Lockdown 4.0: मेरठ में महिला ने दिया जुड़वा बच्चों को जन्म, नाम रखा क्‍वारंटाइन और सैनेटाइजर
Meerut News in Hindi

Lockdown 4.0: मेरठ में महिला ने दिया जुड़वा बच्चों को जन्म, नाम रखा क्‍वारंटाइन और सैनेटाइजर
मेरठ में एक दंपति ने अपने नवजात जुड़वा बच्चों के नाम क्वारेंटाइन और सैनेटाइजर रखा है

मेरठ (Meerut) में जुड़वा बच्चों की मां का कहना है कि कोरोना की जांच और बच्चों की सेफ डिलीवरी के बाद उन्हें क्‍वारंटाइन (Quarantine) और सैनेटाइज़र (Sanitizer) शब्द सुरक्षा के पर्यायवाची लगे, लिहाज़ा उन्होंने अपने बच्चों का नाम यही रख दिया.

  • Share this:
मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) है. सरकार से मिली कुछ छूट के बाद जिंदगी पटरी पर लौटने की जद्दोजहद कर रही है. इस बीच कई खबरें ऐसी भी आ रही हैं, जो इशारा कर रही हैं कि इस कोरोना काल और लॉकडाउन ने लोगों के जीवन पर कितना गहरा असर डाला है. इस बीच, मेरठ में एक महिला ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया और दम्पति ने उनका नाम क्‍वारंटाइन (Quarantine) और सैनेटाइज़र (Sanitizer) रखा है. मामला मेरठ के मोदीपुरम क्षेत्र के पबरसा गांव का है. यहां रहने वाले दंपति वेनू और धर्मेन्द्र के इस कदम के बाद पूरे गांव में जुड़वा बच्चों के नाम चर्चा का विषय बने हुए हैं.

क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र बने जीवन का अहम हिस्सा इसलिए रखा नाम

इन जुड़वा बच्चों के माता-पिता का कहना है कि क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र अब उनकी ज़िन्दगी का अहम हिस्सा हो गए हैं. ये दोनों चीज़े हमें सुरक्षा देती हैं. लिहाज़ा सुरक्षा का ये अहसास आजीवन बना रहे इसलिए उन्होंने अपने बच्चों का नाम क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र रखा है.



मां ने कहा- सुरक्षा के पर्यायवाची लगे ये दोनों नाम



क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र की मां का कहना है कि डिलीवरी के वक्त उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. उन्हें हर जगह कोविड टेस्ट के लिए कहा गया. जिन महिला डॉक्टर को वो दिखा रही थीं, उन्होंने कह दिया कि जब तक कोविड 19 का टेस्ट नहीं होगा वो मरीज़ भर्ती नहीं करेंगी. ऐसे मौके पर जब कोई भी डॉक्टर डिलीवरी करने को राज़ी नहीं था तो डॉ. प्रतिमा तोमर उनका सहारा बनीं. उन्होंने कोविड जांच भी कराई और सेफ डिलीवरी भी कराई. कोविड की जांच और बच्चों की सेफ डिलीवरी के बाद उन्हें क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र शब्द सुरक्षा के पर्यायवाची लगे, लिहाज़ा उन्होंने अपने बच्चों का नाम यही रख दिया.

पहले बेटी का नाम रखा मनी

मेरठ के मोदीपुरम क्षेत्र के पबरसा गांव के रहने वाले वेनू और धर्मेन्द्र के एक बेटी पहले से है, जिसका नाम मनी है. यानि इस दम्पत्ति ने अपने पहली बिटिया का नाम भी बिलुकल अलग रखा. अब जबकि जुड़वा बच्चे हुए तो दोनों पति-पत्नी ने आपसी सहमति से बच्चों का नाम क्‍वारंटाइन और सैनेटाइज़र रख दिया. पूरे गांव में जुड़वा बच्चों के नाम आजकल चर्चा का विषय बने हुए हैं.

ये भी पढ़ें:

सीएम योगी की अहम पहल- कामगारों को सस्ती दुकानें और GST में छूट...

कोरोना जांच में लापरवाही, गुरुग्राम की लैब ने 6 स्वस्थ लोगों को बताया पॉजिटिव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading