बड़ी खबर: IG मेरठ रेंज का बयान, इस बार नहीं होगी Kanwar Yatra! जानिए पूरा मामला
Meerut News in Hindi

बड़ी खबर: IG मेरठ रेंज का बयान, इस बार नहीं होगी Kanwar Yatra! जानिए पूरा मामला
सड़कों के किनारे जगह जगह पर कांवड़ियों के रुकने का इंतजाम होता है.

मेरठ जोन के आईजी प्रवीण कुमार (Praveen Kumar) ने कहा कि मेरठ के कांवड़ संगठनों ने हमें सूचित किया है कि वे इस वर्ष कोरोना महामारी फैलने और सरकार के दिशा-निर्देशों के मद्देनजर कोई यात्रा नहीं करेंगे और वे अपने घरों में त्योहार मनाएंगे.

  • Share this:
मेरठ. अगले महीने शुरू हो रही कांवड़ यात्रा 2020 (Kanwar Yatra 2020) को लेकर उत्‍तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) पशोपेश में है और अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि इसका स्वरूप कैसा रहेगा. यही नहीं, त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार के लिए कोरोनावायरस की महामारी के बीच दूसरे राज्यों से आने वाले कांवड़ियों को हरिद्वार आने की अनुमति देना संभव नहीं दिख रहा है. इस बीच मेरठ से भी कांवड़ यात्रा को लेकर बड़ी खबर आयी है. मेरठ जोन के आईजी प्रवीण कुमार (Praveen Kumar) ने कहा कि मेरठ के कांवड़ संगठनों ने हमें सूचित किया है कि वे इस वर्ष कोरोना महामारी फैलने और सरकार के दिशा-निर्देशों के मद्देनजर कोई यात्रा नहीं करेंगे और वे अपने घरों में त्योहार मनाएंगे.

यूपी और दिल्ली समेत इन राज्‍यों रहता है क्रेज
हर साल सावन के महीने में कावंड़ यात्रा का दौर शुरू होता है, जिसमें दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों से लाखों की संख्या में कांवड़िये हरिद्वार पहुंचते हैं. जब वह हरिद्वार से गंगाजल कांवड़ में लेकर पैदल ही अपने गंतव्यों की ओर निकलते हैं, तो उनका सड़कों के किनारे जगह जगह पर रुकने का इंतजाम होता है, जिसमें मेरठ के कावंड संगठन बढ़ चढ़कर हिस्‍सा लेते हैं, लेकिन इस बार कोरोना के कहर से हर कोई डरा हुआ है और सरकार के दिशा- निर्देशों का पालन करने की बात कर रहा है. यही नहीं, कावंड़ यात्रा के दौरान यूपी पुलिस को भी काफी सावधानी बरतनी होती है, ताकि किसी कांवड़िये को कोई दिक्‍कत ना हो.





यूपी जारी है कोरोना का कहर
उत्तर प्रदेश में 19 और मौतों के साथ शुक्रवार को कोविड-19 संक्रमणसे मरने वालों की संख्या 507 हो गई है. जबकि प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान किसी एक दिन में संक्रमण के सबसे अधिक 817 मामले सामने आने के साथ ही कुल मामले बढ़कर 16594 हो गये हैं. जबकि यूपी के अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में संक्रमण का इलाज कराने वाले लोगों की संख्या 6092 है जबकि 9995 लोगों को पूर्णतया स्वस्थ होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज