होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Lucknow Building Collapse: अलाया अपार्टमेंट की बिल्डिंग धराशायी, सपा विधायक का बेटा हिरासत में

Lucknow Building Collapse: अलाया अपार्टमेंट की बिल्डिंग धराशायी, सपा विधायक का बेटा हिरासत में

Lucknow building collapse: लखनऊ के अलाया अपार्टमेंट की बहुमंजिला इमारत गिरने से यूपी में हड़कंप मचा हुआ है. वहीं, इस मा ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- निखिल अग्रवाल

मेरठ. लखनऊ के अलाया अपार्टमेंट की बहुमंजिला इमारत गिरने के मामले में समाजवादी पार्टी के विधायक और यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर के बेटे को हिरासत में लिया गया है. बता दें कि शाहिद मंजूर मेरठ के रहने वाले हैं और उनका बेटा रियल एस्टेट से जुड़े काम करता है. ऐसे में लखनऊ में इमारत गिरने के बाद जब मुख्यमंत्री ने सख्ती दिखाई, तो शाहिद मंजूर के बेटे नवाजिश को हिरासत में ले लिया गया. वहीं, नवाजिश के चचेरे भाई तारीक की मेरठ पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है. उसे भी हिरासत में लेने के लिए पुलिस ने कई टीमें गठित की हैं.

दरअसल जिस जमीन पर अलाया अपार्टमेंट बना है. उसका एग्रीमेंट शाहिद मंजूर के बेटे नवाजिश और भतीजे तारीक के नाम है. वर्ष 2003 में नवाजिश और तारीक ने लखनऊ के राजदान बिल्डर के साथ एक एग्रीमेंट किया, जिसमें राजदान बिल्डर को उनकी जमीन पर बिल्डिंग बनाने की अनुमति थी. इस बिल्डिंग का नाम अलाया अपार्टमेंट रखा गया. वर्ष 2009 के आसपास तारीक और नवाजिश ने इस बिल्डिंग में बने फ्लैट की अलग-अलग ग्राहकों को रजिस्ट्री की, लेकिन अब जब बिल्डिंग धराशाई हो गई है. उसमें पूरी रात रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर लोगों को निकाला गया, तो ऐसे में मुख्यमंत्री सख्त हो गए हैं और अब बिल्डिंग बनाने वालों की तलाश की जा रही है. लखनऊ के निर्देश के बाद मेरठ पुलिस ने नवाजिश को हिरासत में लेकर लखनऊ भेज दिया. मेरठ पुलिस ने देर रात नवाजिश को उसके घर से हिरासत में लिया. इसके बाद कई घंटे तक मेरठ में ही अधिकारियों ने पूछताछ की और फिर दो गाड़ियों में नवाजिश और पुलिसकर्मियों को लखनऊ के लिए रवाना कर दिया.

आपके शहर से (मेरठ)

दोषी पाए जाने पर होगी जेल
आपको बता दें कि लखनऊ के अलाया अपार्टमेंट बिल्डिंग करने से हड़कंप मचा हुआ है. देर रात से ही रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया, जिसमें अब तक 15 से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू करके अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. सूत्रों की मानें तो बिल्डिंग का चौथा फ्लोर अवैध रूप से बनाया गया था. इसके अलावा बेसमेंट में पाइप लाइन डालने का काम चल रहा था. इसी दौरान बिल्डिंग गिर गई. फिलहाल पुलिस के पास कई ऐसे सवाल हैं जिसका जवाब नवाजिश को देना होगा. अगर नवाजिश दोषी पाए गए तो गिरफ्तारी के बाद जेल भी जाना पड़ सकता है.

Tags: Meerut news, Samajwadi party, UP police

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें