PM मोदी की 'मन की बात' ने ऐसे बदली इस युवती की ज़िंदगी...

प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम ने मेरठ की एक युवती का जीवन बदल दिया. इस कार्यक्रम को देखने के बाद मेरठ की ज्योति ने मल्टीनेशनल कम्पनी में जॉब छोड़कर मधुमक्खी पालन शुरू किया. अब उनकी कंपनी मुनाफे में है और लोग भी उनसे जुड़ना चाहते हैं

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 3, 2019, 1:00 PM IST
PM मोदी की 'मन की बात' ने ऐसे बदली इस युवती की ज़िंदगी...
मन की बात ने बदली जिंदगी
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 3, 2019, 1:00 PM IST
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम से युवाओं में एक नई उर्जा का संचार हो रहा है. इसी कार्यक्रम से प्रेरणा लेकर मेरठ की एक युवती ने मल्टीनेशनल कम्पनी की जॉब छोड़ी और शुरु कर दिया मधुमक्खी पालन. मेरठ की इस एमबीए बेटी के जुनून को शुरुआत में लोगों ने हंसी में उड़ाया लेकिन आज वही मज़ाक उड़ाने वाले लोग इस बिटिया के साथ मिलकर 'बी कीपिंग' यानि मधुमक्खी पालन करना चाहते हैं. डबल पोस्ट ग्रेजुएट इस युवती की कहानी करोड़ों युवाओं को प्रेरणा दे रही है.

मल्टीनेशनल में जॉब छोड़कर शुरू किया काम
ये कहानी है मेरठ के कंकरखेड़ा इलाके के एक गांव की निवासी ज्योति सिंह की. ज्योति डबल पोस्ट ग्रेजुएट हैं और एक मल्टीनेशनल कम्पनी में बतौर ऑपरेशनल मैनेजर जॉब कर रही थीं. अच्छा ख़ासा पैकेज था, लाखों रुपए कमा रही थी, लेकिन जैसे ही उन्होंने मन की बात कार्यक्रम में मधुमक्खी पालन के बारे में देखा. उन्होंने गूगल पर जाकर सर्च किया. फिर कई विदेशी बी कीपर्स से वीडियो चैट किया. तमाम जानकारी हासिल करने के बाद उन्होंने पंतनगर यूनिवर्सिटी में मधुमक्खी पालन को लेकर ट्रेनिंग ली. पन्द्रह दिन की ट्रेनिंग के बाद ज्योति ने केन्द्र सरकार की मुद्रा योजना से तीन लाख का लोन लिया. इस लोन में भी उन्हें अट्ठासी हज़ार रुपए की छूट मिली.

मुनाफे का व्यापार

शुरुआत में ज्योति ने मधुमक्खी पालन के पचास बॉक्स खरीदे. तीन लाख रुपए का खर्च आया. लेकिन अब सिर्फ मुनाफा ही मुनाफा है. एक बरगद के पेड़ के नीचे ज्योति ने मधुमक्खियों का आशियाना और अपना ऑफिस तैयार कर लिया है. ज्योति कहती हैं कि शुरुआत में उन्हीं के एमबीए दोस्त, समाज के लोग ताना मारते थे, मज़ाक उड़ाते थे लेकिन आज वही लोग न सिर्फ उनकी सराहना करते हैं बल्कि वो खुद भी इस व्यवसाय में उनके साथ जुड़ना चाहते हैं.

pm narendra modi, man ki baat, uttar pradesh, meerut, bee keeping, mba, पीएम नरेंद्र मोदी, मन की बात, उत्तर प्रदेश, मेरठ, मधु मक्खी पालन, एमबीए
मल्टीनेशनल कम्पनी में जॉब छोड़कर शुरू किया मधुमक्खी पालन


दोस्त बन गईं हैं मधुमक्खियां
Loading...

ज्योति कहती हैं कि उनकी आयु अभी पच्चीस वर्ष है. दो से तीन साल उन्होंने जॉब की. जॉब में स्ट्रेस भी ज्यादा था. रोज़ नाइन टू पाइव जॉब करते करते वो थक चुकी थीं. अब वो सिर्फ मधुमक्खियों के साथ रोजाना एक घंटे बिताती हैं और बाकी नो टेंशन का मंत्र लेकर आगे बढ़ती जा रही हैं. मधुमक्खी पालन करते करते ज्योति को इतना प्रॉफिट हुआ कि उन्होंने अब तक दो लोगों को रोज़गार भी दे चुकी हैं. उनका कहना है कि अब ये मधुमक्खियां उनकी दोस्त बन गई हैं और उनका हालचाल लिए बगैर वो रह नहीं सकती.

मधुमक्खियों ने सिखाया मैनेजमेंट
ज्योति अब शहद के साथ बी कीपिंग की वजह से अन्य बाई प्रोडक्ट को एक्सपोर्ट करने की तैयारी कर रही हैं. उन्होंने अपनी कम्पनी भी रजिस्टर्ड करा ली है. ज्योति कहती हैं कि भारत शहद सप्लाई में विश्व में पांचवें स्थान पर है. विदेशों में बी कीपिंग एक सम्मानजनक बिज़नेस माना जाता है, और वो इस काम को शुरु करके भारत में भी मधुमक्खी पालन का डंका बजाना चाहती हैं. ज्योति कहती हैं कि उन्होंने मैनेजमेंट का कोर्स किया लेकिन जितना मैनेजमेंट मधुमक्खियों ने सिखाया कोई नहीं सिखा सकता.

ये भी पढ़ें -

साक्षी मिश्रा के MLA पिता से सुलह चाहते हैं अजितेश के पापा, CM योगी से की ये अपील

अमरनाथ यात्रियों के लौटने की एडवाइजरी के बाद फैली अफवाह, पेट्रोल पंप खाली-ATM में उमड़ी भीड़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊधमसिंह नगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 3, 2019, 12:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...