मेरठ में 13 लाख लोगों को Corona वैक्सीन लगाने की तैयारी, 5 जनवरी से किया जाएगा ड्राई रन

मेरठ में 13 लाख लोगों के Corona वैक्सीन लगाने की तैयारी (प्रतिकात्मक फोटो).

मेरठ में 13 लाख लोगों के Corona वैक्सीन लगाने की तैयारी (प्रतिकात्मक फोटो).

मेरठ में वैक्सीनेशन (Corona Vaccine) की प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी की जाएगी. पहले चरण में 18000 मेडिकल स्टाफ, दूसरे में फ्रंट लाइन वर्कर्स, पैरा मिलिट्री फोर्सेज़, आर्म्ड फोर्सेज़, नगरपालिका, रेवन्यू डिपार्टमेंट के लोगों का और तीसरे चरण में 10 से 12 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा.

  • Share this:

मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में 5 जनवरी से कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का ड्राई रन किया जाएगा. सीएमओ डॉक्टर अखिलेश मोहन का कहना है कि जैसे ही वैक्सीनेशन की डेट आएगी प्रक्रिया शुरु कर दी जाएगी. 5 जनवरी को इस बावत रिहर्सल किया जाएगा ताकि अगर लॉजिस्टिक्स ट्रेनिंग या फिर कम्यूनिकेशन को लेकर कोई दिक्कत हो तो उसे दूर कर लिया जाए. सीएमओ ने बताया कि वैक्सीनेशन की प्रक्रिया तीन चरण में होगी. पहले चरण में मेडिकल से जु़ड़े लगभग 18000 लोगों का वैक्सीनेशन होगा. दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर्स, पैरा मिलिट्री फोर्सेज़, आर्म्ड फोर्सेज़, नगरपालिका, रेवन्यू डिपार्टमेंट के लोगों का वैक्सीनेशन होगा.

इनकी संख्या लगभग 30 हजार के आसपास होगी. तीसरे चरण में उन लोगों का वैक्सीनेशन होगा जिनकी 50 पचास उम्र से ज्यादा है. तीसरे चरण में 10-12 लाख लोगों का वैक्सीनेशन होगा. यानि कुल मिलाकर 13 लाख लोगों के वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य विभाग की टीम तैयार है. सीएमओ के मुताबिक स्टोरेज को लेकर कोल्ड चेन की क्षमता तीन हजार साठ लीटर की है. डीप फ्रीजर्स सहित सारी लॉजिस्टिक्स कम्पलीट है. साथ ही वैक्सीनेशन को लेकर सभी स्वास्थ्य कर्मी तैयार हैं. बस शासन की हरी झंडी का इंतजार है.

UP: सीएम योगी आज गोरखपुर में 660 करोड़ की विकास परियोजनाओं की देंगे सौगात

कोरोना वैक्सीन प्रभारी डॉ प्रवीण गौतम का कहना है 60 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं. डॉक्टर पीके गौतम का कहना है कि किसी को कोई भी परेशानी हो तो वह इस बावत कंट्रोल रूम से इंक्वायरी भी कर सकता है. इस बीच ब्रिटेन से लौटने वाले लोगों को लेकर भी स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर है. सीएमओ ने बताया कि अब तक नब्बे लोग ब्रिटेन से आ चुके हैं. कुल तेरह लोगों के सैंपल जांच के लिए दिल्ली की प्रयोगशाला भेजे गए हैं. जिनमें से चार लोगों की रिपोर्ट आ चुकी हैं.
इन चार लोगों में दो साल की बच्ची बच्ची में कोरोना के नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई. शेष नौ लोगों की रिपोर्ट दिल्ली की प्रयोगशाला से आने का इंतजार है. सीएमओ ने बताया कि नया स्ट्रेन उतना ख़तरनाक नहीं है लेकिन ये बहुत तेज़ी से फैलता है. लिहाज़ा सतर्कता और सावधानी ही इसका बचाव है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज