Home /News /uttar-pradesh /

मेरठः-मेहमान परिंदों से गुलजार हुआ हस्तिनापुर 

मेरठः-मेहमान परिंदों से गुलजार हुआ हस्तिनापुर 

चहल

चहल पहल करते हुए विदेशी पक्षियों का जमावड़ा

सर्दी के मौसम में हस्तिनापुर विदेशी पक्षियों की आमद से गुलजार हो गया है.हस्तिनापुर क्षेत्र के गंगा किनारे विदेशी पक्षियों की चहचहाहट से फिजा में चार चांद लग गए हैं. जिसका आनंद वहां के क्षेत्रवासियों के साथ-साथ सैलानी भी उठा रहे हैं

अधिक पढ़ें ...

    मेरठ:- सर्दी के मौसम में हस्तिनापुर विदेशी पक्षियों की आमद से गुलजार हो गया है.हस्तिनापुर क्षेत्र के गंगा किनारे विदेशी पक्षियों की चहचहाहट से फिजा में चार चांद लग गए हैं. जिसका आनंद वहां के क्षेत्रवासियों के साथ-साथ सैलानी भी उठा रहे हैं. जी हां ठंड के मौसम में जैसे ही विदेशों में अधिकतर इलाकों में बर्फ जमने लगती है तो सात समुंदर पार कर विदेशी परिंदे हस्तिनापुर पहुंचते हैं.

    हर साल 50 से ज्यादा पर प्रजातियों के आते हैं पक्षी

    हस्तिनापुर सेंचुरी की बात की जाए तो हर साल 50 से ज्यादा प्रजातियों के प्रवासी पक्षी मखदुमपुर घाट, भीमकुंड सहित अन्य झीलों वाले इलाकों में देखने को मिलते हैं. डीएफओ राजेश कुमार ने बताया कि प्रवासी पक्षियों को देखते हुए हर साल विशेष व्यवस्था की जाती है. ताकि इनका कोई शिकार ना कर सकें. इस समय भी इनके लिए विशेष व्यवस्था की गई है.

    गंगा का किनारा है पक्षियों की पहली पसंद
    प्रवासी पक्षियों को गंगा के किनारे काफी पसंद आते हैं.क्योंकि आसपास घास होने के कारण वहां विभिन्न कीड़े पाए जाते हैं. जो प्रवासी पक्षियों के भोजन के लिए काफी अच्छे होते हैं. इसी वजह से वह हस्तिनापुर के विभिन्न गंगा तटीय इलाकों में देखने को मिलते हैं.

    हर साल आते है प्रवासी पक्षी
    हर साल यूरोप अमेरिका और साइबेरिया आदि महाद्वीपों से पाइड एवोसेट, काटन टील, गेडवेल, मलार्ड, नोर्दन स्वालर और नोर्दन पिंटेल, स्पून बिल, ब्लेक नेक्ड स्ट्रोक, यूरोशियन कर्लीव और सुर्खाब सहित करीब 50 प्रजातियों के प्रवासीपक्षियों का आना नवंबर में शुरू हो जाता है. यह सर्दी के महीने में इन्हीं क्षेत्रों में रहते हैं.

    रिपोर्ट
    विशाल भटनागर मेरठ

    Tags: मेरठ

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर