना चाहते हैं.कुछ इसी तरह के सपनों को संजोए है. नन्ही नन्ही आंखें जो ओलंपिक में प्रतिभाग कर विश्व में भारत का नाम रोशन करना चाहती हैं. जी हां पश्चिम उत्तर प्रदेश में मेरठ की बात की जाए तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुश्ती में पदक लाकर मेरठ का नाम रोशन किया है. वहीं दूसरी ओर चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय परिसर में संचालित रुस्तम ए जमा दारा सिंह कुश्ती स्टेडियम में बड़ी संख्या में पहलवान कुश्ती के दांव पेच सीख रहे हैं. जिसमें छोटे बच्चों की भी संख्या काफी है.

    सात साल की उम्र में ही माता-पिता भेज रहे बच्चों को कुश्ती सीखने
    कुश्ती कोच जबर सिंह सोम ने बताया कि अब माता-पिता अपने सात साल के बच्चों को भी कुश्ती सीखने के लिए भेज रहे हैं.साथ ही बहुत बच्चों के माता-पिता ने अपने बच्चों के रजिस्ट्रेशन कराना चाहते है. वर्तमान में 200 से ज्यादा पहलवान कुश्ती सीख रहे हैं. उसमें छोटे बच्चों की भी संख्या अधिक होने के कारण सुबह से शाम तक कई बार अलग-अलग समय बच्चों को उसी की ट्रेनिंग दे रहे हैं.गौरतलब है कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में मेरठ की बात की जाए तो सिसौली गांव से काफी खिलाड़ी ऐसे हैं. जो कुश्ती सीखने के लिए स्टेडियम पहुंच रहे हैं. वहीं उसके आसपास के क्षेत्र के युवा भी कुश्ती के दांव पेच सीखना चाहते हैं.

    रिपोर्ट
    विशाल भटनागर
    मेरठ

    Tags: Wrestling, Youth, मेरठ

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर