Home /News /uttar-pradesh /

international cattle smuggler akbar banzara and his brother arrested in meerut shot dead in assam upat

मेरठ से गिरफ्तार दो लाख का इनामी तस्कर अकबर बंजारा और उसका भाई सलमान असम में हुए ढेर, ISI कनेक्शन भी आया सामना

UP News: अकबर बंजारा और उसके भाई को 13 अप्रैल को मेरठ पुलिस ने पकड़ा था. इसके बाद 14 अप्रैल को असम पुलिस उन्हें बी-वारंट पर असम के कोकराझार ले गई थी. मिल रही जानकारी के मुताबिक असम पुलिस दोनों को लेकर उस रास्ते की शिनाख्त के लिए लेकर जा रही थी जहां से वे पशु तस्करी करते थे. इसी बीच घात लगाकर बैठे कट्टरपंथियों ने हमला बोल दिया। पुलिसकर्मी गाड़ी से निकलकर मोर्चा संभालने में जुट गए, लेकिन दोनों गाड़ी में ही फंस गए. करीब 12 मिनट चली इस मुठभेड़ में दोनों गोली लगने से घायल हो गए. इसके बाद जब उन्हें अस्पताल ले जाय गया तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. पिछले दिनों मेरठ से गिरफ्तार असम पुलिस का वांछित अंतर्राष्ट्रीय पशु तस्कर और दो लाख का इनामी बदमाश अकबर बंजारा और उसका भाई सलमान मंगलवार को असम के कोकराझार इलाके में कट्टरपंथियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में ढेर हो गया. 8 महीने पहले ही असम पुलिस ने मेरठ के फलावदा कस्बा निवासी अकबर बंजारा पर 2 लाख रुपए का इनाम घोषित किया था. कट्टरपंथियों के साथ हुए मुठभेड़ में चार पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं.

बता दें कि अकबर बंजारा और उसके भाई को 13 अप्रैल को मेरठ पुलिस ने पकड़ा था. इसके बाद 14 अप्रैल को असम पुलिस उन्हें बी-वारंट पर असम के कोकराझार ले गई थी. मिल रही जानकारी के मुताबिक असम पुलिस दोनों को लेकर उस रास्ते की शिनाख्त के लिए लेकर जा रही थी जहां से वे पशु तस्करी करते थे. इसी बीच घात लगाकर बैठे कट्टरपंथियों ने हमला बोल दिया। पुलिसकर्मी गाड़ी से निकलकर  मोर्चा संभालने में जुट गए, लेकिन दोनों गाड़ी में ही फंस गए. करीब 12 मिनट चली इस मुठभेड़ में दोनों गोली लगने से घायल हो गए. इसके बाद जब उन्हें अस्पताल ले जाय गया तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

ISI लिंक भी आया सामने
असम पुलिस द्वारा जारी प्रेस नोट के मुताबिक अकबर बंजारा और उसका भाई सलमान उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा  और मध्यप्रदेश से प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी कर असम और मेघालय के रास्ते बांग्लादेश सप्लाई किया करता था. अब तक के खुलासे में यह पता चला है कि इस अवैध तस्करी से होने वाली काली कमाए का उपयोग भारत विरोधी गतिविधियों में किया जाता था. इसके पीछे पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी और असम व मेघायल के कई कट्टरपंथी संघठन भी शामिल थे. पैसों का ट्रांसफर हवाला, हुंडई और सोने के तौर पर होता था.

कट्टरपंथियों ने घात लगाकर किया हमला
असम पुलिस का कहना है कि पूछताछ के बाद जब उन रास्तों का पता लगाने के लिए दोनों आरोपियों को लेकर जाया जा रहा था तभी सोमवार की रात 1.15 बजे घात लगाकर बैठे कट्टरपंथियों ने पलिस पर हमला बोल दिया. इस हमले में पुलिस कर्मियों ने जवाबी कार्रवाई के लिए मोर्चा संभाला लेकिन दोनों आरोपी गाड़ी से नहीं निकल पाए और मुठभेड़ के दायरे में आ गए. करीब 10 से 12 मिनट चले इस मुठभेड़ के बाद जब पुलिस दोनों के पास पहुंची तो वे घायल अवस्था में थे. दोनों को तुरंत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया, मुठभेड़ की जगह से पुलिस को एके-47 और कई जिंदा मैगज़ीन भी बरामद हुई है.

Tags: Meerut news, UP latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर