• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • मेरठ : सड़क किनारे मिली तेंदुए और हिरण की खाल, परीक्षण के लिए WII देहरादून भेजे जाएंगे सैंपल

मेरठ : सड़क किनारे मिली तेंदुए और हिरण की खाल, परीक्षण के लिए WII देहरादून भेजे जाएंगे सैंपल

ये खाल गंगानगर से अब्दुल्लापुर तक जाने वाली सड़क के किनारे सर्विस रोड से पर मिली है.

ये खाल गंगानगर से अब्दुल्लापुर तक जाने वाली सड़क के किनारे सर्विस रोड से पर मिली है.

wildlife : वन विभाग क अधिकारियों के मुताबिक, पहली नजर में ऐसा लगता है कि ये खालें 20 से 25 साल पुरानी हैं और वाइल्डलाइफ ट्रॉफी के रूप में किसी ने घर आदि से निकाल कर फेंक दिया है. वन विभाग की टीम के अनुसार खाल के पीछे की साइड में केमिकल की लेयर है जो ट्रॉफी में चिपकने के लिए काम आती है.

  • Share this:

मेरठ. मेरठ वन विभाग टीम ने स्थानीय नागरिक की सूचना पर दो वन्यजीवों की खाल बरामद की है. ये खाल गंगानगर से अब्दुल्लापुर तक जाने वाली सड़क के किनारे सर्विस रोड से पर मिली है. बताया जाता है कि ये खाल तेंदुआ और हिरण की है. स्थानीय नागरिक से सूचना प्राप्त होने पर डीएफओ मेरठ ने तुरंत टीम को मौके पर भेजा. एसडीओ सुभाष चौधरी, वन दरोगा मोहन सिंह, कमलेश, गौरव और रीना की टीम जब मौके पर पहुंची तो उन्हें सड़क किनारे तेंदुए और हिरण की खाल पड़ी मिली.

वन विभाग क अधिकारियों के मुताबिक, पहली नजर में ऐसा लगता है कि ये खालें 20 से 25 साल पुरानी हैं और वाइल्डलाइफ ट्रॉफी के रूप में किसी ने घर आदि से निकाल कर फेंक दिया है. वन विभाग की टीम के अनुसार खाल के पीछे की साइड में केमिकल की लेयर है जो ट्रॉफी में चिपकने के लिए काम आती है. इस मामले में वन्य जीव अधिनियम के तहत केस दर्ज कर लिया गया है. ये खालें परीक्षण के लिए WII देहरादून सैंपल भेजी जाएंगी, ताकि इनकी वास्तविक स्थिति का पता लगाया जा सके. आसपास के इलाके में पूछताछ और तलाशी भी की जा रही है. वन्यजीव सप्ताह के दौरन टीम ने ऑपरेशन क्लीनआउट चला रखा है जिसमे काफी सफलता भी मिल रही है.

बता दें कि वन विभाग मेरठ ने ऑपरेशन क्लीन आउट चला रखा है. अब तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है. ये तीनों वन्य जीव विहार में वन्य जीव के अवैध शिकार से जुड़े हैं. वन विभाग मेरठ सामान्य जनमानस से भी अनुरोध कर रहा है कि वन्यजीव अपराध से जुड़ी कोई भी सूचना लोकल रेंज कार्यालय या पुलिस थाने में अवश्य दें जिससे निर्दोष स्वच्छंद निवास करने वाले वन्यजीवों के जीवन की सुरक्षा की जा सके.

जिला वन अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि प्रथम द्रष्टया बरामद ये अवशेष हिरण सहित अन्य जानवरों के मालूम पड़ते हैं. पुष्टि के लिए अवशेष को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है. वहीं गिरफ्तार आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. वन विभाग के अधिकारियों को मौके से कई जंगली जीवों के अवशेष प्राप्त हुए, जिनमें सेही के कांटे, हिरन के सींग, जंगली जीवों के शिकार करने में प्रयुक्त होने वाले उपकरण बरामद हुए हैं. जिला वन अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि तीनों आरोपी मेरठ के ही एक गांव के रहने वाले हैं. हस्तिनापुर के गांव खोड़ दयालपुर के जंगल से जीवों के अवशेष सहित तीन आरोपियों को दबोचा गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज