मेरठ में बोलीं मायावती- देवबंद में गठबंधन की रैली के बाद बीजेपी की नींद उड़ी

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि भीड़ बता रही है कि गठबंधन के लोगों पर नरेंद्र मोदी की शराब का ऐसा नशा चढ़ा है कि यहां के लोग अब गठबंधन के उम्मीदवार को रिकॉर्ड वोटों से जिताएंगे,.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 8, 2019, 3:08 PM IST
मेरठ में बोलीं मायावती- देवबंद में गठबंधन की रैली के बाद बीजेपी की नींद उड़ी
बसपा प्रमुख मायावती। फाइल फोटो।
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 8, 2019, 3:08 PM IST
बसपा सुप्रीमो मायावती ने सोमवार को मेरठ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए बीजेपी और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि देवबंद में हुई गठबंधन की पहली संयुक्त रैली के बाद बीजेपी की नींद उड़ी हुई है. नमो नमो का जाप करने वाले बीजेपी कार्यकर्ताओं के होश उड़ गए हैं.

रैली को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि गठबंधन को नुकसान पहुंचाने के लिए कांग्रेस ने प्रत्याशी उतारे हैं. देवबंद की रैली के बाद बीजेपी की नींद उड़ी है. वेस्ट यूपी के जय भीम वाले बीजेपी को मात देंगे. बीजेपी ने पूंजीपतियों को मालामाल किया. साथ ही उन्होंने कहा कि गठबंधन को लेकर विरोधी पार्टियों और मीडिया ने भ्रामक प्रचार किया.

बसपा सुप्रीमो ने इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, "पीएम पर शराब का नशा चढा है. बीजेपी के आवारा पशुओं ने किसानों को बर्बाद किया. जीएसटी और नोटबंदी से बेरोजगारी बढ़ी. बीजेपी सरकार में देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं हैं. सरकार सीबीआई और ईडी का दुरुपयोग करने में लगी है. कांग्रेस, बीजेपी के चुनावी घोषणा पत्र हवा हवाई हैं. बीजेपी का 15 लाख देने का दावा गरीबों के लिए मजाक बना. कांग्रेस भी प्रलोभन भरे चुनावी वादे कर रही है."

इस दौरान मायावती ने भी वादा किया कि उनकी सरकार बनने के बाद अति गरीब परिवार को सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में नौकरियां दी जाएगी.

हापुड़ रोड पर हुई गठबंधन की रैली में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि भीड़ बता रही है कि गठबंधन के लोगों पर नरेंद्र मोदी की शराब का ऐसा नशा चढ़ा है कि यहां के लोग अब गठबंधन के उम्मीदवार को रिकॉर्ड वोटों से जिताएंगे और भाजपा भाजपा उम्मीदवारों को बुरी तरह से पराजित कर देंगे. बीजेपी वाले चाहे कितने भी नमो-नमो करते हैं पर जय भीम वाले उनकी जमानत जब्त करा देंगे.

उन्होंने कहा कि देश में दलित, अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न बढ़ा है। खासकर जिन राज्यों में भाजपा की सरकार हैं वहां उत्पीड़न ज्यादा है. गरीब सवर्णों, 10 प्रतिशत लोगों को आरक्षण से उत्थान होने वाला नहीं है. केंद्र ने नोटबंदी और जीएसटी को पूरी तैयारी के बगैर लागू किया, उससे देश में गरीबी, बेरोजगारी और बढ़ी. छोटे व मध्यम वर्गीय व्यापारी दुखी हैं. देश की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा प्रभाव पड़ा है. कांग्रेस के राज में बोफोर्स और भाजपा के राज में राफेल का मामला उदाहरण है. देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं है, आए दिन आतंकी घटनाएं होती रहती हैं.

ये भी पढ़ें- 
अखिलेश यादव के खिलाफ ताल ठोकेंगे अर्थी बाबा, आजमगढ़ का 'श्मशान घाट' होगा चुनाव कार्यालय

गाजियाबाद में सैटेलाइट से पकड़ी गई 15 करोड़ की टैक्स चोरी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...