अपना शहर चुनें

States

Meerut news: सेना भर्ती के नाम पर मचा रखी थी करोड़ों की लूट, हर लड़के से लिए 6-7 लाख रुपए

मेरठ में सेना में भर्ती के नाम पर मची हुई थी लूट.
मेरठ में सेना में भर्ती के नाम पर मची हुई थी लूट.

Army Recruitment News: सेना में भर्ती के नाम पर आरोपी गिरोह के सदस्य पहले लाखों रुपए की मोटी रकम वसूलते थे, इसके बाद फर्ज़ी डॉक्युमेंट तैयार कर नकली अपॉइन्टमेंट लेटर भी दे देते थे.

  • Last Updated: January 24, 2021, 11:21 AM IST
  • Share this:
मेरठ. पश्चिमी यूपी के शहर मेरठ में चौंकाने वाला मामला (Meerut News) सामने आया है. यहां एक ऐसे ठग गिरोह का पर्दाफाश हुआ है जो दर्जनों युवाओं को सेना में भर्ती (Army Recruitment) कराने का झांसा देकर उनसे करोड़ों रुपए ऐंठ चुका है. ये गिरोह सेना में भर्ती के नाम पर पहले लाखों रुपए की मोटी रकम वसूलता था, फर्ज़ी डॉक्युमेंट तैयार करता था और फिर उन्हें फर्ज़ी अपॉइन्टमेंट लेटर भी दे देता था. नौकरी पाने की चाहत रखने वाले युवा जब तक कुछ समझ पाते तब तक वो लुट चुके होते थे. युवाओं को सेना में भर्ती कराने के नाम पर अब तक ये गिरोह तकरीबन पचास लोगों को ठग चुका है.

मेरठ एसपी सिटी डॉ. अखिलेश नारायण सिंह ने बताया कि इस शातिर गिरोह के दो सदस्य अभी भी फरार हैं. इनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. ये गिरोह रेलवे और सेना में भर्ती कराने के नाम एक शख्स से छह से सात लाख रुपए तक ऐंठता था. गिरोह ने अब तक 50 लोगों को ठगने की बात कबूल कर ली है.

इस तरह मिली आरोपियों की जानकारी


एसपी सिटी ने बताया कि गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सदर बाजार पुलिस एक होटल में चेकिंग कर रही थी. इस दौरान होटल में दो ऐसे संदिग्ध व्यक्तियों के बारे में जानकारी मिली जो पिछले कई दिनों से रुके हुए थे. पूछताछ में इन दोनों ने बताया कि वो महाराष्ट्र के सतारा ज़िले के रहने वाले हैं. एक व्यक्ति ने अपना नाम राजेन्द्र दिलीप भलारे और दूसरे ने अपना नाम राजेन्द्र दिनकर सपकाल बताया.

कड़ी पूछताछ में आरोपियों ने उगले राज


एसपी के मुताबिक, आरोपियों से जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो उन्होंने राज़ उगले कि वो इस होटल में पिछले कई दिनों से रुके हुए हैं और आठ लड़कों को सेना में नौकरी दिलाने का झांसा देकर अपने साथ लाए हैं. पुलिस ने आठों लड़कों को पूछताछ के बाद जाने दिया. पुलिस के हाथ एक डायरी भी लगी, जिसमें ठगे गए सारे युवाओं से लेन-देन का पूरा ज़िक्र है. पुलिस ने इन दोनों के पास से चार मोबाइल भी बरामद किए हैं.


दो आरोपियों की तलाश जारी


एसपी सिटी ने बताया कि इस गैंग के दो शातिर नितिन त्यागी और गज़ानन्द शर्मा अभी भी फरार हैं. ये गैंग बाकयदा फर्ज़ी अपॉइन्टमेंट लेटर भी जारी कर देता था. फर्ज़ी पेपर और फर्ज़ी मेडिकल आदि भी ये गिरोह तैयार कराता था. पुलिस ऑफिसर ने खुलासा करते हुए बताया कि दोनों गिरफ्तार अभियुक्तों में से एक शख्स तो इस गोरखधंधे में पिछले दो हज़ार चौदह से लिप्त है. ये पूछे जाने पर कि क्या इनसे कैश बरामद हुआ है एसपी सिटी ने कहा कि कैश तो बरामद नहीं हुआ है लेकिन बैंक डिटेल्स की जानकारी मिल गई है.

कई एंगल खोज रही पुलिस


एसपी सिटी ने बताया कि नितिन और गजानन्द ही इसके मास्टरमाइंड हैं. पुलिस अब इस बात की भी तफ्तीश कर रही है कि इस गैंग में और कौन-कौन शामिल हैं. पुलिस इस बात की भी तफ्तीश कर रही है कि कहीं लड़कों की कहीं और कोई संलिप्तता तो नहीं है. फरार अभियुक्त नितिन और गजानन्द जो कानपुर और दिल्ली के रहने वाले हैं. उनकी तलाश में कई टीमें लग गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज