लाइव टीवी

मेरठ: दो दिनों से भूखा परिवार पहुंचा थाने तो इंस्पेक्टर ने दिखाई दरियादिली, घर से मंगाकर दिया राशन
Meerut News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 26, 2020, 8:51 AM IST
मेरठ: दो दिनों से भूखा परिवार पहुंचा थाने तो इंस्पेक्टर ने दिखाई दरियादिली, घर से मंगाकर दिया राशन
इमरान ने इन्स्पेत्कोर बिजेंद्र पल सिंह राणा का शुक्रिया अदा किया

Lockdown: कंकरखेडा के लाला मोहम्मदपुर गांव निवासी इमरान के घर में दो दिन से खाना बनाने के लिए राशन तक नहीं था. ऐसे में उन्‍होंने पुलिस से गुहार लगाई थी.

  • Share this:
मेरठ. कोरोनावायरस (Coronavirus) जैसी घातक बीमारी से पूरा देश लॉकडाउन (Lockdown) कर दिया गया है. इस दौरान मेरठ शहर के कंकरखेड़ा क्षेत्र में एक मजदूर का परिवार भूख-प्यास से तड़पता हुआ घर में ही पड़ा रहा. बुधवार को मजदूर थाने पहुंचा, जहां उसने पुलिस से मदद की गुहार लगाई. पुलिस ने उसकी न सिर्फ मदद की, बल्कि उसके घर राशन भी पहुंचवाया.

दो दिनों से घर में नहीं था राशन
कंकरखेडा के लाला मोहम्मदपुर गांव के रहने वाले इमरान पुत्र हकीमुद्दीन के घर में दो दिन से खाना बनाने के लिये राशन तक नहीं था. उसका पूरा परिवार दो दिन से भूखा प्यासा घर के अंदर कैद था. बुधवार सुबह इमरान अपनी पत्नी आशिमा, दो बेटों और दो बेटियों के साथ कंकरखेडा थाने पहुंचा. वहां उन्‍होंने कंकरखेड़ा थाना प्रभारी को अपनी व्यथा सुनाई. इमरान ने बताया कि मजदूरी न चल पाने के कारण उनका पूरा परिवार दो दिन से भूखा है, उनके घर में खाना बनाने के लिए राशन नहीं है. उनके बच्चे बहुत परेशान हैं. इस तरह तो वह और उसका परिवार जिंदा नहीं रह पाएगा. मजदूर का दर्द सुनकर थाना प्रभारी बिजेन्द्र पाल सिंह राणा ने पूरे परिवार को अपने ऑफिस में बैठाया और तुरंत अपने घर से राशन मंगाकर दिया. थाना प्रभारी ने अपनी तरफ से इमरान को 500 रुपये भी दिये.

meerut inspector
थाना प्रभारी बिजेन्द्र पाल सिंह राणा ने दिखाई मानवता.




इंस्पेक्टर ने आगे भी मदद की बात कही
थाना प्रभारी बिजेन्द्र पाल सिंह राणा ने इमरान से परेशान न होने को कहा. उन्‍होंने इमरान से कहा कि घर पर पहुंचकर अपने बच्चों को खाना बनाकर खिलाओ और आगे भी तुम्हारी मदद की जाएगी. इमरान और उनके पूरे परिवार के सभी सदस्यों ने थाना प्रभारी बिजेन्द्र पाल सिंह राणा का शुक्रिया अदा किया. वहीं, थाना प्रभारी की इस पहल की हर तरफ तारीफ की जा रही है.

परिवार ने कहा शुक्रिया
इमरान ने बताया, 'मैं थाने जाने से पहले अपने इलाके के पार्षद से मिला था तो उन्होंने मेरी कोई मदद नहीं की और उल्टा मेरे पर ही आरोप लगाने लगे कि मैं शराबी हूं. मेरे बच्चे भूखे मर रहे थे तो मेरे पड़ोस में रहने वाले पड़ोसियों ने मेरी मदद की. मैं अल्लाह दुआ करूंगा कि कंकरखेड़ा थानाध्यक्ष की तरक्की हो और अल्लाह उनकी हिफाजत करे.'

ये भी पढ़ें:-

COVID-19: यूपी में पान-मसाला और गुटखा पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की तैयारी

COVID-19: यूपी 112 सेवा की इस महिला कांस्टेबल के जज्बे को ADG ने किया सलाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 8:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर