Home /News /uttar-pradesh /

Inspirational Story: मेरठ के अधेड़ जोड़े ने अपने-अपने कैंसर को दिया 'देहनिकाला', फिर...

Inspirational Story: मेरठ के अधेड़ जोड़े ने अपने-अपने कैंसर को दिया 'देहनिकाला', फिर...

डर के आगे जीत है : मेरठ के कैंसर सर्वाइवर लवीना और संदीप.

डर के आगे जीत है : मेरठ के कैंसर सर्वाइवर लवीना और संदीप.

Motivational Story : बात वर्ष 2009 की है. इसी वर्ष लवीना और संदीप को जिस्म में घर कर चुके कैंसर का पता चला. पर इन दोनों ने उससे हार मानने की जगह रार ठान ली. तमाम मुसीबतों का डटकर सामना किया. खर्चीले इलाज ने इन्हें लगभग फुटपाथ पर ला दिया. लेकिन आर्थिक मुसीबतों से निबटते हुए इस जोड़े ने अपने-अपने कैंसर को निबटा दिया. कैंसर को मात देने के बाद इनके सामने जीविका का संकट था. तब प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का सहारा लेकर अंचार का व्यापार शुरू किया. मेहनत और किस्मत ने साथ दिया और व्यापार ने रफ्तार पकड़ ली है.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. कैंसर… वाकई बेहद डरावनी बीमारी है. लेकिन जो लोग जानते और मानते हैं कि ‘डर के आगे जीत है’, वे इस बीमारी को मात देकर निकलते हैं. जी हां, आज हम आपको ऐसे ही एक दंपति से मिलवाने जा रहे हैं, जिन्होंने अचानक और अचंभे की तरह देह में घुस आए कैंसर को ‘देहनिकाला’ दे दिया. इस जोड़े को एकसाथ कैंसर का पता चला… पति को अपने माउथ कैंसर का और पत्नी को ब्रेस्ट कैंसर का. पर कैंसर के सामने इन्होंने घुटने नहीं टेके, बल्कि पांव जमाकर उससे दो-दो हाथ किया और आखिरकार कैंसर को पीठ दिखाना पड़ा. इस जोड़े का नाम है लवीना और संदीप. उम्र 55 से 58 के बीच.

बात वर्ष 2009 की है. इसी वर्ष लवीना और संदीप को जिस्म में घर कर चुके कैंसर का पता चला. पर इन दोनों ने उससे हार मानने की जगह रार ठान ली. तमाम मुसीबतों का डटकर सामना किया. खर्चीले इलाज ने इन्हें लगभग फुटपाथ पर ला दिया. लेकिन आर्थिक मुसीबतों से निबटते हुए इस जोड़े ने अपने-अपने कैंसर को निबटा दिया. कैंसर को मात देने के बाद इनके सामने जीविका का संकट था. तब जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों के बीच इन्होंने खट्टे-मीठे अंचार का व्यापार करने की सोची. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का सहारा लेकर अंचार का व्यापार शुरू किया. मेहनत और किस्मत ने साथ दिया और व्यापार ने रफ्तार पकड़ ली है, जिंदगी पटरी पर आने लगी.

इसे भी पढ़ें : कानपुर में बढ़ा जीका वायरस का प्रकोप, 6 और संक्रमित मिले, 4 महिलाएं भी चपेट में

आज की तारीख में लवीना और संदीप तकरीबन सत्तर से पचहत्तर किस्म के अचार का व्यापार कर रहे हैं. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से मिले लोन के बाद इनकी जिंदगी में राहतों का दौर आना शुरू हुआ. अंचार के व्यापार ने इन्हें खुद के पैरों पर खड़ा होने में मदद की और अब यह जोड़ा कई महिलाओं के रोजगार का जरिया बन गया. 2011 में 1500 रुपये के टर्नओवर से शुरू हुआ व्यापार आज 20 लाख के टर्नओवर वाला हो गया है. अब लवीना अंचार के अपने व्यापार की शाखाएं विदेश में ले जाने की तैयारी कर रही हैं. लवीना का कहना है कि आसान काम तो कोई भी कर लेता है मुश्किल काम करके दिखाने में मजा आता है.

इसे भी पढ़ें : UP: फतेहपुर में मिड-डे मील का दूध पीने 15 बच्चे बीमार, BSA ने दिए जांच के आदेश

लवीना ने व्यापार शुरू करने से पहले सौ दिन का डिप्लोमा कोर्स किया था. आर्थिक तंगी झेल रहे इस जोड़े ने कई दरवाजे खटखटाए थे, लेकिन कहीं से कोई बड़ी मदद नहीं मिली. लेकिन जब उन्हें प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का पता चला तो उम्मीद की रोशनी दिखाई पड़ी. इस उम्मीद के साकार होने के बाद अब इस परिवार की जिंदगी बदल चुकी है. आज यह जोड़ा सालाना लाखों रुपये तो कमा ही रहा है, दूसरों को रोजगार मुहैया करा रहा है. इस जोड़े के संघर्ष और जिद को देखकर वाकई लगता है कि डर के आगे जीत है.

Tags: Cancer Survivor, Meerut news, Motivational Story

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर