लाइव टीवी

मेरठ: साढ़े 3 फीट के वीरू को 55 की उम्र में है 'बसंती' की तलाश...

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 11, 2019, 5:18 PM IST
मेरठ: साढ़े 3 फीट के वीरू को 55 की उम्र में है 'बसंती' की तलाश...
साढ़े तीन फीट के वीरू को है बसंती की तलाश

समाज कल्याण विभाग (Department Of Social Welfare) की अपनी सीमाएं हैं, लेकिन वीरू के मन की सीमा नहीं है. वीरू आज भी विभाग के चक्कर इसी उम्मीद के साथ लगा रहे हैं कि हो सकता है आज उनका नसीब खुल जाए और उनकी शादी (Marriage) हो जाए.

  • Share this:
मेरठ. साढ़े तीन फीट के वीरू को अपनी 'बसंती' की तलाश है. ये कहानी फिल्म शोले (Sholey Movie) की वीरू (Veeru) और बसंती (Basanti) की नहीं बल्कि रियल लाइफ के वीरू और उनकी होने वाली 'बसंती' की है. वीरू की उम्र 55 वर्ष की है और लम्बाई साढ़े तीन फीट है. वीरू पिछले नौ वर्षों से अपनी लम्बाई के मुताबिक दुल्हन ढूंढ रहे हैं. आए दिन वह समाज कल्याण दफ्तर भी आते हैं कि शायद 'बसंती' कि कुछ ख़बर मिल ही जाए. दुल्हन ढूंढते-ढूंढते वीरू के बाल सफेद हो गए. या यूं कहें कि सिर के बाल गायब हो गए, लेकिन 'बसंती' नहीं मिली तो नहीं मिली. वीरू का कहना है कि हो सकता कि बेरोजगारी की वजह से उन्हें दुल्हन के रूप में 'बसंती' नहीं मिल रही है. एक बार सरकार उन्हें रोज़गार मुहैया करा दें तो उन्हें 'बसंती' भी मिल ही जाएगी.

वीरू का कहना है कि जब तक उनकी मां ज़िन्दा थीं तब तक वो उनका ख्याल रखती थीं. लेकिन जब से मां चल बसीं तब से उनका ख्याल रखने के लिए घर पर कोई नहीं है. लिहाजा वो आज भी सोचते हैं कि अगर उनकी शादी हो जाए तो घर बस जाएगा, लेकिन उन्हें इस बात की निराशा है कि उनकी लम्बाई के मुताबिक कोई लड़की मिलती ही नहीं.

सरकार नौकरी दे दे तो शादी भी हो जाए
वीरू, शादी की बात करते-करते निराश भी हो जाते हैं. फिर एकाएक वो कहने लगते हैं कि अब वो शादी नहीं करेंगे, लेकिन फिर से कुछ देर बाद उनका बयान बदल जाता है. वो फिर से कहने लगते हैं कि शादी न होने के पीछे खास कारण उनकी बेरोजगारी है. अगर सरकार उन्हें रोजगार उपलब्ध करा दे तो यकीनन उनकी शादी हो जाएगी. फिर चाहे लम्बाई में दुल्हन साढ़े तीन फीट के आसपास की हो या न हो. रोजगार मिलने के बाद लम्बी लड़कियां भी उनसे शादी करने के लिए तैयार हो जाएंगी.

meerut dwarf wants to tie knot
वीरू शादी के लिए समाज कल्याण विभाग के लगा रहे हैं चक्कर


समाज कल्याण विभाग के अधिकारी कहे ये बात

वीरू के इस जुनून के बारे में न्यूज18 ने जब समाज कल्याण अधिकारी से बात की तो साहब, दुल्हन ढूंढने की बात से ही कतराने लगे. समाज कल्याण अधिकारी का कहना है कि विभाग का काम दुल्हन ढूंढना नहीं है. अलबत्ता अगर वो ख़ुद दुल्हन ढूंढ लें तो शादी अवश्य करा दी जाएगी. दुल्हन ढूंढने के नाम पर समाज कल्याण विभाग के अधिकारी क्षमा मांगते हुए नजर आते हैं.
Loading...

समाज कल्याण विभाग की अपनी सीमाएं हैं, लेकिन वीरू के मन की सीमा नहीं है. वीरू आज भी विभाग के चक्कर इसी उम्मीद के साथ लगा रहे हैं कि हो सकता है आज उनका नसीब खुल जाए और उनकी शादी हो जाए. वीरू को मेरठ विकास भवन के लोग भी पहचानने लगे हैं. सवाल ये है कि पचपन वर्ष के वीरू की तमन्ना क्या पूरी होगी. और क्या वीरू को उनके दिल की रानी 'बसंती' मिल पाएगी.

ये भी पढ़ें:
नेताजी का दावा, बोले- खाद्य पदार्थों में मिलावट से हो सकती हैं 200 बीमारियां!
गंगा-कार्तिक मेला: आस्था की डुबकी लगाने 10 लाख से अधिक श्रद्धालु जुटे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 4:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...