अपना शहर चुनें

States

मेरठ में किसानों का हल्ला बोल, रेलवे ट्रैक पर टाट-पट्टी बिछाकर धरना, प्रयागराज में पुलिस से झड़प

मेरठ में कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रैक पर बैठे किसान
मेरठ में कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रैक पर बैठे किसान

Meerut News: उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसानों ने कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रैक पर बैठकर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है. भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर ये धरना हो रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2021, 7:56 PM IST
  • Share this:
मेरठ. किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर मेरठ (Meerut) कैंट स्टेशन पर भारी फ़ोर्स तैनात कर दी गई है. दरअसल भारतीय किसान यूनियन ने ऐलान किया है कि 12 बजे से 4 बजे तक रेल रोको का ऐलान किया हुआ है. इस समय मेरठ कैंट रेलवे स्टेशन के ट्रैक पर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता बैठ चुके हैं. किसानों का कहना है की राष्ट्रीय प्रवक्ता भारतीय किसान यूनियन राकेश टिकैत के आह्वान पर वह 12 बजे से लेकर 4 बजे तक बैठे रहेंगे. किसानों की मांग है की कृषि कानून रद्द किया जाना चाहिए.

बीते दिनों भारतीय किसान यूनियन ने ऐलान किया था कि हाईवे को जाम किया जाए लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईवे जाम नहीं हुए थे. सांकेतिक रूप से किसानों ने उस वक्त डीएम को ज्ञापन सौंपकर अपनी आवाज बुलंद की थी और आज रेल ट्रैक को बाधित कर किसान सांकेतिक प्रदर्शन ही कर रहे हैं. किसानों की तादाद इतनी ज्यादा नहीं है. करीब 25 से 30 की संख्या में किसान मेरठ के कैंट स्टेशन पर बैठे हुए हैं और अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं.

गौरतलब है कि मेरठ कैंट स्टेशन पर 12:00 से 4:00 के बीच यात्री ट्रेनें और माल गाड़ियां गुजरेंगीण् उत्कल पुरी एक्सप्रेस, जनशताब्दी एक्सप्रेस और अंबाला एक्सप्रेस ट्रेन 12:00 से 4:00 के बीच गुजरेगी. ऐसे में देखने वाली बात होगी किसान ट्रेन आने पर क्या करते हैं?




बाराबंकी में सुरक्षा कड़ी

उधर बाराबंकी में किसानों के रेल रोको और चक्का जाम की चेतावनी के बाद प्रशासन अलर्ट पर है. जनपद के सभी रेलवे स्टेशनों पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. पुलिस ने सभी किसान नेताओं से वार्ता कर चक्का जाम न करने का आग्रह किया है. पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद खुद  स्टेशनों पर जाकर जायजा ले रहे हैं.

प्रयागराज में सड़क पर प्रदर्शन

वहीं प्रयागराज में भारतीय किसान यूनियन से जुड़े हुए कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए नए कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग की है. इस दौरान सड़कों पर जुलूस निकाल रहे किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बीच रास्ते में ही रोक कर हिरासत में ले लिया. प्रदर्शन के दौरान किसान यूनियन कार्यकर्ताओं और पुलिस में हल्की झड़प भी हुई. हालांकि बाद में पुलिस ने प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं को एक गेस्ट हाउस में बंद कर दिया. प्रदर्शनकारी किसानों का कहना है कि नए कृषि कानून कानून किसानों के खिलाफ है, इसलिए इन्हें फौरन वापस ले लिया जाना चाहिए. किसानों ने धमकी दी है अगर उनकी मांगे पूरी नहीं की गई तो वह खून बहाने को भी तैयार रहेंगे. पुलिस ने कुछ देर रोके रखने के बाद ज्ञापन लेकर किसानों को रिहा कर दिया.

इनपुट: सर्वेश दुबे/अनिरुद्ध शुक्ला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज