Viral Video में मेरठ मेडिकल कॉलेज की अव्यवस्था बताने वाले लैब टेक्निशियन अंशुल की कोरोना से मौत

मेरठ में एक कोरोना पीड़ित लैब टेक्नीशियन की मौत के बाद कई सवाल उठ रहे हैं.

मेरठ में एक कोरोना पीड़ित लैब टेक्नीशियन की मौत के बाद कई सवाल उठ रहे हैं.

Meerut News: उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल है. यहां एक लैब टेक्नीशियन ने पिछले दिनों वीडियो वायरल कर मेडिकल कॉलेज में इलाज में अव्यवस्था की सच्चाई बयान की थी. आज उस लैब टेक्नीशियन की कोरोना से मौत हो गई है.

  • Share this:
मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्थाओं को लेकर लगातार जारी हो रहे वीडियो के क्रम में बीते दिनों यहां भर्ती एक लैब टेक्निशियन (Lab Technician) अंशुल ने वीडियो वायरल (Viral Video) कर अपनी बात रखी थी. अब इसी लैब टेक्निशियन की कोरोना (COVID-19) के चलते मौत हो गई है. परिजनों का कहना है कि मेडिकल कॉलेज की अव्यवस्था उनके घर के चिराग को खा गई.

लैब टेक्निशियन मौत से पहले वीडियो में कहते हुए नज़र आ रहे हैं कि उनका ट्रीटमेंट ठीक से नहीं हो रहा है. वो ये भी कहते हुए नज़र आ रहे हैं कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है. जब हेल्थ वर्कर के तौर पर उनके साथ ऐसा सलूक हो रहा है तो दूसरों के साथ क्या व्यवहार होता होगा? लैब टेक्निशियन ने वीडियो में कहा था कि जो भी आता है, बस पल्स रेट चेक करके चला जाता है.

देखिए वायरल वीडियो

Youtube Video

लैब टेक्निशियन अंशुल की कोरोना से मौत के बाद आज अंशुल के साथियों और परिवारवालों ने सीएमओ ऑफिस के सामने ही श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया. कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि वो डीएम को ज्ञापन देकर मुख्यमंत्री से इस बाबत गुहार लगाएंगे. कर्मचारियों का कहना है कि लैब टेक्निशियन बीमारी में भी लगातार काम कर रहे थे. जिसकी वजह से वो और ज्यादा बीमार होते चले गए. और अब उनकी मौत हो गई. कर्मचारियों का कहना है कि उनके आने का टाईम तो होता है लेकिन जाने का टाईम नहीं होता है. कर्मचारियों ने मांग की है कि अंशुल के परिजनों को आर्थिक सहायता दी जाए.

प्रिंसिपल का दावा- कोई लापरवाही नहीं हुई

मेरठ मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर ज्ञानेन्द्र का कहना है कि समय से लैब टेक्निशियन को दवाईयां मिल रही थीं. कोविड का इलाज दिया जा रहा था. इंजेक्शन भी लगाया जा रहा था. प्रिंसिपल ने किसी भी लापरवाही से साफ इनकार किया. वहीं मेरठ मेडिकल कॉलेज में एक बार फिर कथित रुप से शव बदलने के मामले पर प्रिंसिपल ने कहा कि परिवारवालों ने बॉडी को गलत आईडेन्टीफाई कर लिया होगा. अब बॉडी देने से पहले परिजनों से आईडेन्टिफाई कराया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज